गूगल क्या है और कैसे काम करता है? (What is Google in Hindi)

8

गूगल क्या है?

गूगल एक अमेरिकन मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी है, जिसको हम गूगल सर्च इंजन के नाम से जानते है।लेकिन गूगल एक सर्च इंजन ही नहीं बल्कि एक मल्टीनेशनल कंपनी है जो कि ऑनलाइन एडवरटाइजिंग, टेक्नोलॉजी, AI, सर्च इंजन और क्लाउड कंप्यूटिंग जैसे इंटरनेट से संबंधित सेवाओं तथा प्रोडक्ट्स यूज़र्स को उपलब्ध करती है। 


गूगल का मुख्यालय (headquarter) अमेरिका कैलिफोर्निया में है। जिसके वर्तमान ceo अर्थात मुख्य अधिकारी भारतीय मूल के व्यक्ति Sundar Pichai हैं। तथा गूगल के cfo (chief financial officer) Ruth Porat हैं।

दोस्तों आपको जानकर हैरानी होगी कि वर्तमान समय में google कंपनी में 98,771 कर्मचारी कार्य करते हैं। तथा यह आँकड़े वर्ष 2018 में सामने आए थे। आज गूगल के तेजी से विकसित होने की मुख्य वजह यूज़र्स के कार्य तथा प्रोडक्टिविटी को बढ़ाने के लिए गूगल द्वारा दी जाने वाली सेवाएँ हैं;

  • क्लाउड स्टोरेज के लिए गूगल ड्राइव
  • प्रोडक्टिविटी के लिए गूगल docs, google sheets, गूगल slides आदि सॉफ्टवेयर।
  • टाइम मैनेजमेंट के लिए google कैलेंडर
  • ईमेल हेतु gmail/inbox
  • instant मैसेजिंग तथा video chat के लिए गूगल duo, hangouts जैसी सेवाएँ दी गयी हैं।
  • language ट्रांसलेट के लिए गूगल ट्रांसलेट
  • लोकेशन तथा नेविगेशन के लिए Google Maps, गूगल earth,
  • note making के लिए Google keeep आदि अनेक सेवाएँ google द्वारा उसके यूज़र्स के लिए उपलब्ध है।

दोस्तों देखा जाए तो गूगल की यह सेवाएँ इंटरनेट यूज़र्स के लिए फ़ायदेमंद हैं शायद यही कारण है कि गूगल दुनिया की सबसे ज्यादा सर्च की जाने वाली वेबसाइट है जिसमें 3.5 बिलियन यूजर रोजाना google search करते हैं तथा आज amazon, apple तथा facebook के बाद दुनिया की चार बड़ी कंपनियों में google का स्थान आता है।

इसके अलावा विश्व मे प्रसिद्ध ऑपरेटिंग सिस्टम android को वर्ष 2005 में गूगल ने खरीद लिया था। अतः android भी गूगल का ही एक भाग है। और गूगल chrome ब्राउज़र तथा chrome OS भी गूगल का ही एक लाइटवेट ओपरेटिंग सिस्टम है।


Image Source: iStock

गूगल सर्च कैसे काम करता है?

गूगल अपने अल्गोरिथम के आधार पर कार्य करता है। गूगल के पास web crawler प्रोग्राम होते हैं तथा यह spider/boats विभिन्न वेबसाइट पर crawling करते है। यह spider वेबसाइट में इनफार्मेशन collect कर उन pages को गूगल के database में index करते हैं।

तथा जब कोई यूजर गूगल पर अपने सवालों को खोजता है तो index वेबसाइट तथा web pages के आधार पर google user के सवालों के जवाब result में show करता है। इन तीन steps पर गूगल search कार्य करता है।

  • crawl
  • index
  • showing result

इसे उदाहरण की साहयता से समझें तो जब आप गूगल पर सर्च करते हैं गूगल क्या है?


अब google अपने database में index web pages को देखेगा की यह keywords (गूगल क्या है?) किस-किस web page में आ रहे हैं। अब यहाँ गूगल क्या है? से संबंधित हज़ारों web pages होंगे। तो अब सवाल आता है कि आखिर गूगल कैसे किन-किन web page के लिंक को गूगल के first page पर show करता है।

इसके लिए google relevancy को चेक करता है कि क्या यह keywords उस web page के title में है, URL में है तथा H1 में इसके साथ ही जिस पेज में गूगल से संबंधित जानकारी दी है उस page में किस-किस page ने उस page को लिंक किया है।

अतः कुल मिलाकर हम कह सकते हैं कि google अपने नियमों के मुताबिक़ किसी page को index करता है। तथा गूगल के पास 200 से अधिक ranking फैक्टर हैं जिन्हें देखते हुए किसी web पेज को गूगल के पहले page पर इंडेक्स करता है।


दोस्तों अब हम जानते है कि गूगल को किसने और कब बनाया?

गूगल को कब और किसने बनाया?

