कंप्यूटर के कार्य (Functions of Computer in Hindi)

0

अगर आप कंप्यूटर के विशेष कार्यों के बारे में जानना चाहते हैं तो ये आर्टिकल आपके लिए ही है क्योंकि इस लेख में मैंने आप को कंप्यूटर के कार्यों के बारे में  विस्तारपूर्वक जानकारी दी है। ‌प्रिय पाठक, अगर आप किसी से भी पूछेंगे कि कंप्यूटर के कार्य (Functions of Computer in Hindi) बताइए? तो अधिकतर लोग कहेंगे Excel sheet बनाना, PowerPoint project बनाना, प्रोग्रामिंग करना, डिजाइनिंग करना, video edit करना इत्यादि। शायद आपको भी उनकी तरह यही लगता होगा।

कंप्यूटर के कार्य (Functions of Computer in Hindi)


लेकिन ये कंप्यूटर के कार्य नहीं बल्कि आप बोल सकते हैं कंप्यूटर के उपयोग है! कंप्यूटर का इस्तेमाल ये सारी चीजें करने के लिए किया जाता है लेकिन ये कंप्यूटर के कार्य नहीं है।

कंप्यूटर के कार्य (Functions of Computer in Hindi)

आज जीवन के हर क्षेत्र में हमें कंप्यूटर का इस्तेमाल देखने को मिलता है। ‌ऐसा इसलिए है क्योंकि कंप्यूटर बहुत ही तेजी से काम करता है और बड़ी संख्याओं को कुछ ही समय में कैलकुलेट करके डाटा को स्टोर करने की इसकी कैपिसिटी खास है है। कंप्यूटर के द्वारा सेकंड में बहुत सारे डाटा को एक साथ कैलकुलेट किया जा सकता है। 

कंप्यूटर वो सारे काम या फिर यूं कहें की सारी गणनाएं कर सकता है जो इंसान नहीं कर सकते। कंप्यूटर द्वारा मुश्किल से मुश्किल काम आसानी से किए जा सकते हैं। लेकिन कंप्यूटर का काम सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है। कंप्यूटर और भी कई सारे काम कर सकता है। लेकिन कंप्यूटर अपने सभी कार्यों को 4 phase में पूरा करता है – Input, Processing, Output और Storage. 


कंप्यूटर का मुख्य कार्य user द्वारा दिए गए इनपुट को प्रोसेस करके उन्हें मनचाहा output देना होता है। कंप्यूटर किसी काम को कैसे करता है इसके बारे में  नीचे आपको विस्तार पूर्वक बताया गया है –

  1. Input 

जैसा कि हम सभी को पता है कि कंप्यूटर खुद से काम नहीं कर सकता है। कंप्यूटर में कोई भी task परफॉर्म करने के लिए यूजर के द्वारा उसमें input डालना बहुत ज्यादा जरूरी होता है। कंप्यूटर तब तक कोई भी काम नहीं करता है जब तक कि user उसमें data input न करें। 

किसी भी कंप्यूटर में डाटा को manually भी डाला जा सकता है या फिर automatic दोनों ही तरीकों से एक साथ कंप्यूटर में डाटा डाला जा सकता है। कंप्यूटर में manual data, input device की मदद से डाला जाता है, जब यूजर को कंप्यूटर पर कोई specific task perform करना होता है। 


जबकि Automated scripts, applications, और robotics का उपयोग करके कंप्यूटर में automatic data डाला जाता है। Artificial intelligence, robot के अंदर पहले से ही automatic data मौजूद होता है जो एक निश्चित समय पर परफॉर्म किए जाते है। 

Automated data होने के बाद भी वो तब process होता है जब उसमें यूजर के इंस्ट्रक्शन डाले जाते हैं। कंप्यूटर में data supply computer word processing programs, spreadsheets, online forms, databases के माध्यम से किया जाता है। ‌इस phase में computer में सभी raw data डाला जाता है। ‌

