बिजली का आविष्कार किसने किया और कब? बिजली की खोज किसने की?


बिजली का आविष्कार किसने किया और कब? बिजली की खोज किसने की? बिजली का आविष्कार मानव द्वारा किए गए सर्वश्रेष्ठ अविष्कारों में से एक है। आज के समय में हमें कई सारी सुविधाएं प्राप्त है जिनके माध्यम से हम अपने जीवन को आम से खास बना सकते हैं। ऐसे में हमें भी इन सुविधाओं के बारे में विस्तृत जानकारी होना आवश्यक माना गया है ताकि सही तरीके से इनका उपयोग किया जा सके। 

बिजली का आविष्कार किसने किया और कब? बिजली की खोज किसने की?

आज आज हम आपको बिजली के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं ताकि आप भी इस से जुड़ी कई प्रकार की सभी जानकारियों को हासिल कर सकें। वैसे तो बिजली के बारे में हम सभी को जानकारी सामान्यतया होती है परन्तु आज हम इसके इतिहास और इससे संबंधित उचित मार्गदर्शन देना चाहेंगे। 


तो चलिए फिर देखते हैं की आख़िर बिजली क्या है? बिजली का आविष्कार किसने किया और कब? बिजली की खोज किसने की?

बिजली क्या है?

अपने सामान्य दिनचर्या को सही बनाने के लिए बिजली का महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है। आज के समय में बिजली होना एक बहुत बड़ी बात मानी जा सकती हैं क्योंकि इसके माध्यम से कई प्रकार के कार्यों को पूर्ण किया जाता है। 

बिजली की व्यवस्था के माध्यम से देश के होने वाले मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा किया जाता है साथ ही साथ आर्थिक विकास में भी बिजली का विशेष योगदान माना गया है। बिजली ऐसी व्यवस्था है, जिसके माध्यम से हम अपने घर, ऑफिस या बाजार में  रोशनी की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं और अपने किसी भी कार्य को पूरा किया जा सकता है।

बिजली का आविष्कार किसने किया?

ऐसे तो बिजली के अविष्कार में Thels का नाम पहले आता है लेकिन अगर पूर्ण रूप से बिजली के विकास के बारे में सोचा जाए तो बिजली का आविष्कार 1800 में Alessandro volta ने किया था एवं उन्हीं के माध्यम से ही सबसे पहले विद्युत सेल के बारे में जानकारी प्राप्त हुई थी। धीरे-धीरे इस  अविष्कार में कई और वैज्ञानिकों का भी महत्वपूर्ण नाम आता है जिन्होंने के माध्यम से बिजली के बारे में जानकारी दी। 

बिजली का इतिहास?

एक मान्यता के अनुसार ईसा के लगभग 600 वर्षों पूर्व  बिजली की खोज की गई थी और धीरे-धीरे विकास भी किया गया था। इसके मद्देनजर ही आज उपयोग होने वाले बल्ब, टेलीफोन, रेडियो, पंखे, एसी, कूलर, फ्रिज का उपयोग हम  बिजली  के माध्यम से ही कर पाने में सक्षम हैं।  

ऐसे में अगर प्राचीन समय की बात की जाए तो यूनान के दार्शनिक और विज्ञानी Thels  को इस बारे में सबसे पहले जानकारी हुई थी कि यदि किसी प्रकार के सूखे पत्ते, पंख, कपड़ों को एक साथ रखकर रगड़ा जाए तो निश्चित रूप से ही उसे बिजली उत्पन्न की जा सकती है और उसके बाद से ही धीरे-धीरे करके कई प्रकार के नए उपकरणों की खोज की गई जो बिजली के द्वारा चलाए जाते थे और जिन से बिजली की खपत भी होती थी।

इसके बाद सन 1752 में एक अमेरिका के वैज्ञानिक बेंजामिन फ्रैंकलीन ने भी आकाश में प्रकाश की चमक के बारे में जानकारी दी और इसे भी उन्होंने बिजली का नाम दिया। जिसके लिए उन्होंने कई प्रकार के प्रयोग किए और अंत में उन्होंने साबित किया कि  बिजली को कई रूपों में देखा और समझा जा सकता है।

