जॉयस्टिक क्या है? प्रकार, उपयोग, फ़ायदे और परिभाषा (Joystick Hindi)

0

जॉयस्टिक क्या है?

जॉयस्टिक एक इनपुट डिवाइस है जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर में कर्सर या पॉइंटर जो भी एक्टिविटी होती है अथवा मूवमेंट होती है उसे कंट्रोल करने के लिए किया जाता है। जॉयस्टिक का इस्तेमाल ज़्यादातर गेमिंग (गेम खेलना) में होता है।


आप ध्यान से अगर जॉयस्टिक को देखेंगे तो उसके नीचे की साइड देखने पर आपको एक चीज मिलेगी जिसे पोटेंशियोमीटर कहते हैं। इसी की वजह से जॉयस्टिक में एक्टिविटी होती है और इसी की वजह से ही स्टिक फिर से अपने स्थान पर आ जाती है। हम जब चाहे तब जॉयस्टिक को किसी भी डायरेक्शन में इधर से उधर कर सकते हैं।

जॉयस्टिक में अलग-अलग प्रकार के बटन भी होते हैं और उन बटनो का इस्तेमाल विभिन्न कमांड कंप्यूटर को देने के लिए किया जाता है। सामान्य तौर पर जॉयस्टिक का इस्तेमाल तब किया जाता है जब हमें वीडियो गेम खेलना होता है।

जॉयस्टिक की परिभाषा?


यह छोटी और मुड़ी हुई स्टिक होती है और करसर को इधर से उधर ऑपरेट करने में इसका इस्तेमाल होता है। मार्केट में ऐसे कई जॉय स्टिक मौजूद है जो कीबोर्ड में लगे हुए होते हैं और दूसरी बटन से बिल्कुल अलग ही काम करते हैं।

सबसे अधिक जॉय स्टिक का इस्तेमाल वीडियो गेम को प्ले करने के लिए किया जाता है। जॉय स्टिक के नीचे की साइड आपको पोटेंशियोमीटर लगा हुआ दिखाई देता है। इसी के द्वारा इसकी मूवमेंट होती है।


जॉयस्टिक के तत्व?

टोटल 8 प्रकार के तत्व यानी कि एलिमेंट जॉयस्टिक में होते हैं, जिसकी जानकारी निम्नानुसार है।

  • Stick (छड़ी)
  • Base (आधार)
  • Trigger (ट्रिगर)
  • Extra Button (अतिरिक्त बटन)
  • Auto Fire Switch (ऑटो फायर स्विच)
  • Throttle (थ्रॉटल)
  • Hat Switch (टोपी स्विच)
  • Suctions Cups (सक्शन कप)

जॉयस्टिक का प्रकार (Types of Joystick in Hindi)

वैसे तो जॉय स्टिक के कई प्रकार होते हैं परंतु इसके टोटल 5 ऐसे मुख्य प्रकारों के बारे में हमने आपको बताया है जिसके बारे में अवश्य ही आपको जानकारी होनी चाहिए।


image source: cybercomputing

1: पडल जॉयस्टिक

पहले वीडियो गेम को प्ले करने के लिए पडल जॉय स्टिक का इस्तेमाल होता था और इसकी गिनती पुराने जॉय स्टिक की लिस्ट में होती है। यह बहुत ही नॉर्मल कंट्रोलर है। इसमें एक गुंडी लगी हुई होती है। इसी के द्वारा गेम कंट्रोलिंग की जाती है। बता दें कि पडल जॉय स्टिक कंट्रोल के लिए एनालॉग सिस्टम का यूज करता है और यह बटन तथा पोटेंशियोमीटर के द्वारा बनाए गए होते हैं।


2: डिजिटल जॉय स्टिक

इसे सामान्य जोय स्टिक भी कहा जाता है और सबसे अधिक इसका इस्तेमाल उन कंप्यूटर में होता है जिसे डोमेस्टिक कंप्यूटर याने की घरेलू कंप्यूटर कहा जाता है। इस जॉयस्टिक को आप ऊपर, नीचे या फिर दाएं, बाएं किसी भी दिशा में आसानी से घुमा सकते हैं। अगर हम वर्तमान की बात करें तो बड़े पैमाने पर जिस जॉय स्टिक का इस्तेमाल किया जा रहा है वह डिजिटल जॉय स्टिक ही है।

3: एनालॉग जॉयस्टिक

इसमें भी पोटेंशियोमीटर का इस्तेमाल होता है, जो ठीक उसी प्रकार से काम करता है जिस प्रकार से एनालॉग जॉय स्टिक और पडल जॉय स्टिक काम करते हैं।

4: पीसी एनालॉग जॉयस्टिक

आईबीएम कंपनी के द्वारा सबसे पहले अपने कंप्यूटर के साथ पीसी एनालॉग जॉय स्टिक का इस्तेमाल किया गया था। यह उसी प्रकार का होता है जिस प्रकार से एनालॉग जॉय स्टिक होता है। हालांकि पीसी एनालॉग जॉय स्टिक मे टोटल बटन की संख्या 2 होती है।

5: जॉयपैड

इसमें एक दी पैड होता है जिसकी संख्या एक ही होती है और इसी के द्वारा जॉयपैड को कुल चारों दिशाओं में कंट्रोल कर सकते हैं। अभी के समय में बड़े पैमाने पर जॉय पैड का इस्तेमाल गेम्स खेलने के लिए किया जा रहा है।

जॉयस्टिक का उपयोग?

