क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है? – What Is Cloud Computing In Hindi

0

दोस्तों क्लाउड कंप्यूटिंग का नाम तो आपने पहेले कभी ना कभी सुना ही होगा, पर अगर आप क्लाउड कंप्यूटिंग के बारे में डिटेल से जानना चाहते हो तो आज इस पोस्ट में हम जानिंगे की आख़िर क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है? (What Is Cloud Computing In Hindi) कैसे काम करता है? इसके उपयोग और फ़ायदे क्या है? All About Cloud Computing In Hindi?


कंप्यूटर आने के बाद से धीरे धीरे हमारे कार्य करने के तरीके में बदलाव लाया! उसके बाद इंटरनेट को लांच किया तो हमारे कार्य पहले से और भी अधिक सुविधाजनक एवं फास्ट होने लगे! और इसी इंटरनेट और जब हम कंप्यूटर को मिला देते हैं तो इसका संबंध cloud computing से हो जाता है!


दोस्तों यदि आप एक Beginner है, और सुनने में cloud computing आपको लंबा चौड़ा शब्द लगता है, तो बता दूं इसका अर्थ बेहद सरल है और इस लेख में मै आपको इससे संबंधित कुछ अहम बातें, आसान शब्दों में इस आर्टिकल में बताने वाला हूं! तो चलिए सबसे पहले हम जानते हैं क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है? – What Is Cloud Computing In Hindi?

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है? – What Is Cloud Computing In Hindi

जब इंटरनेट के माध्यम से IT Resources को transfer या फिर deliver किया जाता है तो यह प्रक्रिया क्लाउड कंप्यूटर कहलाती है। दोस्तों आइए इसे थोड़ा आसान बनाते हैं, जैसा कि आप जानते हैं विश्व में आज इंटरनेट का जाल फैला हुआ है अतः आज IT resourves information technology से जुड़ी चीजें जैसे सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर को जब इंटरनेट के जरिए ही डिलीवर किया जा सकता है।

और इस डाटा या प्रोग्राम को जब इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस किया जाता हैं उसे cloud computing कहते है। दोस्तों क्लाउड कंप्यूटिंग की मुख्य विशेषता यह है कि data को physical रूप से नहीं बल्कि virtually करता है! अतः आपको फिजिकली किसी डाटा सेंटर को Buy करने तथा उसे Maintain करने की आवश्यकता नहीं रहती और आपका डाटा इंटरनेट पर स्टोर रहता है।

आप क्लाउड कंप्यूटिंग को कुछ इस तरह भी समझ सकते हैं जब आप अपने डाटा को किसी लोकल फिजिकल स्टोरेज जैसे HDD, ssd, pendrive डिवाइस के स्थान पर इंटरनेट पर आधारित किसी स्टोरेज डिवाइस जैसे google drive, dropbox पर स्टोर करते हैं तो वह cloud कंप्यूटिंग कहलाता है।

यहां क्लाउड कंप्यूटर के साथ-साथ क्लाउड स्टोरेज को भी समझना जरूरी है। डाटा को इंटरनेट पर स्टोर करना हो तो उसे हम क्लाउड स्टोरेज कहते हैं, सामान्यतया हमारे कंप्यूटर का डाटा हार्ड ड्राइव में स्टोर होता है और उस डाटा को हमें एक्सेस करने के लिए उसी कंप्यूटर का इस्तेमाल करना पड़ता है जिस पर वह डाटा स्टोर हो लेकिन यदि वही डांटा इंटरनेट पर स्टोर हो तो हम किसी भी डिवाइस से कभी भी इंटरनेट के जरिए उसे एक्सेस कर सकते हैं।

यह भी पढ़े: डाटाबेस (Database) क्या है? – What Is Database In Hindi

Example of Cloud Computing in Hindi

Facebook, Gmail, Google drive, apple icloud के बारे में आप जानते होंगे! तो इनमे से किसी में भी यदि इंपॉर्टेंट डाटा store मौजूद है! तो उस डाटा को एक्सेस करने के लिए आपको हर बार इंटरनेट की जरूरत पड़ती है। अतः यह क्लाउड कंप्यूटिंग का एक बेस्ट एग्जांपल है जहां हमारा data किसी फिजिकल स्टोरीज की जगह क्लाउड पर स्टोर होता है।

दोस्तों अब हम संक्षेप में cloud computing को समझें तो ऐसी कंप्यूटिंग जो पूरी तरह इंटरनेट पर निर्भर हो वह क्लाउड कंप्यूटिंग कहलाती है। आज मार्केट में कई सारी ऐसी कंपनी, संस्थाएं हैं जो क्लाउड सर्विस प्रदान करती हैं और अपने क्लाइंट्स का का डाटा cloud सर्वर पर स्टोर करती हैं जिससे कभी भी वह यूजर जिसे उस डाटा को एक्सेस करने का अधिकार है उस डाटा को इंटरनेट से कहीं भी कभी भी Access कर सके!