इसके बाद सन 1865 में एक फ्रांस के वैज्ञानिक जॉर्ज लेकलांसी ने एक बैटरी के माध्यम से बिजली उत्पन्न करने का प्रयोग किया जिसमें उन्होंने अमोनियम क्लोराइड और कार्बन का उपयोग किया और  बिजली  के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त  की।

इसके अलावा अंग्रेज वैज्ञानिक माइकल फैराडे ने भी चुंबक के माध्यम से बिजली  उत्पादन के बारे में जानकारी हासिल की। इसके अलावा उन्होंने बिजली से कई प्रकार के यंत्रों को बनाया और उसका उपयोग आज भी हम विस्तृत रूप से करते हैं बल्कि उनका उपयोग हम नए सिरे से एक नए प्रयोग के माध्यम से भी कर रहे हैं। 

बिजली उत्पादन के स्त्रोत 

आज के समय में बिजली के बिना कार्य कर पाना बहुत मुश्किल जान पड़ता है क्योंकि हमारा हर काम  बिजली पर ही निर्भर होता है। ऐसे में अगर विभिन्न प्रकार के चरणों में विद्युत धारा को एक स्थान से दूसरे स्थान पर करना हो, तो ट्रांसफार्मर की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। 

जैसा कि हमें पता है कि विद्युत धारा में यदि धारा की प्रबलता अधिक होती है, तो उस उत्पन्न ऊष्मा का मान अधिक हो जाता है और जिस वजह से विद्युत ऊर्जा का उसमें ऊर्जा में अपव्यय  होने लगता है।  ऐसे में बिजली उत्पादन के समय ऐसे मोटे तार की आवश्यकता होगी जिसके माध्यम से ट्रांसफार्मर में विद्युत धारा को आसानी के साथ प्रवाहित किया जा सके और इसका उपयोग हमारे घरों में हो सके। 


भारत में बिजली की शुरुआत कब हुयी?

यूं तो बिजली की खोज पहले ही की जा चुकी थी लेकिन भारत में पहली बार बिजली सन 1879 में कोलकाता में आई थी। बिजली आने के बाद कोलकाता में भी  बिजली फैक्ट्री का निर्माण किया गया और इसे ‘’कोलकाता इलेक्ट्रिक सप्लाई कॉरपोरेशन’’ का नाम दिया गया। 

इसके अलावा 1902 में मैसूर में जल विद्युत केंद्र बनाया गया जिसके माध्यम से भी बिजली का उत्पादन के साथ किया गया और  फिर 1905 में दिल्ली में बिजली का उत्पादन शुरू किया गया और इसे देश के अन्य शहरों, गांवों, कस्बों में पहुंचाया गया। इस प्रकार से बिजली उत्पादन की शुरुआत छोटे स्तर से करते हुए उसका पैमाना बढ़ाया गया ताकि देश को ज्यादा से ज्यादा बिजली उपलब्ध कराई जा सके। 

बिजली के प्रकार?

मुख्य रूप से पिछले दो प्रकार की होती है जिनका हम उपयोग ही करते हैं।

  1. दिष्ट धारा 
  2. प्रत्यावर्ती धारा 

बिजली के बारे में रोचक तथ्य?