गूगल सर्च इंजन की शरुवात larry page तथा sergey brin ने 1996 में रिसर्च प्रोजेक्ट की शुरुवात की तथा वर्ष 1998 में google को लॉन्च किया। larry तथा sergey उस समय कैलिफोर्निया के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में phD स्टूडेंट थे।

क्या आपको गूगल का वास्तविक नाम पता है? गूगल नाम googol से आया है। googol एक गणितीय शब्द है जिसका मतलब 1 के बाद 100 zero हैं।


गूगल के फ़ायदे?

अब अधिकतर लोगों के मन में एक सवाल आ रहा होगा कि आखिरकार गूगल का प्रयोग हम क्यों करें! क्योंकि गूगल के फायदे के बारे में सभी को पता होना बेहद आवश्यक है। आईए जानते हैं कि गूगल के फायदे क्या है –

1. जानकारी प्राप्त करवाता है

गूगल का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह हमें हमारी पसंद की जानकारी हमें प्रोवाइड करवाता है। उदाहरण के लिए जब भी आपको कोई जानकारी चाहिए होती है तो आप गूगल के सर्च इंजन या फिर यूट्यूब पर जाते हैं। वहां पर आपको हर एक जानकारी मिल जाती है। इस प्रकार जानकारी प्राप्त करवाने में गूगल अहम भूमिका निभाता है।

2. क्लाउड स्टोरेज उपलब्ध करवाता है

आपको जानकर थोड़ा अजीब लगेगा लेकिन गूगल क्लाउड स्टोरेज भी उपलब्ध करवाता है। यहां तक कि जब आप गूगल फोटोज का इस्तेमाल करते हैं तो वह आपके करीब 25 जीबी तक का फ्री क्लाउड स्टोरेज उपलब्ध करवाता है। इस प्रकार गूगल क्लाउड स्टोरेज के लिए भी काफी ज्यादा मशहूर है। यहां तक की गूगल का करीब 10 परसेंट रेवेन्यू क्लाउड स्टोरेज से ही आता है।

3. स्मार्टफोन को सिक्योर रखने में मदद

गूगल हमारे स्मार्टफोन को Secure रखने में मदद करता है। वह हमें किसी भी ऐसी वेबसाइट पर नहीं जाने देता है जो की हैकिंग या फिर उससे संबंधित उत्पाद सपोर्ट करती हो। इसके साथ ही गूगल हमारे एंड्रॉयड को हैक करने से भी बचाने में हमारी काफी ज्यादा मदद करता है। क्योंकि हमारे स्मार्टफोन में गूगल सिक्योरिटी के Patches आते रहते हैं।

यहां गूगल की मुख्य services के बारे में विस्तारपूर्वक बताया जा रहा है।

  • Google Ad Grants
  • Google Ad Manager
  • Google Ads
  • Google AdSense
  • AdWords Editor
  • AdWords Express
  • Google Alerts
  • Google Calendar
  • Google Chart API
  • Google Charts
  • Google Checkout
  • Chrome Web Store
  • Google Classroom
  • Google Cloud Connect
  • Google Cloud Datastore
  • Google cloud Messaging
  • Google Analytics
  • Google Contacts
  • Google Dashboard
  • Google Dictionary
  • Google for Education
  • Google Express
  • Google Fonts
  • Google Flights
  • Google Gadgets
  • Keyword Planner
  • Google mobile services
  • Google My Business
  • Google Offers
  • Google Opinion Rewards
  • Google Pay
  • Google Pay Send
  • Google Photos
  • Google Questions and Answers
  • Google Safe Browsing
  • Google Sites
  • Google Station
  • Google Sync
  • YouTube

इसके अलावा भी गूगल यूज़र्स को services देता है जिनमें कुछ मुफ़्त तथा कुछ paid होती हैं।

गूगल पैसे कैसे कमाता है? 

गूगल की कमाई वास्तव में अनेक तरीके से होती है। जिसमें revenue जनरेट करने के लिए गूगल द्वारा Private इन्वेस्टमेंट करना, शेयर्स को Sell करना भी शामिल है। लेकिन जैसा कि हमने कहा गूगल की कमाई का मुख्य स्रोत है Advertisement है तो आइए जरा विस्तार से समझते हैं।

Google Ads & Cloud Services 

दोस्तों Ads एक मुख्य तरीका है जिससे गूगल की कमाई होती है। इस एडवरटाइजिंग सेवा को हम गूगल Ads भी कहते है। जैसे कि हम जानते हैं कि यह विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजन है, इसलिए इस सर्च इंजन पर रोजाना करोड़ों लोग आते हैं। इसीलिए इस प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल एडवरटाइजर्स लोगों तक अपने प्रोडक्ट या सेवाओं को पहुंचाने के लिए करते हैं। एडवरटाइजर्स अपने विज्ञापनों को गूगल पर सबमिट करते हैं। इन विज्ञापनों में बिजनेस से रिलेटेड keyword शामिल होते हैं। 

एग्जांपल के लिए आपका भी कोई बिजनेस है तो आपको google ads प्रोग्राम में साइन अप कर अपना ऐड चलाना होता है। ऐड चलाने के दौरान अपने प्रोडक्ट सर्विस से संबंधित कीवर्ड्स आपको डालना होता है। और जब भी कोई यूजर गूगल पर वही कीवर्ड सर्च करता है तो उन्हें बैनर या Text के माध्यम आपके ऐड्स देखने को मिलते हैं। लेकिन क्या सिर्फ Ad दिखाने का ही गूगल एडवरटाइजर से पैसा लेता है। जी नहीं।

