गूगल का आविष्कार किसने किया और कब किया?


आज के समय में हम सभी ज्यादा से ज्यादा इंटरनेट का उपयोग करते हैं और अपने काम को पूरा करने की कोशिश करते हैं। किसी भी काम को करते समय हमें सबसे पहले इंटरनेट याद आता है और ऐसे में हम बड़े ही आराम से इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकते हैं। दोस्तों आजके इस पोस्ट में हम जानिंगे की गूगल का आविष्कार किसने किया और कब किया?

गूगल का आविष्कार किसने किया और कब किया?


हम में से बहुत सारे लोग ऐसे हैं, जो इंटरनेट में कुछ भी search करने के लिए किसी एक विशेष सर्च इंजन के बारे में जानकारी लेते हैं और वह है गूगल। इस लेख के माध्यम से हम आपको गूगल के आविष्कारक के बारे में बता रहे है।


तो चलिए देखते हैं की आख़िर गूगल क्या है? और गूगल का आविष्कार किसने किया और कब किया?

गूगल क्या है?

गूगल अमेरिका की एक बहुत ही प्रसिद्ध मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी है। इसके माध्यम से इंटरनेट संबंधी जानकारी लोगों तक पहुंचती है। गूगल एक ऐसी वेबसाइट बन गई है, जिसे सबसे ज्यादा लोग देखना पसंद करते हैं और इसमें दी गई जानकारियां लोगों को काफी हद तक पसंद आती है।  

ऐसे में हम सभी जब भी किसी सवाल या किसी परेशानी में फंस जाते हैं, तो सबसे पहले हम गूगल का ही सहारा लेते हैं और अपनी समस्याओं को सुलझाने का प्रयास करते हैं।  हमने गौर किया है कि गूगल के माध्यम से हमें हर संभव मदद मिलती है और हमें किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होती है।

गूगल का फुल फॉर्म क्या है?

सामान्य रूप से हम सभी गूगल नाम से ही बुलाते हैं लेकिन इसका हम आपको फुल फॉर्म बताने वाले हैं।

G = Global
O = Organization
O = Oriented
G = Group
L = Language of
E = Earth

गूगल का आविष्कार किसने किया?

सबसे पहले गूगल को सर्च इंजन के नाम से जाना जाता रहा है जिसमें मुख्य रुप से 1996 में स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में पीएचडी कर रहे दो व्यक्तियों Sergey Brin और Larry Page ने बनाया था। जिसे 1998 में लांच कर दिया गया था। पहले इसका नाम गूगल ना होकर ‘’Backrub’’ रखा गया था  लेकिन कुछ दिनों के बाद ही इसके नाम को बदलकर ‘’Googol’’  रख दिया गया था।  कुछ ही दिनों बाद ऐसा महसूस हुआ कि इस नए नाम में थोड़ी स्पेलिंग में गलती हो चुकी है और इस वजह से फिर से स्पेलिंग को बदलते हुए इसका नाम ‘’Google’’ रख दिया गया था।

उसके बाद 15 सितंबर 1997 को इसका एक डोमेन नेम बनाया गया था जिसके अंतर्गत इसे Google.com के नाम से रजिस्टर कर दिया गया था। इसका सबसे पहले उपयोग अमेरिका में किया गया था।

गूगल के माध्यम से मिलने वाली सेवाएं 

जहां हम सभी ज्यादा से ज्यादा गूगल का इस्तेमाल करते हैं और इसके अतिरिक्त कई सारी ऐसी सेवाएं भी हैं जो हमें  मिलती  हैं और हम इनका बेहतरी से इस्तेमाल करते हैं।

  1. जीमेल
  2. ई-मेल
  3. गूगल मैप
  4. गूगल ड्राइव
  5. गूगल डॉक
  6. शीट एंड स्लाइड 
  7. यूट्यूब 

