Floppy Disk क्या है? – What Is Floppy Disk In Hindi

0

Floppy Disk Kya Hai? – What Is Floppy Disk In Hindi? दोस्तों हार्ड डिस्क क्या है? – What Is Hard Disk In Hindi उसके बारे में मैंने पहेले से ही बताया हुआ है, लेकिन अगर आप Floppy Disk के बारे में डिटेल से जानना चाहते हो तो आज इस पोस्ट में मैं आपको बताऊँगा की Floppy Disk क्या है? इसके प्रकार? उपयोग और फ़ायदे? कैसे काम करती है? History of Floppy Disk & All about Floppy Disk in Hindi?

यदि आप एक कंप्यूटर उपयोगकर्ता है तो आपने hard disk के के साथसाथ floppy डिस्क का नाम कभी कभी अवश्य सुना होगा! परंतु क्या आप floppy डिस्क के बारे में जानते हैं? क्या आप जानते हैं इसका आपके कंप्यूटर में क्या काम होता है! और इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है! यदि नहीं तो आज का हमारा यह लेख floppy डिस्क के विषय पर ही है!


दोस्तों floppy disk को आमतौर पर लोगों द्वारा floppy नाम से भी पुकारा जाता है! floppy का इस्तेमाल कई दशकों से कंप्यूटर में किया जा रहा है इसलिए एक कंप्यूटर उपयोगकर्ता होने के नाते आपका यह जानना जरूरी है! की फ्लॉपी डिस्क क्या होती है? इसके क्या क्या फायदे और उपयोग होते हैं! तथा कितने प्रकार के floppy disk होते हैं? floppy डिस्क का भविष्य कैसा है!

इन सभी सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिल जाएंगे!  इसलिए दोस्तों floppy डिस्क से जुड़ी सभी जानकारियां पाने के लिए आज के इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक अवश्य पढ़ें! चलिए सबसे पहले जान लेते हैं Floppy Disk क्या है? – What Is Floppy Disk In Hindi?

यह भी पढ़े: कंप्यूटर मेमोरी क्या है – Cache & Virtual Memory In Hindi

Floppy Disk क्या है? – What Is Floppy Disk In Hindi

दोस्तों फ्लॉपी डिस्क / diskette एक डाटा स्टोरेज डिवाइस होता है! यह एक hardware device है जिसका उपयोग कंप्यूटर का डाटा स्टोर करने के लिए किया जाता है! यह एक magnetic डिस्क होती है! तथा अन्य hard डिस्क के मुकाबले floppy डिस्क portable होती है जिसे एक जगह से दूसरी जगह आसानी से ले जाया जा सकता है! क्योंकि इन्हें कंप्यूटर के disk ड्राइव से आसानी से remove किया जा सकता है!

floppy disk के लिए जो disk drive लगे होते हैं उन्हें floppy driver के नाम से जाना जाता है। आपका यह जानना जरूरी है कि floppy डिस्क को access करते हुए समय अधिक लगता है साथ ही इसकी स्टोरेज कैपेसिटी भी काफी कम होती है!

लेकिन floppy डिस्क का इस्तेमाल करने का मुख्य फायदा यह है कि यह सस्ते होते हैं! तथा सबसे महत्वपूर्ण है की यह पोर्टेबल होते हैं!

वर्तमान समय में फ्लॉपी डिस्क का इस्तेमाल कम हो रहा है! क्योंकि यह हार्डवेयर storage का पहला प्रकार है जिसे कंप्यूटर के data को read & write करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था! floppy डिस्क का प्रचलन अब खत्म हो चुका है तथा इनका स्थान usb एवं network फाइल ट्रांसफर ने ले लिया है!

Floppy Disk का इतिहास – History Of Floppy Disk In Hindi

फ्लॉपी डिस्क ड्राइव का अविष्कार वर्ष 1967 में Alan Shugart द्वारा 1967 में किया गया! यह 8 इंच का पहला फ्लॉपी disk डिजाइन था ! तथा 1970 के शुरुआती दौर में इसका इस्तेमाल होने लगा! उस समय इसका इस्तेमाल कंप्यूटर में read only format के लिए हुए तथा बाद  read-write फॉरमैट के लिए भी किया गया!

हालांकि आपका यह जानना जरूरी है कि आमतौर पर डेस्कटॉप/ लैपटॉप कंप्यूटर floppy डिस्क का इस्तेमाल सपोर्ट नही करते!

पहली floppy डिस्क  एक फ्लेक्सिबल (लचीली) तथा पतली चुम्बकीय (magnetic) डिस्क से बनाई गई थी!

दोस्तों आइए हम floppy डिस्क की साइज की बात कर लेते हैं!

