इंटरनेट बैंकिंग क्या है – What Is Net Banking In Hindi

2

what is internet banking or mobile banking in hindi? Net Banking Information In Hindi. अगर आपको नहीं पता की इंटरनेट बैंकिंग क्या है? (What Is Net Banking In Hindi) और Internet Banking का Use क्या है? तो आज इस पोस्ट में हम जानिंगे की Internet Banking कैसे काम करता है? इसके फायदे और नुकसान क्या है, और इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे करें?

क्या आप जानना चाहते हैं, की net बैंकिंग क्या होता है? नेट बैंकिंग कैसे कार्य करता है। तो आप सही लेख में है, आज के इस लेख को अंत तक पढ़िए क्योंकि यहाँ मैं net बेकिंग से संबंधित जानकारी बताने जा रहा हूँ। उम्मीद है आज के इस लेख को पढ़कर आप समझ जाओगे की इंटरनेट बैंकिंग क्या है – Net Banking Information In Hindi


आज इंटरनेट की इस दौर में हम उन अनेक कार्यों को घर बैठे असानी-से कर सकते हैं, जिन्हें पहले करना असंभव-सा प्रतीत होता था। Net बैंकिंग इसका सबसे बेहतरीन उदाहरण कह सकते हैं। चलिये जानते हैं नेट बैंकिंग (Internet Banking) क्या होता है? (what is internet banking in hindi)

इंटरनेट बैंकिंग क्या है – What Is Net Banking In Hindi

Net Banking को वेब बैंकिंग (web banking), इंटरनेट बैंकिंग, ऑनलाइन बैंकिंग आदि नामों से भी जाना जाता है। अतः सरल शब्दों में कहें तो “net banking सुविधा का इस्तेमाल ग्राहक इंटरनेट के जरिये घर बैठे अपने मोबाइल, कंप्यूटर आदि डिवाइस पर बैंकिंग की सुविधा का इस्तेमाल कर सकते हैं.


नेट बैंकिंग विशेषकर उन लोगो के लिए फायदेमंद है, जो किसी कारणवश बैंक नहीं जा पाते अथवा बैंक में लगी कतारों से बचना चाहते हैं, वे लोग कहीं भी अपने मोबाइल में इंटरनेट कनेक्शन ऑन कर मोबाइल में बैंकिंग सेवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं।

अब आप जान चुके होंगे की इंटरनेट बैंकिंग क्या है – Net Banking Information In Hindi? चलिए अब देखते है की इसके फायदे और नुकसान क्या है, और इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे करें?

इंटरनेट बैंकिंग के फ़ायदे

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर ऑनलाइन बिजली बिल, मोबाइल रिचार्ज आदि कर घर बैठे कर सकते हैं। इसके अलावा हम ऑनलाइन शॉपिंग के समय पेमेंट के लिए नेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग की मदद से हम ऑनलाइन अपना बैंक एकाउंट बैलेंस चेक कर सकते हैं। इसके अलावा हम नेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर बैंक से की गई ट्रांसेक्शन history की रिपोर्ट देख सकते हैं। इसके अलावा हम बैंक स्टेटमेंट को मोबाइल में डाउनलोड भी कर सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर हम कहीं से भी अपने दोस्तों रिश्तेदारों या किसी भी व्यक्ति को पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर हम बैंक जाए बगैर पासबुक, क्रेडिट कार्ड आदि के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। और चेक-बुक भी आर्डर कर सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कर हम बस, रेल टिकट बुक करने के साथ ही ऑनलाइन टैक्स का भुगतान कर सकते हैं। इंटरनेट बैंकिंग के फायदों को जानने के बाद अब सवाल आता है कि हम नेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं?

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे करें?

  • इंटरनेट बैंकिंग सेवा का उपयोग करने के लिए सबसे पहले आपको बैंक में जाकर एक फॉर्म भरना होगा।
  • अब इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने के लिए अपने मोबाइल के किसी ब्राउज़र में बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट को ओपन करेंगे जिसे बैंक ने ओपन करने के लिए एक लिंक भेजा होगा।
  • उसके बाद अपना वेबसाइट के पेज पर यूजर आईडी तथा पासवर्ड एंटर करना होगा।
  • तथा सही username तथा पासवर्ड एंटर करने के बाद आप इंटरनेट बैंकिंग की सेवाओं का फायदा उठा सकते हैं.

यह भी पढ़े: बैंक अकाउंट हैक कैसे होता है और कैसे बचाये?