क्लाउड कंप्यूटिंग के अंतर्गत कई सारी चीजें जैसे कि servers, storage, databases, networking, software, analytics इत्यादि कंप्यूटर के विभिन्न रिसोर्सेज शामिल हैं। क्या आप जानते हैं आज के समय में व्यापार में कई कंपनियां, संस्थाएं क्लाउड कंप्यूटिंग को अपना रही हैं! तो क्या यह इसमें खास इसे जानने के लिए हमें अब इसके फायदों के बारे में समझना होगा.

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है? – Advantages Of Cloud Computing In Hindi

Cost

क्लाउड कंप्यूटिंग ने हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर में लगने वाली पूंजी को काफी कम किया है तथा इसके सेटअप निर्माण के लिए efforts में भी कमी आई है। आप low cost में सब्सक्रिप्शन प्लान के आधार पर इसमें सेवा ले सकते हैं और उसका इस्तेमाल कर सकते हैं! मार्केट में कई ऐसे cloud प्रोवाइडर्स हैं जो शानदार विश्वसनीय, सुविधा प्रदान करते हैं और कई ऐसे क्लाउड प्रोवाइडर हैं!

जिनका 99.99% uptime होता है जिसका मतलब है कि काफी कम सिस्टम की failure होने के chances रहते हैं और आपका डाटा हमेशा इंटरनेट पर लाइव होता है अतः यह भी एक मुख्य कारण है जिससे आजकल डाटा स्टोर करने के लिए भी क्लाउड storage को prefer किया जा रहा हैं!

Security

साथ ही सिक्योरिटी की भी बात की जाए तो इस मामले में क्लाउड कंप्यूटिंग को काफी सुरक्षित माना जा सकता है दोस्तों चूंकि डेटा क्लाउड पर स्टोर रहता है तो आपके सिस्टम में कोई failure हो भी आ जाता तो इस स्थिति में भी आप किसी दूसरे डिवाइस से अपने डाटा को एक्सेस कर सकते हैं।

इसके अलावा सिस्टम हैक होने या किसी गलत व्यक्ति के हाथों में चला जाता है तो फिर आप रीमोटली डाटा को भी डिलीट कर सकते हैं! और अपने डाटा को सुरक्षित रख सकते हैं जो कि क्लाउड कंप्यूटिंग का एक बेस्ट फायदा है!

Pay for Used Resources

आजकल बड़े बड़े एंटरप्राइज और संस्थाएं क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीक को इसलिए भी अपना आ रही है, क्योंकि क्लाउड कंप्यूटिंग आपको यह सुविधा देता है कि आपको जितने रिसोर्सेज की आवश्यकता, है उतने की ही आपको पेमेंट भी करनी है, इससे न सिर्फ पैसों की बचत होती है!

दूसरी तरफ बिना वजह के use होने वाली रिसोर्सेज एवं एनर्जी की भी बचत की जाती है!

On Time Service

दोस्तों इसके अलावा क्लाउड कंप्यूटिंग ऑन- डिमांड सेल्फ-सर्विस देता है जिसका मतलब है कि यदि आपको Storage Space, Database, जैसे IT resources की जरूरत पड़ती है तो आप बिना क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर से contact किए बगैर खुद ही इन रिसोर्सेज का इस्तेमाल कर सकते हैं।

हालांकि Extra Resources के इस्तेमाल के लिए आपको pay करना होगा।

EASY Maintenance

क्लाउड कंप्यूटिंग यह सुविधा देती है, जिससे मेंटेनेंस काफी आसान एवं सुविधाजनक बनाया जा सके? जो क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा इस्तेमाल करता है उसे एक सिंपल इंटरफेस मिलता है अर्थात उसे न तो कोई इंस्टॉलेशन न ही setup की आवश्यकता पड़ती है.

साथ ही समयानुसार क्लाउड कंप्यूटिंग को अपडेट किया जाता है और आपको बेहतर आईटी सर्विस, मैनेजमेंट, मेंटेनेंस की सुविधा भी इसमें मिल जाती है जिससे बिना टेक्निकल नॉलेज वाला यूजर, कंपनी क्लाउड कंप्यूटिंग का इस्तेमाल कर सकती हैं.

Automatic Update

क्लाउड कंप्यूटिंग में आप जिस server का इस्तेमाल करते हैं वह रेगुलरली अपडेट होता रहता है, इससे आपको डाटा सिक्योरिटी का फायदा होता है साथ ही आपको  बार बार अपडेट की वजह से सिस्टम को मेंटेन करने की भी दिक्कत नहीं होती है!