गूगल का प्रयोग सभी करते हैं लेकिन शायद ही किसी ने सोचा होगा कि गूगल आखिरकार पैसे कैसे कमाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दे की गूगल अपना ज्यादातर रेवेन्यू एडवर्टाइजमेंट से कमाता है। मिली जानकारी के मुताबिक गूगल करीब 57.8 परसेंट रेवेन्यू एडवर्टाइजमेंट से आता है। जो कि कुल 3.58 लाख करोड रुपए के आसपास बैठता है। इसके अलावा गूगल का रेवेन्यू ऐडसेंस तथा क्लाउड से करीब 10.7 फीसदी के आसपास है। वहीं यूट्यूब से गूगल को करीब 9.6 फीसदी पैसा आता है।

Google के CEO कौन है? और उनकी सैलरी कितनी है?

दोस्तों आप में से कई सारे लोग जानते होंगे। गूगल के CEO एक भारतीय Sundar pichai है। एक सामान्य परिवार में जन्मे सुंदर पिचाई गूगल के सीईओ पद पर वर्ष 2015 से अपनी सेवाएं दे रहे है।

कुछ समय पहले गूगल को इंटरनेट पर आए 21 साल हो चुके हैं। और इसी जन्मदिन के अवसर पर गूगल के CEO के बारे में काफी कुछ जानने को मिला। दोस्तों 2 अक्टूबर 2015 को जब बतौर CEO सुंदर पिचाई को चुना गया तो यह पल न सिर्फ उनके लिए गर्वित करने वाला था। बल्कि भारत को भी उन पर गर्व है।

सुंदर का जन्म भारत के तमिलनाडु राज्य में हुआ एक सामान्य भारतीय परिवार की तरह सुंदर भी चेन्नई के 2 रूम वाले अपार्टमेंट में रहते थे। उनके पिता एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे जबकि मां स्टेनोग्राफर दी। भारत के IIT खड़कपुर से बीटेक इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद वे पढ़ाई के लिए अमेरिका गए और अमेरिका की पेंसिलवेनिया यूनिवर्सिटी से उन्होंने MBA किया.

बता दें सुंदर पिचाई सीईओ बनने से पूर्व बतौर इंजीनियर काम कर चुके थे। तथा सीईओ बनने से पहले भी उन्होंने गूगल कंपनी में अपनी सेवाएं दी थी। गूगल ड्राइव, जीमेल, गूगल मैप से इत्यादि प्रोजेक्ट का किस्सा सुंदर रह चुके थे।

गूगल किस देश की कंपनी है?

गूगल एक अमेरिकी कंपनी है। जिसका मुख्यालय अमेरिका के कैलिफोर्निया मैं स्थित है। परंतु क्योंकि गूगल विश्व की सबसे बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों में से एक है। इसलिए विभिन्न देशों में गूगल की अलग-अलग शाखाएं हैं जिनमें से भारत में भी अनेक शाखाएं हैं.

बात करें भारत के संदर्भ में तो गूगल कि भारत में इस समय चार ऑफिस हैं जो बेंगलुरु, मुंबई, गुडगांव , हैदराबाद में स्थित हैं।

गूगल का इतिहास – History of Google in Hindi

1996 में PHD की पढ़ाई कर रहे दो विद्यार्थियों larry page तथा sergey bin ने रिसर्च प्रोजेक्ट के दौरान गूगल की शुरुवात की। तथा 4 सितंबर 1998 के दिन google.com को live किया गया। यह वह दौर था जब इंटरनेट पर yahoo यूज़र्स की पहली पसंद रहता था। परन्तु गूगल को लोकप्रिय बनाने तथा यूज़र्स के बेहतर अनुभव के लिए खोजकर्ता google में समय-समय पर product & services लाते रहे।

गूगल द्वारा वर्ष 2004 में gmail तथा फरवरी 2005 में google Maps तथा 2008 में google chrome तथा 2012 में google ड्राइव सर्विस को यूज़र्स के लिए लॉन्च किया तथा समय-समय पर अन्य सेवाओं को google लाता रहा। और वर्तमान समय में गूगल न सिर्फ सबसे बड़ा सर्च इंजन है बल्कि एक विशाल कंपनी भी बन चुकी है।

यह भी पढ़े:

अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

Previous articleइंटरनेट कैसे चलता है और इंटरनेट कैसे काम करता है?
Next articleगेटवे क्या है और कैसे काम करता है? (Gateway in Hindi)
Ankur Singh
हेलो दोस्तों, मेरा नाम अंकुर सिंह है और में New Delhi से हूँ। मैंने B.Tech (Computer Science) से ग्रेजुएशन किया है। और में इस ब्लॉग पर टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर, मोबाइल और इंटरनेट से जुड़े लेख लिखता हूँ।

8 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here