कंप्यूटर में input data डालने के लिए कीबोर्ड और माउस का इस्तेमाल किया जाता है। पर इसके अलावा भी बहुत सारे input device होते हैं। लेकिन इन दोनों को कंप्यूटर का basic input device माना जाता है। कंप्यूटर में जो डाटा दर्ज किया जाता है, वो text, numbers, images, audio, video के form में होता है। 


इन सबके अलावा अगर यूजर को वीडियो या फिर इमेज के फॉर्म में डाटा चाहिए, तो उसे web cam की जरूरत पड़ती है। जबकि वही कंप्यूटर में voice data डालने के लिए microphone का इस्तेमाल किया जाता हैं।

  1. Data processing

डाटा प्रोसेसिंग को कंप्यूटर का सबसे जरूरी काम माना जाता है। यूजर इनपुट डिवाइस की मदद से कंप्यूटर में जो डाटा डालता है कंप्यूटर उसे ही प्रोसेस करता है। कंप्यूटर में डाटा प्रोसेसिंग में CPU (Central Processing Unit) बहुत बड़ा रोल प्ले करता हैं। कंप्यूटर में जब input data डाला जाता है, तब कंप्यूटर के  कार्य का ये दूसरा phase शुरू होता है। 

यूजर कंप्यूटर में इनपुट डिवाइस की मदद से जो डाटा डालता है वो अल्फाबेट्स या numbers में होते हैं और ये भाषा कंप्यूटर को समझ नहीं आती है। जिस वजह से इस phase में यूज़र द्वारा दिए गए inputs को कंप्यूटर की भाषा यानी कि binary language में बदला जाता है। 


जिसके बाद कंप्यूटर डाटा को process करता है और फिर result देता है। कंप्यूटर अपना ये सारा काम CPU में करता है इसलिए CPU को कंप्यूटर का brain भी कहा जाता है। नई नई टेक्नोलॉजी आने के कारण अब तक कंप्यूटर के प्रोसेसिंग सिस्टम में काफी सारे बदलाव आ चुके हैं। 

अभी के मॉडर्न कंप्यूटर, डाटा प्रोसेस करने के लिए CPU के साथ-साथ GPU का भी इस्तेमाल करते हैं। इन दोनों का इस्तेमाल होने से कंप्यूटर बहुत ही तेजी से डाटा को प्रोसेस करता है और काफी अच्छी परफॉर्मेंस देता है। कंप्यूटर की प्रोसेसिंग में यूज़र द्वारा दिए जाने वाले निर्देशों को run करने से लेकर arithmetic और logical operations भी शामिल है। 

जब कंप्यूटर डाटा को प्रोसेस करता है, तो वो डाटा को प्रोसेस करते समय कुछ समय के लिए उसे स्टोर भी कर लेता है। कंप्यूटर में डाटा प्रोसेसिंग का काम control unit, arithmetic logic unit, information unit के माध्यम से पूरा किया जाता है। 

  1. Output

User द्वारा कंप्यूटर में डाले गए input data का कंप्यूटर के processor के द्वारा process हो जाने के बाद CPU के द्वारा इसे कंप्यूटर के प्राइमरी मेमोरी से आउटपुट डिवाइस में भेजा जाता है। जिसके बाद कंप्यूटर के आउटपुट डिवाइस में जो डाटा दिखाया जाता है, उसे output data या फिर final result कहा जाता है। 

Output data, उस डाटा को कहते हैं जो कंप्यूटर द्वारा प्रोसेस होकर आता है। Monitor, printer जैसी चीजें कंप्यूटर के आउटपुट डिवाइस में आती है क्योंकि यहीं पर आउटपुट दिखाया जाता है। लेकिन default तौर पर मॉनिटर में कंप्यूटर का output data  दिखाया जाता हैं। 

इसके अलावा भी बहुत सारे डिवाइस होते हैं जिसे यूजर अपने कंप्यूटर से कनेक्ट करके उसे output device की तरह use कर सकता है। output data आउटपुट डिवाइस में दिखा देने के बाद data soft copy के रूप में कंप्यूटर में store हो जाता है। और यहीं से कंप्यूटर का चौथा कार्य शुरू होता है। ‌

