Google Ka Matlab Kya Hota Hai? गूगल का मतलब क्या है?


हमारे दैनिक जीवन में जब हमें इंटरनेट पर कुछ भी सर्च करना होता है तो हम अधिकतर गूगल सर्च इंजन का ही इस्तेमाल करते हैं। लेकिन क्या आप जानते है कि Google Ka Matlab Kya Hota Hai? गूगल का मतलब क्या है? गूगल एक कंपनी भी है और एक सर्च इंजन भी है। गूगल के द्वारा विभिन्न प्रकार के एप्लीकेशन का निर्माण भी किया गया है। जैसे कि गूगल डॉक्स, गूगल शीट, गूगल लेंस, गूगल कैमरा, गूगल पिक्सेल इत्यादि।

google ka matlab kya hai

आज गूगल को स्टार्ट हुए 18 साल से भी अधिक का समय हो गया है और इतने सालों में अधिकतर लोग इसके बारे में जान गए हैं परंतु अभी भी कुछ लोग ऐसे हैं जो नहीं जानते हैं कि “गूगल क्या है?” तो आइए इस कंटेंट में आपको “गूगल का फुल फॉर्म क्या होता है” और Google Ka Matlab Kya Hota Hai? इसके बारे में इंफॉर्मेशन देते हैं.


Google का फुल फॉर्म क्या है?

Google Full Form “Global Organisation of Oriented group language of Earth” होता है।

गूगल कंपनी की तरफ से गूगल का कोई भी ऑफिशियल फुल फॉर्म अभी तक जारी नहीं किया गया है परंतु फिर भी आपको इंटरनेट पर गूगल के कुछ ना कुछ फुल फॉर्म अवश्य मिल जाते हैं, जिनका निर्माण अक्सर हमारे और आप जैसे सामान्य लोग ही करते हैं।

इसलिए उन फुल फॉर्म को गूगल का ऑफिशियल फुल फॉर्म नहीं मानना चाहिए। इसलिए ऊपर हमने आपको गूगल का जो फुल फॉर्म बताया है, वह गूगल का ऑफिशियल फुल फॉर्म नहीं है

Google क्या है?

गूगल एक सर्च इंजन है, जो हमें विभिन्न जानकारियों को पलक झपककर हमारे समक्ष प्रस्तुत करता है। पूरी दुनिया में अगर किसी सर्च इंजन को सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है तो वह गूगल ही है क्योंकि गूगल अपने आप में एक बहुत ही बड़ा सर्च इंजन है और इसने सर्च इंजन की लिस्ट में काफी लंबे समय से पहली पोजीशन बना करके रखी है।

गूगल सर्च इंजन के जरिए आप अपने किसी भी प्रकार के सवाल का जवाब प्राप्त कर सकते हैं। चाहे आपको यह जानना हो कि आईपीएल का पूरा नाम क्या है, चाहे आपको किसी चीज को करने का तरीका जानना हो, आपको सभी प्रकार की जानकारी गूगल पर मिल जाती हैं।

अगर आप जानकारियों को वीडियो फॉर्मेट में देखना चाहते हैं तो आप गूगल के प्रोडक्ट यूट्यूब का इस्तेमाल कर सकते हैं, जहां पर आपको हजारों वीडियो ट्यूटोरियल प्राप्त हो जाएंगे। गूगल आपको आपके किसी भी सवाल का जवाब बड़ी ही सरलता के साथ दे देता है। बस आपको गूगल सर्च इंजन को ओपन करके अपने सवाल को लेकर के सर्च करना पड़ता है। इसके बाद आपकी स्क्रीन पर लाखों वेबसाइट के अंदर मौजूद जवाब आपको दिखाई देते हैं।


Google Ka Matlab Kya Hota Hai?