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हुए ध्यान देने योग्य बातें:-

इंटरनेट बैंकिंग के लिए उपयोग किए जाने वाले आईडी तथा पासवर्ड को कभी भी किसी भी व्यक्ति के साथ शेयर ना करें। तथा net banking के लिए हमेशा एक कठिन पासवर्ड सेट करें, तथा जिसे हमेशा आप याद रख सकें।

बैंक द्वारा जारी किए गए login id तथा पासवर्ड को केवल बैंक की ऑफिशियल वेबसाइट पर ही लॉगिन करें, किसी ईमेल या sms पर भेजे गए लिंक में बैंक के लॉगइन पासवर्ड को एंटर नहीं करना चाहिए।।

फोन पर किसी व्यक्ति द्वारा आपके बैंक खाते का पासवर्ड तथा तथा अन्य जानकारियां माँगने पर बताना नहीं चाहिए। इंटरनेट बैंकिंग के खाते को इस्तेमाल करने के बाद सुरक्षा की दृष्टि से लॉग आउट कर देना चाहिए।।

इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करते समय अपना ईमेल एड्रेस तथा मोबाइल नंबर बैंक में जरूर रजिस्टर करें जिससे आपके खाते में हुए लेन-देन की पूरी सूचना प्राप्त कर सकते हैं।

हमेशा अपना ATM कार्ड साथ में रखें, किसी के साथ इसकी डिटेल शेयर ना करें। नेट बैंकिंग इस्तेमाल करते हुए आपके मोबाइल में आया ओटीपी कभी भी किसी के साथ शेयर ना करें। कभी भी किसी भी यूजर को नेट बैंकिंग यूजरनेम, पासवर्ड या email id Access ना दे। इसके अलावा अपने बैंक अकाउंट की जानकारी भी किसी के साथ साझा ना करें।

इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करते समय हमेशा ब्राउज़र पर बैंक की वेबसाइट का सही यूआरएल टाइप करना चाहिए अन्यथा आप यूआरएल में थोड़े से बदलाव के कारण आप किसी अन्य वेबसाइट में अपना अकाउंट ओपन कर सकते हैं, तथा आप ठगी का शिकार हो सकते हैं।

इसके अलावा किसी नेट बैंकिंग का उपयोग करते समय एकाउंट से जुड़ा कोई संदेह तथा जानकारी की सूचना प्राप्त करने के लिए बैंक के फ़ोन नम्बर पर कॉल कर सकते हैं।

जैसे-जैसे इंटरनेट लोगों तक पहुंच रहा है, Net Banking शब्दावली भी सामान्य होते जा रही है। इसलिए आज लगभग सभी बैंक आपको नेट बैंकिंग की सुविधाएं दे रहे हैं, और शायद आपने नेट बैंकिंग का इस्तेमाल भी कई बार किया होगा। दोस्तों आइए Net Banking में लेन–देन की इस प्रक्रिया को आइए समझते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग कैसे काम करती है?

नेट बैंकिंग के जरिए जो भी यूजर online लेनदेन करना चाहते हैं, उन्हें बैंक की वेबसाइट में जाकर Login करना होता है। अपने बैंक अकाउंट में Login करने के लिए आपके पास एक कंप्यूटर, लैपटॉप या फिर वह मोबाइल चाहिए जिसमें इंटरनेट कनेक्शन अवेलेबल हो।

जैसे ही आप अपने Correct यूजरनेम और पासवर्ड के साथ Login कर लेते हैं! तो अब आप घर बैठे बिना बैंक जाए बैंक द्वारा दी जाने वाली फाइनेंशियल Services का उपयोग कर सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग से क्या-क्या किया जा सकता है?

दोस्तों न सिर्फ इंटरनेट बैंकिंग आपको एक बैंक से दूसरे बैंक में instantly पैसा Transfer करने में मदद करता है, बल्कि इसके कहीं अन्य लाभ भी हैं जैसे

  • check account statement
  • opening fixed deposit (F.D)
  • apply for new cheque book
  • apply for loan
  • apply new debit card and pin
  • & more…
तो दोस्तों यह समझने के बाद की इंटरनेट बैंकिंग आखिर है क्या? और इससे क्या क्या फायदे हैं। अब हमारे लिए Net बैंकिंग सेवा का इस्तेमाल करने के लिए यह जानना जरूरी है कि

Apne Bank Account Me Net Banking Kaise Le?