  1. Data और Information Storage

कंप्यूटर का चौथा कार्य कंप्यूटर द्वारा प्रोसेस किए गए डाटा को store करके रखना होता है। ‌कंप्यूटर में डाटा को टेंपरेरी store किया जा सकता है या फिर परमानेंटली भी store किया जा सकता है। कंप्यूटर डाटा को तब टेंपरेरी स्टोर करता है जब वो उस डाटा को प्रोसेस करता है! 

Input data पहला डाटा होता है, जो कंप्यूटर में temporary store किया जाता है। उसके बाद जब सीपीयू input data को प्रोसेस करके रिजल्ट निकालता है, तो उस समय जो रिजल्ट होता है वह भी कुछ समय के लिए प्राइमरी मेमोरी में store रहता है। 

कंप्यूटर में डाटा को store करने के लिए RAM, ROM, SSD/HDD स्टोरेज डिवाइस की तरह काम करते हैं। क्योंकि कंप्यूटर अपना सारा डाटा यहीं पर store करता है। 

तो कंप्यूटर के कार्य में निम्नलिखित ये चीजें आती है जैसे – 

  • User से डाटा लेना, 
  • डाटा को process करना 
  • User को output देना और 
  • Output को स्टोर करके रखना। 

कंप्यूटर अपना ये कार्य input devices, processing devices, output devices, और storage devices की मदद से पूरा करता है। 

कंप्यूटर किन-किन क्षेत्रों में उपयोग किया जाता है? 

कंप्यूटर अब हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है क्योंकि अब कंप्यूटर की उपस्थिति हमें हर क्षेत्र में देखने को मिलती हैं। कुछ साल पहले तक कंप्यूटर कुछ विशिष्ट जगहों पर ही देखने को मिलता था। लेकिन अब कंप्यूटर घर-घर में देखने को मिलता है।

 सिर्फ घरों में ही नहीं बल्कि स्कूल, बैंक, सरकारी कार्यालय हर जगह अब काम कंप्यूटर पर ही किए जाते हैं। कंप्यूटर के उपयोग के बारे में विस्तारपूर्वक जानने के लिए नीचे दिए गए पॉइंट्स को ध्यान से पढ़ें – 

  1. घरों में 

पहले के समय में कंप्यूटर बहुत ही कम लोगों के पास देखने को मिलता था। लेकिन अब कंप्यूटर हर घर में देखने को मिल जाता है क्योंकि अब लोग अपने घरों में भी कंप्यूटर का खूब इस्तेमाल करते हैं। घर पर कंप्यूटर का इस्तेमाल ईमेल भेजने, गेम खेलने, फिल्म देखने, प्रोजेक्ट बनाने जैसे कामों को करने के लिए किया जाता है। 

  1. शिक्षा के क्षेत्र में 

टेक्नोलॉजी की वजह से शिक्षा के क्षेत्र में अब पढ़ाने का तरीका बदल चुका है जहां पहले पढ़ाई किताबों से शुरू होकर किताबों पर ही खत्म हो जाती थी। वही अब पढ़ाई का माध्यम भी काफी बदल चुका है, टीचर अब बच्चों को ऑनलाइन कंप्यूटर के माध्यम से पढ़ाते हैं।‌  

अब क्योंकि कंप्यूटर काफी सस्ता हो गया है तो लोग कंप्यूटर affoard कर सकते हैं। यही कारण है की अब बच्चा बच्चा भी कंप्यूटर से ही पढ़ाई करने लगा है। ‌सिर्फ ऑनलाइन शिक्षा की बात नहीं है बल्कि स्कूल कॉलेज इंस्टिट्यूट के सभी कार्यों को कंप्यूटर के द्वारा ही manage किया जाता है। 