तो चलिए अब हम आपको गूगल का मतलब क्या है? के बारे मे जानकारी प्रदान करेंगे यह अमेरिका कि एक मल्टी नेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी है और सामान्य भाषा में इसे हम गूगल सर्च इंजन के नाम से जानते हैं परंतु आपको हम यह भी बता दें कि गूगल सिर्फ सर्च इंजन तक ही सीमित नहीं है। यह अन्य कई फील्ड में भी काम करता है।

यह अपने कस्टमर को क्लाउड कंप्यूटिंग, एडवरटाइजिंग टेक्नोलॉजी, सर्च इंजन तथा इंटरनेट से संबंधित अलग-अलग प्रकार की सर्विस देता है, साथ ही कई प्रोडक्ट भी ऑफर करता है। इसका हेड क्वार्टर यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका देश में स्थित है और इसके चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर को समय-समय पर चेंज किया जाता रहता है।

वर्तमान के समय में गूगल कंपनी में 98,771 से भी अधिक वर्कर काम कर रहे हैं और लगातार गूगल कंपनी के द्वारा नए वर्कर को हायर किया जा रहा है। गूगल के बारे में एक इंटरेस्टिंग फैक्ट यह भी है कि इसमें आधे से अधिक कर्मचारी हमारे भारत देश के ही हैं। गूगल कुछ लोकप्रिय प्रोडक्ट यूजर को इस्तेमाल करने के लिए ऑफर करता है।

गूगल का मालिक कौन है?

गूगल का निर्माण 2 लोगों ने मिलकर के किया था। इन दोनों व्यक्ति का नाम Larry Page और Sergey Brin है। इसे तैयार करने की शुरुआत साल 1996 में रिसर्च प्रोजेक्ट के तौर पर हुई थी और साल 1998 में यह लांच हुआ था।

इन दोनों व्यक्ति के द्वारा जब गूगल को तैयार किया गया था तब इसका नाम BACKRUB रखा गया था परंतु आगे चलकर के उन्होंने नाम में बदलाव करते हुए इसका नाम गूगल रख दिया और फिर जब गूगल की लॉन्चिंग हुई तो इस कंपनी ने उम्मीद से अधिक बेहतर परफॉर्मेंस दी और वर्तमान के समय में यह कितनी लोकप्रिय है, इसे किसी भी व्यक्ति को बताने की आवश्यकता नहीं है।

गूगल सिर्फ एक सर्च इंजन ही नहीं है बल्कि यह एक कंपनी भी है और दुनिया की टॉप कंपनी की लिस्ट में इसका नाम आता है। गूगल अलग-अलग प्रकार से पैसे कमाता है। गूगल के द्वारा ही एंड्रॉयड स्मार्टफोन में क्लाउड कंप्यूटिंग की सर्विस दी जाती है।

आप जब कोई नया स्मार्टफोन खरीदते हैं तब उसके अंदर आपको जो जीमेल, गूगल प्ले स्टोर, गूगल मैप, गूगल डॉक्स, गूगल सीट की एप्लीकेशन प्राप्त होती है, वह सभी गूगल के ही प्रोडक्ट है। गूगल प्ले स्टोर पर जाकर के आप अपनी किसी भी पसंदीदा एप्लीकेशन को डाउनलोड कर सकते हैं, साथ ही अगर आपको कोई गेम खेलनी है तो आपको अपने पसंदीदा गेम भी वहां पर प्राप्त हो जाएंगी।

गूगल प्ले स्टोर भी गूगल का ही प्रोडक्ट है जो दुनिया में सबसे बड़ी एप्लीकेशन स्टोरिंग प्लेटफार्म माना जाता है। इसकी वजह यह है कि दुनिया में अधिकतर लोग एंड्रॉयड स्मार्टफोन का ही इस्तेमाल करते हैं और गूगल प्ले स्टोर पर अधिकतर एंड्राइड एप्लीकेशन ही मौजूद होती है।

आप वीडियो देखने के लिए जिस यूट्यूब प्लेटफार्म का इस्तेमाल करते हैं उसका मालिक भी गूगल ही है। जिस प्रकार आप गूगल सर्च इंजन पर लिखित तौर पर जानकारी प्राप्त करते हैं।

उसी प्रकार आप यूट्यूब सर्च इंजन पर वीडियो फॉर्मेट में जानकारी प्राप्त करते हैं। गूगल कंपनी कई फोन भी बना चुकी है जिनके Google pixel lineup, Google slate tablet, True wireless earbuds नाम है।

गूगल के प्रोडक्ट क्या है?