  1. प्रतिवर्ष बिजली गिरने से मरने वालों में लगभग 70% पुरुष होते हैं।
  2. जब भी आसमान से बिजली नीचे गिरती है, तो उसमें लगभग 10 करोड वोल्ट बिजली होती है जबकि घर में जो करंट होता है उसमें सिर्फ 220 वोल्ट होता है। ऐसे में भी हमें घरों में सावधानी रखने की आवश्यकता होती है।
  3. भारत विश्व का तीसरा सबसे बड़ा विद्युत उत्पादक देश है साथ ही साथ तीसरा ही सबसे बड़ा उपभोग करता भी है।
  4. आइसलैंड  एक  ऐसा देश है, जो प्रति व्यक्ति के हिसाब से सबसे ज्यादा बिजली खर्च करता है। 
  5. इसके अलावा हम जो गूगल का उपयोग करते हैं उसमें भी लगभग 60 वाट बिजली का इस्तेमाल  होता है,  जिसके माध्यम से केवल प्रकाश को 17 सेकंड तक जलाया जा सकता है। 
  6. अमेरिका के राष्ट्रपति बेंजामिन हैरिसन ने सबसे पहले व्हाइट हाउस में बिजली का निर्माण करवाया था लेकिन डर की वजह से उन्होंने कभी भी  स्विच बोर्ड  को नहीं  छुआ था।
  7. सभी धातुएं बिजली की सुचालक होती हैं। 
  8. पानी ने उपस्थित अशुद्धियों की वजह से ही पानी से बिजली उत्पन्न की जा सकती है।
  9. पृथ्वी की सतह पर पहुंचने वाली धूप के माध्यम से बिजली का उत्पादन किया जा सकता है।
  10. अगर मशरूम को बिजली के झटके दिए जाते हैं, तो निश्चित रूप से ही उसकी वृद्धि  को बढ़ाया जा सकता है।

बिजली का उपयोग?

आज के समय में अधिकतर चीजों का उपयोग हम बिजली के माध्यम से करते हैं। ऐसे में हम आपको कुछ मुख्य बिजली के उपयोग से अवगत कराना चाहेंगे। 

  1. बिजली का उपयोग मुख्य रूप से मनोरंजन करने में किया जाता है, जिस में मुख्य रुप से रेडियो, टेलिविजन, कंप्यूटर,  लैपटॉप, सीडी प्लेयर का उपयोग किया जाता है। 
  2. ऐसे में देश और विदेश में होने वाले विभिन्न प्रकार के खेलों का आयोजन भी हम टीवी के माध्यम से देखते हैं और टीवी हमेशा बिजली  के माध्यम से ही चलती है।
  3. बिजली का उपयोग मुख्य रूप से भारी मशीनों में किया जाता है।
  4. इसके अलावा ट्रेन  और  ट्रेम जैसी परिवहन की सुविधाएं भी बिजली के माध्यम से ही उपलब्ध हो पाती हैं।
  5. आज के समय में बिजली के माध्यम से खाना भी बनाया जा सकता है और इससे वायु प्रदूषण जैसी समस्या भी नहीं हो पाती है।
  6. इसके अलावा घरों में काम आने वाले विभिन्न प्रकार के  उपकरण  जैसे फ्रिज, वाशिंग मशीन, पंखे, कूलर, एसी, कंप्यूटर  का उपयोग भी बिजली के माध्यम से किया जाता है।

बिजली संरक्षण पर आवश्यकता टिप्पणी

हम सभी बिजली का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करते हैं और ऐसे में हमारी नैतिक जिम्मेदारी होती है कि हम बिजली  को संरक्षित कर सके और उसका उपयोग सही तरीके से किया जा सके। ऐसे में देखा जाता है कि लोग बिजली का गलत फायदा उठाते हैं और बिजली संरक्षण की ओर ध्यान नहीं देते हैं। अगर बिजली संरक्षण कर लिया जाए तो इससे आने वाली पीढ़ी  को सुविधाएं ज्यादा से ज्यादा दी जा सकेगी और किसी प्रकार की दिक्कत भी नहीं होगी।  ऐसे में हम आपको बिजली बचाने के कुछ नायाब तरीके बताने वाले हैं जिनसे आपको फायदा हो सकता है—