  1. चिकित्सा के क्षेत्र में

कंप्यूटर के कारण चिकित्सा के क्षेत्र में भी काफी विकास आया है क्योंकि research and development के कारण खतरनाक बीमारियों के इलाज ढूंढे जा रहे हैं। इतना ही नहीं हॉस्पिटल में patience का रिकॉर्ड रखने के लिए भी कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है।

 क्योंकि कंप्यूटर के माध्यम से किसी भी रिकॉर्ड को जरूरत पड़ने पर आसानी से ढूंढा जा सकता है। कंप्यूटर के कारण रोगी के पूरी बॉडी को स्कैन करना, एक्सरे करने जैसा काम आसान हो गया है। 

  1. बैंकिंग के क्षेत्र में

कंप्यूटर के कारण बैंकिंग के क्षेत्र में भी काफी तेजी से विकास देखने को मिला है। ये कंप्यूटर का ही कमाल है की अब हम अपने फोन से ही मोबाइल बैंकिंग कर सकते हैं। बैंक की अगर बात करें, तो बैंकों में ग्राहकों के अकाउंट का रिकॉर्ड कंप्यूटर में ही रखा जाता है और कंप्यूटर के माध्यम से ही उनका पासबुक एंट्री किया जाता है। कंप्यूटर में बैंक में होने वाले कार्यों को बहुत ही आसान बना दिया है। 

  1. सरकारी कार्यालयों में 

अब सरकारी विभाग पहले जैसा नहीं रहा क्योंकि वहां अब हर काम कंप्यूटर के माध्यम से किया जाता है। हर सरकारी काम के लिए एक वेबसाइट बनाई गई है जहां से आप अपना काम कर सकते हैं। कंप्यूटर ने सरकारी कामों को भी आसान बना दिया है। इन सबके अलावा कंप्यूटर की वजह से ही सरकार के लिए करोड़ों की संख्या में लोगों का रिकॉर्ड रखना मुमकिन हो पाया है। 

इन सभी के अलावा और भी कई सारे क्षेत्र है जहां कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है। पर मुख्य रूप से कंप्यूटर का इस्तेमाल इन्हीं क्षेत्रों में ज्यादा देखने को मिलता है। 

कंप्यूटर का उपयोग किन किन चीजों में किया जाता है ? 

कंप्यूटर का उपयोग कौन-कौन से क्षेत्र में किया जाता है, इसके बारे में तो मैंने आपको ऊपर बता ही दिया है। तो चलिए अब जान लेते हैं कि कंप्यूटर का इस्तेमाल किन चीजों में किया जाता है – 

  • Communication

Computers communication के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। क्योंकि हम कंप्यूटर के माध्यम से ही दूसरों से बातचीत कर पाते हैं।  Internet के माध्यम से Email, Instant messaging, Video calls और social media platforms के जरिए Computer लोगों को दुनिया भर से जोड़ता हैं। 

सरल शब्दों में कहूं तो, Computer ने communication यानी की लोगों के बीच वार्तालाप को आसान व सुविधाजनक बना दिया है। लोग बड़ी आसानी से एक दूसरे के साथ चैट कर सकते हैं, information share कर सकते हैं और एक दूसरे का साथ मिलकर काम कर सकते हैं। 

कंप्यूटर के द्वारा आप दुनिया के किसी दूसरे कोने में बैठे हुए व्यक्ति से भी बात कर सकते हैं। कंप्यूटर में कुछ ऐसे सॉफ्टवेयर होते हैं जिसके मदद से एक साथ बहुत सारे लोगों से बात की जा सकती है। 

  • Internet

कंप्यूटर के कारण ही हम इंटरनेट से जुड़ पाए हैं और अब इंटरनेट हमारी जिंदगी का एक बहुत ही खास हिस्सा बन गया है। कंप्यूटर में इंटरनेट access करके लोग online Content का फायदा उठा सकते हैं। 