गूगल का इतिहास 

बात 1995 की है, जब अमेरिका में दो पीएचडी करने वाले छात्र  जिनका नाम Sergey Brin  और Larry Pageथा, जिनकी  एक दूसरे से मुलाकात हुई और उन्होंने एक वेबसाइट बनाने के  बारे में सोचा। 

ऐसे में उन्होंने अलग-अलग websites को लिंक करने के इस idea  पर कार्य करते हुए उन्होंने एक सर्च इंजन के बारे में सोचा और उसका निर्माण किया। शुरुआत में दोनों ने अलग-अलग रहकर काम किया लेकिन बाद में इस सर्च इंजन को उन्होंने एक साथ ही बनाया और नए सिरे पर आगे लेकर आए। शुरुआती दौर में सर्च इंजन का नाम ‘’Backrub’’ रखा गया था।

बाद में उनके मन में ख्याल आया और उन्होंने इसका नाम बदलकर ‘’गूगल’’ रख दिया था, जिसके बाद 1997 में लोगों को इसके बारे में सही जानकारी होने लगी। 


गूगल का सीईओ कोन हैं?

गूगल का निर्माण अमेरिकी छात्रों ने किया था लेकिन आज गूगल का सीईओ और कोई नहीं बल्कि एक भारतीय है जिनका नाम  सुंदर पिचाई है। उन्होंने कड़ी मेहनत करते हुए गूगल के सीईओ का पदभार ग्रहण किया है और उनकी लगभग सैलरी 1200 से 1300 करोड़ रुपए है। 

उनका जन्म तमिलनाडु के चेन्नई शहर में हुआ है। उन्होंने  अपनी शुरुआती शिक्षा भारत में ग्रहण की और उसके बाद आगे की शिक्षा के वह लिए अमेरिका गए जहां पर उन्होंने विश्वविद्यालय में दाखिला लेते हुए भौतिक विज्ञान और इंजीनियरिंग में मास्टर की डिग्री ले ली और उसके बाद ही उन्होंने  पेंसिलवेनिया  में जाकर एमबीए की पढ़ाई की थी।

धीरे-धीरे उन्होंने अपने जॉब की शुरुआत की और आज इस मुकाम पर पहुंच चुके हैं, जहां पर हर भारतीय को उन पर गर्व होता है।

गूगल के कुछ मुख्य प्रोडक्ट

गूगल के साथ साथ हम सभी गूगल के मुख्य प्रोडक्ट के बारे में भी जानकारी हासिल करते हैं, जो हमारे लिए कहीं ना कहीं उपयोगी होते हैं और हम इनका  उपयोग करते हैं।  आज हम आपको  गूगल के प्रोडक्ट के बारे में जानकारी देंगे— 