  1. जब भी किसी कमरे से बाहर जाएं तो उस कमरे के सभी लाइट, पंखे को बंद करें जिससे बिजली की बचत की जा सके।
  2. जब भी किसी  इलेक्ट्रॉनिक  उपकरण को  बंद करें तो हमेशा मेन स्विच से ही उसे बंद करना चाहिए।
  3. अगर पावर स्ट्रिप्स  का इस्तेमाल किया जाए, तो इसके माध्यम से बिजली बचत हो सकती है।
  4. बिजली बचत के बारे में घर में उपस्थित छोटे बच्चों को भी जानकारी देना चाहिए और उन्हें हमेशा  स्विच बोर्ड से दूर रहने की सलाह देना चाहिए।
  5. अपने घर के आस-पास  जल रही लाइट को बंद कर देना चाहिए जिससे कि बिजली बचाई जा सके।
  6. हमेशा डेस्कटॉप की जगह लैपटॉप का इस्तेमाल करना सही माना जाएगा।
  7. अगर आप खाना बनाने के लिए ओवन का उपयोग करते हैं,तो इसकी जगह  माइक्रोवेव  का इस्तेमाल करना सही होगा।
  8. अगर आप सामान्य टीवी  का उपयोग करते हैं, तो ऐसे में आपको एलईडी का उपयोग करना फायदेमंद होगा क्योंकि इसकी वजह से बिजली बचाई जा सकेगी। 

तो साथियों उपरोक्त बिंदुओं का अध्ययन करने के बाद हमें मालूम होता है की हमें निरंतर रूप से ध्यान रखते हुए बिजली का सही तरीके से इस्तेमाल करना होगा ताकि इसे  बचाया  जा सके और भावी पीढ़ी को भी सही तरीके से इस बारे में अवगत कराया जा सके ताकि वे भी अपने जीवन में गलतियों को ना दोहराएं और सही तरीके से आगे बढ़कर बिजली का सही उपयोग करना सीख सके।  

बिजली का महत्व?

आज के समय में बिजली को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। बिना बिजली  के रहना हमारे लिए मुश्किल हो जाएगा और हम सही तरीके से अपना कार्य नहीं कर पाएंगे। आज के समय में सुबह से लेकर रात तक हमें बिजली की आवश्यकता होती है जिसमें हम दिन भर में कई प्रकार के उपकरण का उपयोग करते हैं और अपने दिनचर्या को आसान बनाने का काम करते हैं।  इसके अलावा बड़े बड़े कारखानों, हॉस्पिटल, फैक्ट्रियों में भी बिजली को खास महत्व दिया गया है क्योंकि बिजली की वजह से ही बड़े बड़े कारोबार सही तरीके से चल पाते हैं।

अतः यह कहना अनुचित नहीं होगा कि बगैर बिजली के आधुनिक जमाने में हम सुखद जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते,  सोचिए अगर एक दिन भी घर में बिजली नहीं होती तो कैसा महसूस होता है? जो भी हमारे प्राकृतिक संपदा होती हैं उनका सही तरीके से इस्तेमाल करना और उनका बचाव करना हमारी जिम्मेदारी बन जाती है। ऐसे में हमने आपको जानकारी दी है कि आप बिजली का सही तरीके से इस्तेमाल करते हुए उसका बचाव ही कर सकते हैं। 

कई बार ऐसा होता है कि हम अपनी लापरवाही की वजह से सही तरीके से कार्य नहीं कर पाते और लगातार  गलतियां करते चले जाते हैं। बिजली के निर्माण में कई प्रकार की बाधाएं सामने आई हैं, जिनका  हमने समय रहते  सही तरीके से हटाना सीखा है और आने वाले समय में भी कई प्रकार के प्रयास किए जा रहे हैं जिसके माध्यम से सही तरीके से बिजली का बचाव किया जा सके और बिजली को उपयोग में लाया जा सके। 

तो साथियों इस प्रकार से आज हमने जाना कि बिजली हमारे लिए बहुत ही आवश्यक है और इसके बिना रह पाना हमारे लिए बहुत मुश्किल है। और बिजली का आविष्कार किसने किया और कब? बिजली की खोज किसने की? हमने पूरी कोशिश की है कि हम आपको बिजली से संबंधित पूरी जानकारी दे सकें। उम्मीद करते हैं हमारी यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी इसे अंत तक पढ़ने के लिए आप सभी लोगों का बहुत-बहुत धन्यवाद। 


Hope की आपको बिजली का आविष्कार किसने किया और कब? बिजली की खोज किसने की? का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here