ऊपर आपने यह जाना कि गूगल सिर्फ सर्च इंजन तक ही सीमित नहीं है। इसके द्वारा कई प्रोडक्ट यूजर को ऑफर किए जाते हैं, जिनकी लिस्ट नीचे बताए अनुसार है।

1: गूगल ड्राइव
2: गूगल डॉक्स
3: गूगल शीट
4: गूगल slides
5: गूगल कैलेंडर
6: जीमेल
7: गूगल डुओ
8: गूगल हैंगआउट
9: गूगल ट्रांसलेट
10: गूगल मैप्स
11: गूगल अर्थ
12: गूगल कीप

गूगल की सफलता के पीछे कहीं न कहीं गूगल के द्वारा अपने यूजर को दी जाने वाली शानदार सर्विस भी है। एक आंकड़े के अनुसार देखा जाए तो रोजाना तकरीबन 3.5 बिलियन लोग गूगल पर कुछ न कुछ अवश्य सर्च करते हैं।

साल 2005 में एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम को गूगल के द्वारा खरीद लिया गया था, जो कि वर्ल्ड का सबसे पॉपुलर ऑपरेटिंग सिस्टम है।

गूगल कैसे काम करता है?

गूगल के काम करने का तरीका यह है कि इसके पास वेब क्रॉलर प्रोग्राम मौजूद है और इसके जो स्पाइडर होते हैं, वह अलग-अलग वेबसाइट को

crawling करने का काम करते हैं और उन वेबसाइट से इंफॉर्मेशन को प्राप्त करके उसे ला करके गूगल के डेटाबेस में डाल देते हैं।

अब जब कोई यूजर ब्राउज़र के जरिए कोई जानकारी गूगल सर्च इंजन पर सर्च करता है, तो गूगल सर्च इंजन के द्वारा उस इंफॉर्मेशन को डेटाबेस में से ढूंढ करके यूजर को जानकारी दी जाती है।

गूगल मुख्य तौर पर तीन प्रक्रिया में अपना काम करता है जिसमें सबसे पहले यह crawling करता है उसके बाद जानकारियों को इंडेकस करता है और उसके बाद यूजर को रिजल्ट दिखाता है।

गूगल की सेवाएं क्या है?

गूगल द्वारा अपने कस्टमर को अनेक प्रकार की सर्विस और प्रोडक्ट ऑफर किए जाते हैं, जिनमें से कुछ सर्विस का बेनिफिट लेने के लिए यूजर को कुछ पैसे देने पड़ते हैं और कुछ सर्विस यूजर के लिए गूगल के द्वारा मुफ्त में जारी की जाती है। नीचे गूगल की प्रमुख सर्विस की लिस्ट दी गई है।

1: गूगल ऐड ग्रैंड
2: गूगल एडमैनेजर
3: गूगल एड्स
4: गूगल ऐडसेंस
5: एडवर्ड एडिटर
6: एडवर्ड एक्सप्रेस
7: गूगल अलर्ट
8: गूगल चार्ट
9: गूगल चेक आउट
10: क्रोम वेब स्टोर
11: गूगल क्लासरूम
12: गूगल क्लाउड कनेक्ट
13: गूगल क्लाउड डाटा स्टोर
14: गूगल क्लाउड मैसेजिंग
15: गूगल एनालिटिक्स
16: गूगल कांटेक्ट
17: गूगल डैशबोर्ड
18: गूगल डिक्शनरी
19: गूगल फॉर एजुकेशन
20: गूगल एक्सप्रेस
21: गूगल फोंट
22: गूगल फ्लाइट
23: गूगल गैजेट
24: कीवर्ड प्लानर
25: गूगल मोबाइल सर्विस
26: गूगल माय बिजनेस
27: गूगल ऑफर
28: गूगल ऑपिनियन रीवार्ड्स
29: गूगल पे
30: गूगल पे सेंड
31: गूगल फोटोज
32: गूगल क्वेश्चन एंड आंसर
33: गूगल सेफ ब्राउजिंग
34: गूगल साइट
35: गूगल स्टेशन
36: गूगल सिंक
37: यूट्यूब

गूगल पैसे कैसे कमाता है?