जॉय स्टिक का इस्तेमाल इंडस्ट्री में, असेंबली लाइन में, क्रेन एक्सलेटर में होता है। इसके अलावा हवाई जहाज में मुख्य फ्लाइट कंट्रोलर के तौर पर भी इसका यूज होता है।

हालांकि इंडस्ट्री और हवाई जहाज में यूज़ किया जाने वाला जॉय स्टिक उस प्रकार का नहीं होता है जिस प्रकार का वीडियो गेम खेलने वाला जॉय स्टिक होता है, बल्कि इंडस्ट्री में जो जॉय स्टिक इस्तेमाल होता है उसका स्ट्रक्चर बिल्कुल अलग ही होता है।

इंडस्ट्री के जॉय स्टिक और वीडियो गेम के जॉय स्टिक की रकम में भी काफी अंतर होता है। अगर आप मार्केट में वीडियो गेम के जॉय स्टिक को लेने जाएंगे तो वह आपको इंडस्ट्री और हवाई जहाज के जॉय स्टिक की तुलना में कम दाम पर ही प्राप्त हो जाएगा।

जॉयस्टिक के फायदे?

नीचे हमने इस बात पर चर्चा की है कि जॉय स्टिक के फायदे क्या होते हैं अथवा जॉय स्टिक का एडवांटेज क्या है।

  • ऐसी गेम जो रेसिंग या फिर मिशन वाली गेम की कैटेगरी में आती है उन्हें प्ले करने के लिए जॉय स्टिक बहुत ही उपयोगी साधन साबित होता है।
  • जॉय स्टिक की वर्किंग कैपेसिटी बहुत ही शानदार होती है।
  • इसे आप 3D तरीके से भी यूज कर सकते हैं।
  • अगर आपको अपनी मनपसंद गेम कंप्यूटर के अंदर खेलनी है तो आप सरलता से जॉय स्टिक के साथ ऐसा कर सकते हैं।
  • जॉय स्टिक का स्ट्रक्चर बहुत ही आसान होता है। इसलिए इसे आसानी के साथ ऑपरेट किया जा सकता है।

जॉयस्टिक के नुकसान?

जहां एक तरफ जॉय स्टिक के फायदे हैं तो वहीं दूसरी तरफ इसके थोड़े बहुत नुकसान भी हैं। नीचे हमने जॉय स्टिक के नुकसानों की जानकारी दी है।

  • अगर इस्तेमाल करने के दरमियान कभी व्यक्ति के द्वारा अधिक तेजी के साथ जॉय स्टिक को जोर से चलाया जाता है तो जॉय स्टिक का स्टिक टूटने की संभावना भी रहती है। इसीलिए इसे चलाने के दरमियान बड़ी ही सावधानी रखनी पड़ती है।
  • कोई व्यक्ति अगर पहली बार जॉय स्टिक का इस्तेमाल करता है तो उसे स्टार्टिंग में स्क्रीन पर प्वाइंटर को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में थोड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है
  • लगातार अगर व्यक्ति के द्वारा जोयस्टिक का इस्तेमाल किया जाता है तो उसके हाथों में दर्द भी उत्पन्न हो जाता है।

जॉयस्टिक का इतिहास (History of Joystick in Hindi)

तकरीबन 20 वीं सदी के आसपास में जॉय स्टिक का निर्माण किया गया था। इस प्रकार से यह एक बहुत ही पुराना कंप्यूटर में इस्तेमाल होने वाला डिवाइस है। इसे जिस व्यक्ति ने बनाया था उसका नाम Robert Esnault Pelterie था जो कि फ्रांसीसी पायलट थे।

बिजली से चलने वाले जॉय स्टिक का निर्माण साल 1944 में जर्मनी देश में किया गया था। इस बिजली से चलने वाले जॉय स्टिक में टोटल 2 बटन थी। वही बता दे कि कंप्यूटर में वीडियो गेम खेलने के लिए जिस जॉयस्टिक का इस्तेमाल होता है उसे साल 1972 में बना करके तैयार किया गया था और उस जॉयस्टिक का निर्माण करने का श्रेय Ralph H Bear को जाता है।

अगर आपके पास कोई सवाल है, तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते हो. और अगर आपको यह पोस्ट हेल्पफुल लगा हो तो इसको सोशल मीडिया पर अपने अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हो.

Previous articleJPEG क्या है? (What is JPEG in Hindi)
Next articlePaytm Wallet से पैसे कैसे निकालें? (नया तरीक़ा)
Ankur Singh
हेलो दोस्तों, मेरा नाम अंकुर सिंह है और में New Delhi से हूँ। मैंने B.Tech (Computer Science) से ग्रेजुएशन किया है। और में इस ब्लॉग पर टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर, मोबाइल और इंटरनेट से जुड़े लेख लिखता हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here