  • जीमेल — गूगल के मुख्य प्रोडक्ट के रूप में इसका ज्यादा से ज्यादा उपयोग किया जाता रहा है। यह एक प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक ईमेल सेवा कहलाती है जिसमें आप किसी भी देश  या शहर में रहने वाले इंसान को मैसेज भेजने का काम कर सकते हैं और आपको इसमें मैसेज भी प्राप्त होते हैं। कई जगह ऐसी होती है, जहां आपको जीमेल अकाउंट की आवश्यकता होती है और आप आसानी के साथ अपने काम को आगे बढ़ाते हैं।
  • गूगल मैप — अगर आप किसी शहर के बारे में जानना चाहते हैं और आपको उसके बारे में सही जानकारी नहीं है, तो ऐसे में गूगल मैप आपकी पूरी मदद करता है। यह शहर या जगह की अच्छी तरह से पहचान करके आपको उसकी पूरी जानकारी देता है साथ ही साथ जिस लोकेशन पर आप जाना चाहते हैं उस लोकेशन के बारे में भी जानकारी  देता है।  जिस जगह पर आप पहुंचना चाहते हैं और पहुंचने में समय लग रहा है तो गूगल मैप की सहायता से आप इस बात का भी अंदाजा लगा सकते हैं कि उस जगह पर पहुंचने में आपको कितना समय लगेगा?  इसके लिए आपको जीपीएस की मदद लेना होगा ताकि आप आसानी के साथ ही अपनी लोकेशन को पता कर सकें।
  • गूगल ड्राइव —- अगर आपके पास कोई ऐसा डाटा है, जो आपके लिए बहुत जरूरी है और आप जिसको सुरक्षित रखना चाहते हैं, ऐसे में गूगल ड्राइव आपके लिए बहुत ही काम का साबित हो सकता है। अगर आप चाहे तो बाद में कभी भी गूगल ड्राइव में रखे हुए डाटा को डाउनलोड किया जा सकता है और आसानी के साथ उसका उपयोग कर सकते हैं।  आज के समय में लगभग 70%  लोग  गूगल ड्राइव की मदद से अपने किसी भी  डाटा को सुरक्षित रखते हैं।
  • गूगल ट्रांसलेटर — आज के समय में इसका उपयोग भी बहुत ज्यादा किया जाने लगा है। जब आप ऐसी जगह जाते हैं, जहां आपको दूसरी भाषा के बारे में कोई जानकारी नहीं होती। ऐसे में गूगल ट्रांसलेटर  आपके काम आ सकता है।  इससे आप अपनी भाषा को किसी दूसरी भाषा में ट्रांसलेट कर सकते हैं और कम्यूनिकेशन के स्तर को सही बना सकते हैं।
  • गूगल डुओ — आज के समय में हम सभी  वीडियो  कॉल करना पसंद करते हैं, ऐसे में गूगल डीओ हमारे लिए बहुत ही काम का हो सकता है। यह  एक मुख्य प्रकार का वीडियो कॉलिंग एप्लीकेशन है जिसमें कॉल करने पर हाई क्वालिटी प्राप्त होती है साथ ही साथ इसमें बहुत ही ज्यादा क्लियर पिक्चर दिखती है और आप आसानी के साथ ही अपने किसी परिजन से बातचीत कर सकते हैं।
  • यूट्यूब — आज के समय में हजारों लाखों लोग ऐसे हैं जो यूट्यूब वीडियो देखना पसंद करते हैं और इनमें से कई लोगों का तो खुद का यूट्यूब चैनल भी होता है। आपको जिस भी पसंद का वीडियो चाहिए होता है आप उसे यूट्यूब के माध्यम से अपलोड कर सकते हैं और उसे बाद में भी देखा जा सकता है। यूट्यूब गूगल का एक मुख्य प्रोडक्ट  है, जो  आज देश  विदेशों में धूम मचा रहा है।  ऐसे में अगर आप चाहें तो यूट्यूब के माध्यम से वीडियो बनाकर भी अच्छी खासी कमाई की जा सकती है। 
  • Wear os– आज के समय में भी कई लोग ऐसे हैं, जो इसे  इस्तेमाल करना नहीं जानते। ऐसे में हम आपको बताते हैं कि यह एक प्रकार का  गूगल  का ही प्रोडक्ट है जिसके माध्यम से  अपने जीवन को हेल्दी बनाया जा सकता है साथ ही साथ यह आपके हर मिनट का पूरा रिकॉर्ड रखता है ताकि आप इसके  जरिए ही अपने लिए सही मार्गदर्शन कर सके।
  • गूगल वाईफाई — अगर आप निश्चित रूप से ही गूगल के इस प्रोडक्ट गूगल वाईफाई  का इस्तेमाल करते हैं, तो ऐसे में घर के किसी भी कोने में रहकर आसानी से इंटरनेट की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं और ज्यादा से ज्यादा   इंटरनेट  डाटा  का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • गूगल माय बिजनेस — यह भी गूगल का एक मुख्य प्रोडक्ट है जिसके माध्यम से कई ऐसे लोग लाभ ले सकते हैं, जो अपने बिजनेस में अच्छा करना चाहते हैं और बिजनेस को बढ़ाना भी चाहते हैं। गूगल के माध्यम से अपनी किसी भी दुकान, बिल्डिंग की लोकेशन को गूगल मैप में डाला जा सकता है ताकि देखने वाले  आपके  दुकान के बारे में सही जानकारी हासिल कर सके और किसी भी प्रकार की दिक्कत होने से बच सकें।
  • गूगल डॉक्स— गूगल के द्वारा दी गई सुविधा के माध्यम से आप आसानी से ही अपना डॉक्यूमेंट तैयार कर सकते हैं साथ ही साथ अगर आप चाहे तो इसमें  अपना कोई लेख या थीसिस लिख कर रखा जा सकता है, जो आपको बाद में काम आते हैं।  गूगल डॉक्स के माध्यम से आप अपने लिखने की कला को आगे बढ़ा सकते हैं साथ ही साथ इसे अगर आप चाहे तो लोगों में शेयर भी किया जा सकता है।
  • गूगल गो — गूगल का यह  एक ऐसा एप्लीकेशन है, जिसके माध्यम से आप आसानी के साथ ही लेटेस्ट खबरों का मजा ले सकते हैं। इसके अलावा आप अगर आप चाहे तो  वाइस के जरिए भी खबरों का मजा लिया जा सकता है।  साथ ही साथ  इसमें आपको  करंट अफेयर की जानकारी प्राप्त होती है।
  • क्रोम — यह मुख्य रूप से एक ब्राउज़र के रूप में होता है, जिसमें हम किसी भी प्रकार की जानकारी को सर्च कर सकते हैं। अगर इसमें किसी भी चीज को सर्च करते हैं, तो बहुत ही तेजी से और आसानी के साथ आपके सामने रिजल्ट आता है और मुख्य रूप से यह  हर मोबाइल में नजर आ जाता है इसका उपयोग हम कभी भी आसानी के साथ करते हैं।