गूगल के पैसे कमाने के एक ही नहीं बल्कि कई रास्ते हैं। गूगल अपने हर प्रोडक्ट से कुछ ना कुछ पैसे अवश्य कमाता है परंतु इसकी कमाई का मुख्य जरिया एडवरटाइजिंग ही है। गूगल यूट्यूब के द्वारा भी पैसे कमाता है और एडवर्टाइजमेंट के द्वारा भी पैसा कमाता है।

दरअसल होता यह है कि वेबसाइट और यूट्यूब पर जो एडवर्टाइजमेंट आती है, गूगल उन एडवरटाइजिंग देने वाले कंपनी या फिर लोगों से पैसे लेता है और उसमें से कुछ पैसे अपने यूज़र को देता है और काफी अधिक पैसे अपने पास ही रखता है।


इस प्रकार कंपनी या फिर व्यक्ति की वस्तु का प्रमोशन भी हो जाता है साथ ही यूजर भी पैसे कमा लेते हैं और गूगल भी पैसे कमा लेता है। गूगल एडवर्ड के जरिए भी पैसे कमाता है। हालांकि गूगल के बारे में एक इंटरेस्टिंग बात यह भी है कि यह अपनी कमाई का तकरीबन 30 परसेंट से 40 परसेंट हिस्सा दुनिया भर के लोगों की भलाई के लिए खर्च कर देता है।

Google के ज्यादा शेयर्स किसके पास है?

वर्तमान के समय में हर बड़ी कंपनी शेयर मार्केट में लिस्टेड होती है और हर कंपनी में शामिल लोगों का कुछ ना कुछ कंपनी में हिस्सा अवश्य होता है।

इसी प्रकार गूगल कंपनी में भी कुछ लोगों का हिस्सा है और कई लोग यह जानना चाहते हैं कि गूगल कंपनी में किसी व्यक्ति का कितना पर्सेंट शेयर का हिस्सा है। नीचे इसकी डिटेल्स आपको पॉइंट के जरिए बताई गई है।

  • Larry Page – 27.4%
  • Sergey Brin – 26.9%
  • Eric Schmidt – 5.5%

गूगल मिशन स्टेटमेंट क्या है?

गूगल के द्वारा लिया गया यह एक प्रकार का संकल्प है और गूगल ने अपने इस संकल्प में कहा है कि वह अपने सिस्टम को इतना ज्यादा बढ़िया बनाने की कोशिश में लगा हुआ है कि व्यक्ति को किसी भी प्रकार की इंफॉर्मेशन काफी आसानी के साथ वह उपलब्ध करा सके।

और किसी भी प्रकार की जानकारी को जब व्यक्ति गूगल पर सर्च करें, तो उसे उसकी जानकारी अवश्य प्राप्त हो। गूगल ने अपने स्टेटमेंट में कहा है कि वह अपनी सर्विस को लोगों के लिए और भी बेहतर बनाने के लिए लगातार प्रयासरत हैं।

गूगल नाम कैसे रखा गया?

मैथमेटिक्स एंड इमेजिनेशन नाम की एक पुस्तक Edward kasner or James Newman नाम के दो लोगों ने लिखी थी जिसमें एक शब्द Googol था। इसी शब्द से अट्रैक्ट होकर के लैरी पेज और सर जी ब्रेन ने अपने द्वारा निर्मित सर्च इंजन का नाम खोजना चालू किया और फिर उन्होंने गूगल नाम रखा। Googol का मतलब होता है एक के पीछे 100 जीरो।

गूगल का इतिहास क्या है?