फ्लॉपी डिस्क आमतौर पर 3 साइज में उपलब्ध होती है पहला 8 इंच दूसरा 5.25 इंच तथा 3.5 इंच दोस्तों floppy का लेटेस्ट 3.5 इंच version में अधिक cutting edge टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करता है! इसमें पहले के versions के मुकाबले अधिक डाटा स्टोर किया जा सकता है! दोस्तों जैसे जैसे टेक्नोलॉजी advanced हो रही है floppy disk का आकार भी कम होता जा रहा है!

यह भी पढ़े: कंप्यूटर मेमोरी क्या है – Cache & Virtual Memory In Hindi

Floppy Disk के प्रकार – Types Of Floppy Disk In Hindi

दोस्तों इस डिस्क का इस्तेमाल आमतौर पर गवर्नमेंट, रिसर्च एवं बड़े बड़े कमर्शियल इंस्टिट्यूट जैसे कि mainframe computer में boot disk के लिए किया जाता था!

5.25 Inch Floppy Disk

परन्तु 5.25 इंच  फ्लॉपी डिस्क एक पोर्टेबल स्टोरेज मीडिया था! और 1980-90 के दौरान इस डिस्क का इस्तेमाल पर्सनल कंप्यूटर में किया जाने लगा!

5.25 इंच  फ्लॉपी डिस्क 360 kb से 1.2 mb के डाटा को स्टोर करने के लिए सक्षम था! तथा 5.25 इंच की कुछ फ्लॉपी डिस्क को मॉडिफाई किया जा सकता था तथा इनका  इस्तेमाल disk के दोनों भागों में डाटा को write करने के लिए किया जाता था!

और यही कारण था कि फ्लॉपी disk निर्माताओं को double sides drives को बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जिससे डिस्क के दोनों साइड को read किया जा सके

3.5 Inch Floppy

3.5 इंच  की लोकल डिस्क को आधुनिक floppy भी कहा जाता है! इसका आकार अन्य floppy ड्राइव्स की तुलना में काफी कम होता है! यह फ्लॉपी डिस्क double डेंसिटी डिस्क में 730 किलोबाइट (kb) स्टोर कर सकती है जबकि high डेंसिटी डिस्क पर 1.44 Mb स्टोर करने में सक्षम होती है!

पुराने कंप्यूटर मैं प्रोग्राम्स को load करने का यही तरीका था जैसे कि विंडोज 3.0 में किसी प्रोग्राम को इंस्टॉल करने के लिए मल्टीपल disk का इस्तेमाल किया जाता था!

दोस्तों अब हम आगे बढ़ते हैं तथा जानते हैं कि फ्लॉपी डिस्क का क्याक्या उपयोग होता है?


फ्लॉपी डिस्क का उपयोग?

Data Storage

फ्लॉपी डिस्क का मुख्य इस्तेमाल डाटा स्टोरेज के लिए किया जाता है! यूज़र्स फ्लॉपी के जरिए data को स्टोर करने के साथ ही जरूरी information backup कर सकते हैं!

पहले के समय में floppy डिस्क डाटा को रिकॉर्ड करने तथा उस डाटा को स्टोर कर जानकारी को बनाए रखने का सबसे अच्छा तरीका था। उस समय इस माध्यम को सबसे अधिक कुशल इसलिए माना जाता था क्योंकि इसमें 1.45 MB की कैपेसिटी तथा cross प्लेटफॉर्म support था!

Software and Drivers

3.5 इंच के floppy डिस्क का सबसे महत्वपूर्ण एप्लीकेशन (अनुप्रयोग) programmas तथा सेवाओं का वितरण (distribute) करना था! उदाहरण के लिए developers द्वारा ग्राहक के लिए सॉफ्टवेयर और ड्राइवर अपडेट दिया जाना!

इसके साथ ही आपका जानना जरूरी है कि पहले सॉफ्टवेयर का साइज काफी अधिक होता था! मेमोरी, pendrive आदि साधन उपलब्ध नहीं थे! उस समय फ्लॉपी डिस्क के जरिए यह सॉफ्टवेयर computer डिवाइस में इंस्टॉल होते थे! हालांकि अभी भी कुछ मॉडर्न drivers के लिए हार्डवेयर components floppy डिस्क में फिट होते हैं!

File Transfer

3.5 इंच floppy डिस्क विभिन्न कंप्यूटर्स के बीच files को  को ट्रांसफर करने के लिए यूनिवर्सल स्टैंडर्ड मानक के रूप में जानी जाती थी! 3.5 इंच फ्लॉपी डिस्क  की मदद से यूजर्स डाटा को efficiently एवं विश्वसनीयता से ट्रांसफर कर सकते हैं!

floppy डिस्क की कुशलता तथा लोकप्रियता की वजह से इस टेक्नोलॉजी को apple तथा unix-based सिस्टम् में भी लसम्मिलित किया गया! जिससे विभिन्न प्लेटफॉर्म के बीच फाइल्स को ट्रांसफर करना सरल हो गया।

तो यह थे कुछ floppy डिस्क के मुख्य उपयोग अब हम इसे इस्तेमाल करने के फायदे जान लेते हैं!