भारत में गूगल के ऑफिस कहाँ हैं?

लगातार पूरे विश्व में गूगल के बढ़ते हुए कारोबार के  मद्देनजर विश्व में इसके कई जगह ऑफिस बने हुए हैं जहां पर आसानी के साथ काम किया जाता है। भारत में गूगल के 3 ऑफिस स्थित है, जो मुख्य रूप से  बेंगलुरु, गुड़गांव और मुंबई  मैं हैं। 

गूगल सर्च इंजन के काम करने का तरीका

गूगल का काम करने का तरीका बहुत ही सटीक होता है। जैसा कि हम सभी को पता है  यह  एक प्रकार का सर्च इंजन है जिसमें किसी भी कीवर्ड को डाल देने से  वह उस वेबसाइट तक लेकर जाता है, जो उस  कीवर्ड  से संबंधित होता है। इसके अंतर्गत गूगल अपने डाटाबेस से उन वेबसाइट्स को सर्च रिजल्ट में प्रदर्शित करता है, जो यूजर की सर्च क्वेरी का जवाब देते हो।

बता दें वेबसाइट की जानकारी को गूगल में इंडेक्स करने से लेकर यूजर को दिखाने तक कि इस प्रक्रिया में गूगल का विशेष एल्गोरिथम काम करता है। इस एल्गोरिथम को बनाने और इस पर लगातार सुधार करने के लिए गूगल के विशेष इंजीनियर 24 × 7 काम करते हैं ताकि दुनिया भर में गूगल का इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को  सटीक परिणाम प्राप्त हो सके

इस प्रकार से आज हमने आपको ज्यादा उपयोग में आने वाले सर्च इंजन गूगल के बारे में तथा गूगल के आविष्कारक गूगल का आविष्कार किसने किया और कब किया? के बारे में जानकारी दे दी है, आज हम सभी ज्यादा से ज्यादा उपयोग करते हैं और अपने किसी भी समस्या को दूर कर पाने में सक्षम होते हैं गूगल का उपयोगकहीं भी घर बैठे या बाहर भी किया जा सकता है,जिसमें अच्छे इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता होती है।

Hope की आपको गूगल का आविष्कार किसने किया और कब किया? का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here