और अपने कीमती समय को बचाकर आप अपने कार्य में अधिक fouces कर पाते हैं.

Work From Anywhere

और सबसे बड़ा फायदा आप चाहे दुनिया के किसी भी कोने में हैं, यदि आपके पास इंटरनेट कनेक्शन मौजूद है तो क्लाउड कंप्यूटिंग आपको कहीं से भी कार्य करने की सुविधा देती है आप अपने डिवाइस में इंटरनेट से connect होकर अपना कार्य कर सकते हैं।

तो साथियों क्लाउड कंप्यूटिंग की इन विशेषताएं को जानकर आपको क्लाउड कंप्यूटिंग की महत्वता को जानने में आसानी हुई होगी अब हम जानते हैं.

क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रकार – Types of Cloud Computing in Hindi

सबसे common एवं सबसे अधिक इस्तेमाल में लाई जाने वाली क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विस को विभिन्न भागों में बांटा गया है! जो कि निम्नलिखित हैं.

IAAS

Iaas एक लोकप्रिय क्लाउड कंप्यूटिंग मॉडल है जो कि इंस्टेंट कंप्यूटिंग इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोवाइड करता है, इसकी एक विशेषता है कि  डिमांड के मुताबिक इसके रिसोर्सेज को कम या अधिक किया जा सकता है अतः आप जितने रिसोर्सेज का उपयोग करते हैं उतना ही आपको pay करना पड़ता है।

क्लाउड कंप्यूटिंग का यह प्रकार IAAS आपको खुद के फिजिकल सर्वर को खरीदने या मैनेज करने से निजात दिलाता है। क्लाउड कंप्यूटिंग में यह प्रकार आपके रिसोर्सेज में निम्न स्तर का कंट्रोल प्रदान करता है।

साल 2010 में IAAS एक लोकप्रिय कंप्यूटिंग मॉडल के रूप में सामने उभरा है, और तब से लेकर व्यवसाय में इसका काफी अधिक होता है।

PAAS

क्लाउड कंप्यूटिंग के अंतर्गत paas आपको सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन को चलाने के लिए सहायक होता है!

Cloud कम्प्यूटिंग का यह प्रकार Resources procurement, capacity planning, software maintenance, patching की आपूर्ति करता है। Iaas की तरह ही इसमें भी infrastructure—servers, storage and networking मौजूद होते हैं परंतु middleware, development tools, business intelligence (BI) services, database management systems की सेवाएं प्रदान करता है।

दोस्तों संक्षेप में कहें तो PAAS नामक क्लाउड कंप्यूटिंग का यह प्रकार वेब एप्लीकेशन को build करने, testing, deploying, managing and updating हेतु सपोर्ट के लिए डिजाइन किया गया है।

SAAS

SAAS के अंतर्गत IAAS और PAAS दोनों ही शामिल है इसमें भी आप जितना रिसोर्सेज यूज करते हैं उसके लिए आपको Pay करना पड़ता है।

SAAS के कई कॉमन उदाहरण हैं जिन्हें हम अपनी दैनिक जिंदगी में भी इस्तेमाल करते हैं जैसे कि Microsoft Office 360, AppDynamics, Adobe Creative Cloud, Google G Suite, Zoho, Salesforce, Marketo, अतः saas के अंतर्गत आने वाले इन सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन को इस्तेमाल करने की अनुमति देता है! इन्हें न तो आपको अपने डिवाइस में इंस्टॉल करने की जरूरत है कोई भी इंटरनेट के जरिए इनका इस्तेमाल कर पाता है।

Types of Cloud Deployments in Hindi

Public Cloud

क्लाउड कंप्यूटिंग का एक term है पब्लिक क्लाउड, इसे उस सेवा के रूप में डिफाइन किया जाता है जहां  third party providers कंप्यूटिंग सेवा प्रदान करते हैं! कोई भी इन कंप्यूटिंग सेवाओं को इस्तेमाल करने के लिए परचेस कर सकता है। यह कंप्यूटिंग सेवाएं या तो फ्री हो सकती है या ऑन डिमांड हो सकती हैं। जहां पर कस्टमर CPU cycles, storage or bandwidth जैसे रिसोर्सेज का जितना उपयोग करते हैं उतने के लिए उन्हें पेमेंट करनी पड़ती है।

प्राइवेट क्लाउड की तुलना में पब्लिक क्लाउड का इस्तेमाल करना किसी भी व्यवसाय या कंपनी के लिए hardware and application infrastructure को खरीदने, मैनेज करने के खर्चे की बचत कर सकता है! और जहां, तक बात है सिक्योरिटी की तो पब्लिक क्लाउड इस मामले में भी सिक्योर होते हैं यदि क्लाउड प्रोवाइडर प्रॉपर तरीके से सिक्योरिटी का इस्तेमाल करें।

Private

जहां पब्लिक क्लाउड में कोई भी यूजर रिसोर्सेज का इस्तेमाल कर सकता है वहीं प्राइवेट क्लाउड में ऐसा नहीं होता है क्योंकि प्राइवेट क्लाउड के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली कंप्यूटिंग सेवाएं या तो इंटरनेट से या फिर किसी ऐसे इंटरनल नेटवर्क के जरिए प्रोवाइड की जाती है जहां पर कुछ सिलेक्टेड यूजर ही उन सेवाओं का उपयोग कर सकें.

