कंप्यूटर का पूरा नाम क्या है? (Computer Full Form In Hindi)


क्या आपने कभी सोच है की कंप्यूटर का पूरा नाम क्या है? (Computer Full Form In Hindi) वेसे तो computer एक device है, मगर इसका इसका Full Form, History, और Uses, के बारे मे पूरी जानकारी इस लेख मे दी गई है।

कंप्यूटर का पूरा नाम क्या है? (Computer Full Form In Hindi )

कंप्यूटर ने हमारे काफी काम सरल कर दिए है, और यही वजह है कि आज घर-घर कंप्यूटर उपलब्ध हो गया है। एक समय था जब लोगों को कंप्यूटर की उपयोगिता अधिक नहीं पता थी परंतु जैसे-जैसे कंप्यूटर को स्वीकार किया जाने लगा वैसे वैसे ही लोगों को भलीभांति इसकी उपयोगिता के बारे में भी समझ आने लगी और अब तो हर जगह आपको कंप्यूटर ही कंप्यूटर दिखाई देते हैं।


अगर वर्तमान के समय में कंप्यूटर ना हो तो दुनिया के अधिकतर बिजनेस ठप हो जाएंगे, क्योंकि बिजनेस चलाने के लिए भी कंप्यूटर की आवश्यकता पड़ती है। इस आर्टिकल में आज हम जानेंगे कि कंप्यूटर का पूरा नाम क्या है? (Computer Full Form In Hindi)

कंप्यूटर का पूरा नाम क्या है?

कंप्यूटर शब्द का मतलब कैलकुलेशन करना होता है। इसलिए हिंदी भाषा में कंप्यूटर को संगणक कहा जाता है और संगणक ही हिंदी भाषा में कंप्यूटर का सबसे सामान्य नाम है।


इसके अलावा कंप्यूटर को अभिकलित्र भी कहते हैं क्योंकि कंप्यूटर एक अभिकलित्र यंत्र अर्थात प्रोग्रामेबल मशीन है। कई जगह पर इसे गणना यंत्र और संगणक के नाम से भी जानते हैं।

कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है? Computer Full Form Hindi

जब आप इंटरनेट पर यह सर्च करते हैं कि कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है तब आपको वहां पर अलग-अलग प्रकार के फुल फॉर्म बताए जाते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कंप्यूटर का कोई भी आधिकारिक फुल फॉर्म नहीं है। नीचे हमने कंप्यूटर का सामान्य तौर पर जो फुल फॉर्म होता है उसकी जानकारी दी है। नीचे आपको हिंदी में और अंग्रेजी में कंप्यूटर के फुल फॉर्म बताए गए हैं।

1: कंप्यूटर का फुल फॉर्म अंग्रेजी में

C – Commonly
O – Operating
M – Machine
P – Particularly
U – Used
T – Technical
E – Educational
R – research

2: कंप्यूटर का फुल फॉर्म हिंदी में

सी (C) – आम तौर पर
ओ (O) – संचालित
एम (M) – मशीन
पी (P) – विशेष रूप से
यू (U) – प्रयुक्त
टी (T) – तकनीकी
ई (E) – शैक्षणिक
आर (R) – अनुसंधान

कंप्यूटर की परिभाषा?

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक वस्तु होती है जिसके द्वारा हम अपने आवश्यक कामों को घर बैठे कर सकते हैं। कंप्यूटर का निर्माण करने के लिए विभिन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर का इस्तेमाल किया जाता है।

सॉफ्टवेयर वह चीज होती है जिसे हम ना तो देख सकते हैं ना ही टच कर सकते हैं, वही हार्डवेयर वह चीज होती है जिसे हम देख सकते हैं और टच भी कर सकते हैं। कंप्यूटर के हार्डवेयर की तुलना में कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर को सही करना अथवा उसे चेंज करना काफी मुश्किल काम होता है।

कंप्यूटर किसी भी प्रकार के डाटा को स्टोर करने की कैपेसिटी रखता है। इसके अलावा उस डाटा की एडिटिंग करने की और उसे फिर से सर्च करके यूजर को देने की भी कैपेसिटी रखता है। वर्तमान के समय में हम कंप्यूटर पर अपने कई आवश्यक काम को आसानी से कर ले रहे हैं।

इसके द्वारा हम गेम खेल सकते हैं। किसी व्यक्ति को ईमेल भेज सकते हैं। इंटरनेट चला सकते हैं। वीडियो देख सकते हैं या फिर दस्तावेज की टाइपिंग कर सकते हैं साथ ही ऑनलाइन डाटा एंट्री जैसे काम भी कंप्यूटर के द्वारा संभव है।

आज के समय में कंप्यूटर का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जा रहा है। इसका इस्तेमाल कॉलेज में, स्कूल में, फैक्ट्री में, गवर्नमेंट ऑफिस में, बैंक डिपार्टमेंट में, बिजली डिपार्टमेंट में तथा अन्य कई जगह पर किया जा रहा है।

कंप्यूटर का हिंदी नाम क्या है?