यह भी पढ़े: कंप्यूटर हार्डवेयर क्या है – What Is Hardware In Hindi

फ्लॉपी डिस्क के फायदे – Benefits Of Floppy Disk In Hindi

Portability

फ्लॉपी डिस्क का इस्तेमाल करने का मुख्य लाभ यह है कि फ्लॉपी डिस्क का आकार छोटा होता है! तथा यह पोटेबल होते हैं! यहां आपका जानना जरूरी है कि 3.5 इंच की फ्लॉपी डिस्क का आकार Cd (compact disk) की तुलना में काफी कम होता है!

तथा फ्लॉपी डिस्क के बाहर प्लास्टिक की casing  होती है जिस वजह से फ्लॉपी डिस्क अंदर से सुरक्षित रहती है! यह एक मुख्य कारण है कि CD की तुलना में floppy डिस्क के स्क्रैच या खराब होने की संभावनाएं काफी कम हो जाती हैं!

फ्लॉपी डिस्क में bulit-in write protection होता है! जो डाटा को गलती से  erased या overwritten होने से बचाता है!

अतः फ्लॉपी डिस्क की पोर्टेबिलिटी छोटे साइज के फाइल्स जैसे डाक्यूमेंट्स को एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में ट्रांसफर करने में सहायक होती है!

Compatibility

इसके अलावा floppy डिस्क का फायदा यह है कि यह उन पुराने कंप्यूटर्स device के लिए भी supportable होते हैं जो अन्य data स्टोरेज डिवाइस को सपोर्ट नहीं करते हैं!

इसे आप एक उदाहरण की सहायता से समझ सकते हैं कि 1990 के दशक में कंप्यूटर में cd और dvd ड्राइव अधिकतर कंप्यूटर्स में नहीं होता था! उस समय फाइल ट्रांसफर करने हेतु floppy डिस्क एकमात्र साधन था!

वर्तमान समय में आधुनिक कंप्यूटर में फ्लॉपी डिस्क का फीचर नहीं दिया जाता परंतु अभी भी कई सारे नई कंप्यूटर्स में floppy ड्राइव्स पाई जाती है! तथा कंप्यूटर निर्माता कंपनियां custom made कंप्यूटर बनाते समय floppy drives का फ़ीचर दे सकते हैं!

Boot Disks

जी हां! दोस्तों  डिस्क से boot करने का मुख्य फायदा  होता है कि जब आप ऑपरेटिंग सिस्टम के बजाय हार्ड ड्राइव को किसी disk  से boot करते हैं तो यह आपको कहीं सारे टास्क जैसे errors के लिए मेमोरी चेक करना,

या troubleshooting के सिस्टम के अन्य errors को चेक करने में मदद करता है! अतः इस तरह भी floppy डिस्क फायदेमंद होती है!

फ्लॉपी डिस्क का भविष्य – Future Of Floppy Disk In Hindi

दोस्तों अंत में यहां आप को समझना होगा कि वर्तमान समय में 5.25 तथा 3.5 इंच के floppy disk का प्रचलन खत्म हो चुका है! हालांकि अभी भी system में प्रॉब्लम की स्थिति में command prompt पर boot करने के लिए floppy डिस्क ड्राइव का उपयोग किया जाता है!

और आज भी कभीकभी कंप्यूटर्स में bios upgrade हेतु फ्लॉपी डिस्क का इस्तेमाल होता है! परंतु यह उपयोग भी धीरेधीरे खत्म हो रहा है। और वर्तमान समय में  कंप्यूटर निर्माता कंपनियां नई machines में फ्लॉपी डिस्क ड्राइव को इंस्टॉल नहीं कर रहे हैं!

संक्षेप में कहें तो “floppy डिस्क तकनीक का इस्तेमाल  आज के समय में लगभग खत्म हो चुका था! तथा इसकी जगह आज usb एवं अन्य network file transfer का उपयोग होता है!  और उम्मीद है आने वाले समय में कुछ नई टेक्नोलॉजी कंप्यूटर निर्माता कंपनियों द्वारा यूजर्स के लिए उपलब्ध की जाएगी!

तो दोस्तों आज के इस लेख में इतना ही उम्मीद है अब आप समझ चुके होंगे कि Floppy Disk क्या है? इसके प्रकार? उपयोग और फ़ायदे? कैसे काम करती है? History of Floppy Disk & All about Floppy Disk in Hindi?

यह भी पढ़े:

Hope की आपको Floppy Disk क्या है? – What Is Floppy Disk In Hindi? का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।

अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here