Google Ka Matlab Kya Hota Hai? यह तो आप जान गए है तो अब नीचे आपके सामने हमने गूगल की हिस्ट्री की इंफॉर्मेशन पॉइंट वाइज प्रस्तुत की हुई है।

1: इसे लैरी पेज और सर जी ब्रेन नाम के दो पीएचडी करने वाले विद्यार्थियों ने बनाया था। यह अपनी पीएचडी स्टैंड फॉर यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया से कर रहे थे।

2: साल 1995 में इसे तैयार करने की स्टार्टिंग हुई थी और साल 1996 में लैरी पेज और सर जी ब्रिन ने अपने रिसर्च प्रोजेक्ट में कुछ बदलाव करने के बारे में सोचा और इस प्रकार काम करते-करते इन्होंने गूगल बना डाला।

3: जब गूगल बन करके लांच हुआ तो स्टार्टिंग में इसका नाम BACKRUB था परंतु आगे साल 1997 में इसके नाम को गूगल किया गया।

4: गणित में 1 शब्द Googol है। इसी शब्द को गलत लिखने की वजह से इसका नाम गूगल रखा गयाजिसका मतलब होता है 1 के पीछे 100 जीरो

5: गूगल के द्वारा साल 1998 में अपना सर्वप्रथम डूडल होम पेज तैयार किया गया। आज के समय में गूगल के पास 2000 से अधिक डूडल होमपेज हैं

6: साल 2000 में गूगल के द्वारा एडवर्ड की स्टार्टिंग की गई। इस प्रकार इसने ऑनलाइन एडवर्टाइजमेंट की फील्ड में कदम रखा। आज एडवर्ड सबसे अधिक सफल ऑनलाइन एडवरटाइजिंग प्लेटफॉर्म है।

7: गूगल के द्वारा साल 2004 में 1 अप्रैल के दिन जीमेल एप्लीकेशन को लॉन्च किया गया, जो अभी भी यूजर के द्वारा इस्तेमाल में ली जा रही है।

8: गूगल के द्वारा साल 2005 में Keyhole नाम की कम्पनी को खरीद गया।

9: साल 2006 में पॉपुलर वीडियो शेरिंग कंपनी यूट्यूब को गूगल ने खरीदा। आज के टाइम में यूट्यूब पर 1 मिनट के अंदर 60 घंटे के वीडियो अपलोड किए जा रहे हैं।

10: साल 2007 में गूगल के द्वारा ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड को खरीदा गया।

11: साल 2008 में क्रोम नाम का एक ब्राउज़र गूगल के द्वारा मार्केट में लांच किया गया और वर्तमान के समय में यह दुनिया भर में इस्तेमाल किए जाने वाले ब्राउज़र की लिस्ट में पहली पोजीशन पर है।

12: गूगल के द्वारा साल 2012 में एंड्रॉयड का 4.1 अपडेट जेलीबीन प्रस्तुत किया गया।

13: साल 2012 में 9 जुलाई के दिन गूगल वॉइस सर्च और गूगल नाउ जैसे फीचर को लांच किया गया। आज के टाइम में इसे गूगल असिस्टेंट के नाम से जाना जाता है।

14: गूगल ने गूगल ग्लास डिवाइस साल 2013 में लांच किया जिसका इस्तेमाल करके आप अपने चश्मे के द्वारा फोन को चला सकते हैं। इसी साल में वीआर हेडसेट को भी गूगल ने लॉन्च किया।

15: जहां पर इंटरनेट नहीं है वहां पर इंटरनेट पहुंचाने के लिए गूगल ने लून प्रोजेक्ट गूगल के द्वारा साल 2016 में चालू किया।

इस आर्टिकल में आपने जाना कि “Google Ka Matlab Kya Hota Hai?” और “गूगल का फुल फॉर्म क्या होता है” साथ ही हमने आपको गूगल से जुडी अन्य जानकारियां इतिहास, गूगल के काम, गूगल प्रोडक्ट्स आदि भी प्रदान की है।

गूगल से जुड़े अन्य पोस्ट्स;

Hope की आपको Google Ka Matlab Kya Hota Hai? गूगल का मतलब क्या है? का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


अगर आपके पास कोई सवाल है, तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते हो. और अगर आपको यह पोस्ट हेल्पफुल लगा हो तो इसको सोशल मीडिया पर अपने अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here