कंप्यूटर को कंप्यूटर बोलते हैं, इसके बारे में तो अधिकतर लोग जानते हैं परंतु काफी कम लोग ही इस बात से परिचित हैं कि आखिर कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं अथवा कंप्यूटर का नाम हिंदी में क्या है।

कंप्यूटर इतना ज्यादा लोकप्रिय डिवाइस है कि हमें इसके हिंदी नाम के बारे में अवश्य ही पता होना चाहिए। हिंदी भाषा में कंप्यूटर को संगणक कहा जाता है।


इस प्रकार से अब किसी व्यक्ति के द्वारा अगर आपसे यह पूछा जाता है कि भाई कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं तो आप तुरंत ही उसे जवाब के तौर पर संगणक कह सकते हैं।

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था?

चार्ल्स बैबेज के द्वारा साल 1823 में एक कैलकुलेशन मशीन तैयार की गई थी जिसके द्वारा वर्तमान के समय में इस्तेमाल किए जा रहे कंप्यूटर का डेवलपमेंट हो सका। यही वजह है कि चार्ल्स बैबेज को ही कंप्यूटर का आविष्कारक तथा कंप्यूटर का जनक कहा जाता है।

हालाकी आधुनिक कंप्यूटर के डेवलपमेंट में विभिन्न लोगों का स्पेशल योगदान है। इस प्रकार से आधुनिक कंप्यूटर का जनक एलन टयूरिंग को कहा जाता है।

इस प्रकार से कंप्यूटर के जनक और कंप्यूटर के फादर के तौर पर चार्ल्स बैबेज तथा आधुनिक कंप्यूटर के जनक और फादर ऑफ मॉडर्न कंप्यूटर के तौर पर एलन टयूरिंग का नाम लिया जाता है।

भारत में कंप्यूटर का इतिहास?

Dwijesh Dutta नाम के व्यक्ति के द्वारा हमारे भारत देश में साल 1952 में पहला कंप्यूटर पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में इंडियन साइंस सेंटर के अंदर लाया गया था। यह कंप्यूटर एनालॉग कंप्यूटर था।

इसके पश्चात कर्नाटक के बेंगलुरु शहर में एक और एनालॉग कंप्यूटर लाया गया परंतु भारत देश में कंप्यूटर के युग की शुरुआत साल 1956 में हुई क्योंकि साल 1956 में कोलकाता के साइंस इंस्टिट्यूट में Dwijish Dutta नाम का एक कंप्यूटर लगाया गया था और इसे ही हमारे देश का पहला डिजिटल कंप्यूटर कहां गया।

भारत में इस कंप्यूटर के आने के पश्चात जापान के बाद दूसरे स्थान पर भारत ऐसा देश बना जहां पर कंप्यूटर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल प्रारंभ हुआ।

इसके बाद आगे बढ़ते हुए भारतीय सांख्यिकी संस्थान कोलकाता और जादवपुर यूनिवर्सिटी ने मिलकर के साल 1966 में डिजिटल कंप्यूटर बनाया जिसका नाम ISIJU रखा गया था।

भारत में बने सुपर कंप्यूटर

भारत में बनाए गए सुपर कंप्यूटर की लिस्ट निम्नानुसार है।

  • एका
  • अनुपम अध्या
  • सागा 220
  • परम युवा II
  • आदित्य
  • परम इशान
  • प्रत्युष
  • परम – सिद्धि

FAQ:

कंप्यूटर का जनक किसे कहा जाता है?

चार्ल्स बैबेज

भारत में पहला कंप्यूटर कब लाया गया?

1952

भारत में पहला कंप्यूटर किसने लाया?

Dwijish Dutta

चार्ल्स बैबेज ने कैलकुलेशन मशीन कब तैयार की?

1823

आज इस लेख मे दी गई जानकारियों को पढ़ने के बाद आप कंप्यूटर का पूरा नाम क्या है? (Computer Full Form In Hindi ) क्या है, समझ गए होंगे। इसके अलावा आप कंप्युटर से जुड़ी कुछ अन्य रोचक बातों को भी समझ पाए होंगे।

Hope अब आपको कंप्यूटर का पूरा नाम क्या है? (Computer Full Form In Hindi ) समझ आ गया होगा, और आप Computer History और इस टेक्नॉलजी के पूरे इस्तेमाल को भी अच्छे से समझ पाए होंगे। 


अगर आपके पास कोई सवाल है, तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते हो. और अगर आपको यह पोस्ट हेल्पफुल लगा हो तो इसको सोशल मीडिया पर अपने अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here