नेट बैंकिंग सुविधा पाने के लिए आपको इसे अपने बैंक अकाउंट में Activate करना होगा। आप इस सुविधा को ऑनलाइन घर बैठे भी Activate कर सकते हैं, लेकिन लगभग सभी बैंकों की सामान्यतः कुछ शर्तें होती हैं।
◆ आपका मोबाइल नंबर आपके बैंक अकाउंट से लिंक होना चाहिए।
◆ आपका ATM Card Active होना चाहिए।
यदि आप ऑनलाइन नेट बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना चाहते हैं, तो यह Confirm कर लीजिए! कि आपने पहले इस सुविधा के लिए बैंक की किसी शाखा में आवेदन तो नहीं किया है।
चलिए दोस्तों अब हम जानते हैं Net बैंकिंग की सुविधा कैसे शुरू करें? ऑनलाइन लगभग सभी बैंकों में नेट बैंकिंग एक्टिवेट करने का यही Process होता है।
  • नेट बैंकिंग रजिस्टर करने के लिए सबसे पहले आप अपने बैंक की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं।
  • उसके बाद personal banking को Select कर Login Button पर क्लिक करें। उसके बाद new user बटन पर क्लिक करें।
  • अब New user Registration option को Select कीजिए
  • अब एक New पेज ओपन होगा! आप अपनी चेकबुक या पासबुक इस दौरान अपने साथ रखें। जिसमें से आपको अपने बैंक अकाउंट से Related इंफॉर्मेशन भरनी होगी।
  • जैसे कि आपका Account नंबर
  • CIF नंबर यह आपके पास बुक में होगा।
  • Country
  • मोबाइल number (रजिस्टर्ड)
  • Branch code
  • Facility  required (full transaction rights)  को select करें।
  • Captcha Code
  • यह सभी जानकारी सही से Fill करने के बाद Submit बटन पर क्लिक कीजिए।
  • अब आपके उस रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP आएगा! उस ओटीपी को नए पेज में आपको Fill कर देना है और confirm बटन पर क्लिक कीजिए।
  • अब एक New पेज ओपन होगा! जिसमें आपके सामने दो ऑप्शन होंगे यदि आपके पास Atm कार्ड है, तो First Option को Select कीजिए! नहीं है तो I don’t have  ATM card को Select कीजिए।
  • ध्यान रखें! यदि आपके पास ATM कार्ड नहीं है, तो आपको नेट बैंकिंग सुविधा के लिए अपने बैंक की शाखा पर जाकर इसे Activate करना होगा।
  • अब आपको अपने ATM कार्ड के नंबर CVV Details इत्यादि fill करनी होगी ।
  • इस दौरान 1₹ की Transection आपके अकाउंट से होगी। ताकि SBI आपके अकाउंट को verify कर सके।
  • उसके बाद आपको अपना यूजरनेम देखने को मिल जाएगा! आपको एक पासवर्ड क्रिएट करना होगा। जिसके जरिए आप बैंक की साइट पर login कर नेट बैंकिंग कर सके।
दोस्तों इस तरह आप SBI की तरह अपने किसी भी बैंक अकाउंट में नेट बैंकिंग की सुविधा पा सकते हैं, लगभग सभी बैंकों में नेट बैंकिंग एक्टिवेट करने की यही प्रक्रिया होती है।

चूँकि इस डिजिटल दुनिया में एक तरह जहां नेट बैंकिंग से हमारे लेनदेन तथा अनेक कार्य सरल हो चुके हैं! वहीं दूसरी तरफ Fraud भी काफी बढ़ चुके हैं।

इंटरनेट बैंकिंग का इतिहास? – History Of Net Banking In Hindi

World Wide Web की शुरुआत से ही इंटरनेट बैंकिंग का Concept सामने आने लगा। तथा 1980 के दशक से ही Programmers द्वारा ऑनलाइन ट्रांजैक्शन की सेवा शुरू करने के विचार सामने आने लगे।

यदि हम भारत के संदर्भ में इंटरनेट बैंकिंग के इतिहास को देखें तो इसकी शुरुआत 1990 के अंतिम वर्षों में ICICI द्वारा हुई जब इस बैंक द्वारा पहली बार वर्ष 1996 में इंटरनेट बैंकिंग को अपने ग्राहकों के लिए लांच किया।


लेकिन इंटरनेट के प्रति लोगों की जागरूकता तथा इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट में कमी को देखते हुए इसकी शुरुआत वर्ष 1999 से होने लगी।

लेकिन समय के साथ इंटरनेट यूजर्स की बढ़ती संख्या एवं अन्य देशों में नेट बैंकिंग से होने वाले लाभ को देखते हुए भारत में भी कहीं Banks नेट बैंकिंग की सुविधा अपने यूजर्स को देने लगी! और वर्तमान समय में आज लगभग सभी बैंक नेट बैंकिंग की सुविधाएं अपने ग्राहकों को प्रदान कर रहे हैं.

Hope की अब आप जान गये होगे की इंटरनेट बैंकिंग क्या है? (What Is Net Banking In Hindi) और Internet Banking का Use क्या है? Internet Banking कैसे काम करता है? इसके फायदे और नुकसान क्या है, और इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे करें?

उम्मीद है की आपको इंटरनेट बैंकिंग क्या है – What Is Net Banking In Hindi? का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here