कंप्यूटर में इंटरनेट का इस्तेमाल करके लोग सारी चीजें कर पाते हैं चाहे गूगल पर सर्च करना हो, यूट्यूब पर वीडियो देखना हो, ऑनलाइन शॉपिंग करना हो सारी चीजें कंप्यूटर के कारण ही मुमकिन हुई हैं। 

  • Education

जैसा कि मैंने आपको ऊपर बताया, Computer शिक्षा के क्षेत्र में बहुत ही उपयोगी माने जाते हैं। computer student को E learning यानी कि ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाई करने की सुविधा देता हैं। online courses, virtual classroom और e learning platform के जरिए विद्यार्थी अपने नॉलेज और Abilities को और भी ज्यादा बढ़ा सकते हैं। 

इतना ही नहीं student assignment बनाने, प्रोजेक्ट तैयार करने और Research करने के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है। कंप्यूटर एक साथ पढ़ने की पद्धति को भी बढ़ावा देते हैं। कंप्यूटर के कारण अब शिक्षा प्राप्त करना बहुत ही ज्यादा आसान हो गया है लोग घर बैठे शिक्षा ग्रहण कर सकते हैं। 

इतना ही नहीं अब उनके सामने शिक्षा प्राप्त करने के अलग-अलग रास्ते भी खुल चुके हैं क्योंकि कंप्यूटर में इंटरनेट एक्सेस होने के कारण उन्हें ऑनलाइन हर चीज का ज्ञान मिल जाता है। ‌

  • Entertainment

Computer में लोग movies, tv shows, music और video games का मजा उठाते हैं। लोग कंप्यूटर का इस्तेमाल इसलिए करते हैं क्योंकि कंप्यूटर में high definition graphics के साथ वीडियो की क्वालिटी तो अच्छी मिलती है पर साथ ही ऑडियो साउंड भी बहुत अच्छा आता है। 

इसके अलावा लोग अपने कंप्यूटर पर गाने सुनना भी काफी पसंद करते हैं। आजकल Netflix, Amazon prime जैसे कई Streaming Platforms लॉन्च हो चुका है। तो लोग उन कंटेंट को अपने कंप्यूटर पर देखकर उनका पूरा मजा लेते हैं। 

इसके अलावा बच्चों द्वारा कंप्यूटर का सबसे ज्यादा इस्तेमाल गेम खेलने के लिए ही किया जाता है। क्योंकि कंप्यूटर पर एक से बढ़कर एक गेम होते हैं  जिसे खेलने में बहुत ज्यादा मजा आता है। 

  • Data storage

Computers data storage के लिए भी बहुत सहायक होते हैं हार्ड डिस्क, सॉलि़ड स्टेट ड्राइव और क्लाउड स्टोरेज सर्विस के जरिए कंप्यूटर डाटा को स्टोर और एक्सेस करने का सर्विस देते हैं। कंप्यूटर लार्ज अमाउंट आफ डाटा जैसे कि डाक्यूमेंट्स फोटोस वीडियोस और दूसरे डिजिटल फाइल्स को आसानी से सेव कर सकते हैं। हार्ड ड्राइव्स और एसएसडी हाई कैपेसिटी स्टोरेज देते हैं जिसमें यूजर अपने पर्सनल और प्रोफेशनल डाटा को सिक्योर तरीके से रख सकता है

  • Design and creativity

designing और creativity के मामले में Computer Graphic design, 3D modeling, video editing, और animation जैसे कामों को करने के लिए सक्षम होते हैं। designer और artist high quality visuals और creative content बनाने के लिए Computer का इस्तेमाल करते हैं।

कंप्यूटर में डिजाइनिंग करना आसान होता है क्योंकि कंप्यूटर में Professional Designing Software और tools मिलते हैं जो आर्टिस्ट के क्रिएटिविटी को बहुत हद तक बढ़ा देते हैं। कंप्यूटर में कोई भी चीज क्रिएट करना काफी आसान होता है क्योंकि कंप्यूटर में क्रिएटिव जूस का इस्तेमाल करना बहुत आसान होता है। 