हालांकि प्राइवेट क्लाउड के किसी बिजनेस में इस्तेमाल करने के कई सारे फायदे हो सकते हैं इसमें पब्लिक क्लाउड की तरह ही self-service, scalability& elasticity –  साथ ही डेडीकेटेड रिसोर्सेज की तरफ से अधिक कंट्रोल एवं कस्टमाइजेशन मिलता है।

इसके अलावा दोस्तों प्राइवेट क्लाउड की एक जो सबसे बड़ी खासियत है वह हायर लेवल की सिक्योरिटी एवं प्राइवेसी प्रदान करना। कंपनी के firewall एवं इंटरनल होस्टिंग के जरिए प्राइवेट क्लाउड डाटा को प्राइवेट एवं सिक्योर बनाता है ताकि किसी भी तरह थर्ड पार्टी प्रोवाइडर तक आपका डाटा न पहुंच सके।

Hybrid Cloud

हाइब्रिड क्लाउड पब्लिक एवं प्राइवेट क्लाउड का मिश्रण combination है जो कि व्यवसाय में अधिक फ्लैक्सिबिलिटी के लिए जाना जाता है।

साथ ही हाइब्रिड क्लाउड, पब्लिक एवं प्राइवेट क्लाउड के बीच ऐसा environment तैयार करता है जिससे डाटा एवं एप्लीकेशंस के बीच शेयर किए जा सके! एक हाइब्रिड क्लाउड का इस्तेमाल करने से न सिर्फ कंपनी में रिसोर्सेज को scale करने में आसानी होती है, बल्कि एडीशनल रिसोर्सेस के लिए पैसा खर्च करने के स्थान पर सिर्फ उन्हीं रिसोर्सेज के लिए कंपनी को pay करना पड़ता है जिसका वह इस्तेमाल करती हैं।

इसलिए हाइब्रिड लाउड को सबसे बेस्ट माना जाता है क्लाउड से होने वाले सभी फायदे flexibility, scalability, and cost efficiencies— इसमें मौजूद होते हैं. साथियों अब तक हम cloud कंप्यूटर के बारे में काफी कुछ जान चुके हैं लेकिन जहां लोकल स्टोरेज की तुलना में क्लाउड स्टोरेज के कई सारे बेनिफिट से होते हैं! वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं आइए अब हम इसके नुकसान के बारे में जान लेते हैं.

Cloud Computing के नुकसान?

क्योंकि क्लाउड कंप्यूटर पूरा इंटरनेट पर आधारित होता है, व्यवसाय में यदि इसका इस्तेमाल होता है और कभी इंटरनेट एक्सेस न हो पाने, बिजली ना होने की वजह से इंटरनेट कनेक्शन रुक जाता है तो ऐसे में कार्य ठप्प हो जाएगा।

क्लाउड कंप्यूटिंग का इस्तेमाल करते हुए सही क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर का चयन करना बेहद जरूरी है, अन्यथा आपका इंपॉर्टेंट डाटा किसी गलत सर्विस प्रोवाइडर पर चला जाए तो आपको काफी नुकसान झेलना सकता है! और तीसरा और अहम नुकसान चूंकि यह cloud पर आधारित है, इसलिए इसकी सिक्योरिटी बेहद अहम हो जाती है जरा सी लापरवाही में इंटरनेट पर साइबर अटैक का खतरा बना रहता है! अतः पूरा डाटा हैकर्स के पास जा सकता है!

तो दोस्तो यह थे क्लाउड कंप्यूटिंग की कुछ नुकसान, हमें आशा है क्लाउड कंप्यूटिंग से जुड़ा यह आर्टिकल आपके लिए helpfull साबित होगा.

उम्मीद है की अब आपको क्लाउड कंप्यूटिंग से जुड़ी पूरी जानकारी मिल चुकी होगी, और आप जान गये होगे की क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है? (What Is Cloud Computing In Hindi) कैसे काम करता है? इसके उपयोग और फ़ायदे क्या है? All About Cloud Computing In Hindi?

यह भी पढ़े:

Hope की आपको क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है? – What Is Cloud Computing In Hindi का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here