सिर्फ डिजाइनर जी नहीं बल्कि वीडियो एडिटर भी कंप्यूटर का इस्तेमाल अपना काम करने के लिए करते हैं। क्योंकि कंप्यूटर में वीडियो एडिट करना मोबाइल से वीडियो एडिट करने के मुकाबले आसान होता है। कंप्यूटर में लोग अपना क्रिएटिव काम इसलिए करते हैं क्योंकि कंप्यूटर उनकी प्रोडक्टिविटी को बढ़ा देता है। ‌

  • Research

Researchers कंप्यूटर का इस्तेमाल करके large datasets को analyze करने, कॉन्प्लेक्स कैलकुलेशन को परफॉर्म करने और simulations को run करने के लिए करते हैं।  Research papers, journals, और academic databases को access करने के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है। 

Research tools और software के साथ कंप्यूटर researchers को data organization, data visualization, और statistical analysis करने में मदद करते हैं। कंप्यूटर research process को बड़ी तेजी, accuracy, और efficiency से बढ़ाते हैं जिससे research के field में इन्वेंशन और इनोवेशन को बढ़ावा मिलता है।

  • Business

कंप्यूटर business के लिए एक मुख्य आधार है। आज कल, computers सभी तरह के बिजनेस में इस्तेमाल हो रहे हैं। कंप्यूटर businesses को efficiency, productivity, और scalability देते है। इतना ही नहीं कंप्यूटर का इस्तेमाल करके accounting, inventory management, और sales tracking जैसे मुश्किल काम भी आसानी से किए जा सकते है। 

बिजनेस में communication और collaboration के लिए emails, वीडियो कॉन्फ्रेंस, और प्रोजेक्ट मैनेजमेंट टूल्स का इस्तेमाल किया जाता है और ये काम कंप्यूटर के द्वारा ही किया जा सकते हैं। इसके अलावा कंप्यूटर data analysis और market research में भी मदद करता हैं जिससे बिज़नस अपने कस्टमर और मार्केट ट्रेंड्स को समझ सकते हैं। 

E-commerce के माध्यम से बिजनेस अपने प्रोडक्ट और सर्विस को ग्लोबल मार्केट तक पहुंचाते हैं। Cybersecurity measures और डाटा बैकअप के साथ कंप्यूटर बिजनेस के data और information को सिक्योर रखते हैं। कंप्यूटर बिजनेस में automation और process ऑप्टिमाइजेशन लाते हैं। जिससे cost savings और कस्टमर सेटिस्फेक्शन मिलता है।

FAQ 

कंप्यूटर के 4 कार्य क्या हैं?

कंप्यूटर के चार कार्य हैं – input, processing, output, storage 

कंप्यूटर का जनक कौन है?

कंप्यूटर का जनक चार्ल्स बैबेज हैं। 

कंप्यूटर के कितने अंग है? 

कंप्यूटर के 2 अंग होते हैं हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर। 

कंप्यूटर को ऑपरेट कौन करता है?

कंप्यूटर को CPU ऑपरेट करता है। 

यह भी पढ़े:

दोस्तों इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको कंप्यूटर के कार्य (Functions of Computer in Hindi) के बारे में पता चल गया होगा। और अब आप समझ गए होंगे कि कंप्यूटर किसी भी task को किस तरह से पूरा करता है। इस पोस्ट में मैंने आपको कंप्यूटर के कार्य के बारे में सब कुछ बताने की कोशिश की है। 

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया हो तो आप फिर से अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिए।

Previous articleमेष टोपोलॉजी क्या है? (What is Mesh Topology in Hindi)
Next articleHTML क्या है और कैसे सीखें? (What is HTML in Hindi)
Ankur Singh
हेलो दोस्तों, मेरा नाम अंकुर सिंह है और में New Delhi से हूँ। मैंने B.Tech (Computer Science) से ग्रेजुएशन किया है। और में इस ब्लॉग पर टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर, मोबाइल और इंटरनेट से जुड़े लेख लिखता हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here