Mail Server क्या है? (What is Mail Server in Hindi)


अगर आप इंटरनेट की ईमेल सुविधा का इस्तेमाल करते है तो आपको Mail Server क्या है? (What is Mail Server in Hindi) के बारे मे जानना चाहिए। किसी व्यक्ति को हमारे द्वारा जब ऑनलाइन इमेल भेजा जाता है तो वह तुरंत ही सामने वाले व्यक्ति को प्राप्त हो जाता है और यही नहीं सामने वाला व्यक्ति भी जब हमें ईमेल भेजता है तो उसके द्वारा भेजा गया ईमेल भी हमें प्राप्त हो जाता है। ऐसे में हमें लगता है कि ईमेल भेजना कितना सरल है परंतु क्या आप जानते हैं कि ईमेल भेजने की जो प्रक्रिया होती है वह एक जटिल प्रक्रिया होती है।

Mail Server क्या है? (What is Mail Server in Hindi)

क्यों ईमेल भेजने और प्राप्त करने में अनेक प्रकार के प्रोटोकोल और प्रोसेस का इस्तेमाल होता है और इनमें सबसे महत्वपूर्ण भूमिका मेल सर्वर निभाते हैं। 



    इस आर्टिकल में हम आपको Mail Server क्या है?, मेल सर्वर काम कैसे करता है?, “मेल सर्वर को कैसे इस्तेमाल करते है” के बारे में जानकारी दे रहे हैं साथ ही “मेल सर्वर के फायदे-नुकसान” की भी जानकारी उपलब्ध करवा रहे हैं।

    Mail Server क्या है? (What is Mail Server in Hindi)

    मेल सर्वर को ईमेल सर्वर भी कहते हैं, जिसकी सहायता से इंटरनेट पर आसानी से ईमेल भेजे तथा प्राप्त जाते है।

    कई बार ऐसा होता है कि web-server और मेलसर्वर यह दोनों एक ही मशीन में अटैच होते हैं। हालांकि जीमेल और हॉटमेल जैसी बड़ी ईमेल भेजने वाली सर्विस स्पेशल तौर पर ईमेल सेंड और हासिल करने के लिए हार्डवेयर का इस्तेमाल करती है।

    कंप्यूटर में मेल सर्वर सॉफ्टवेयर होता है क्योंकि जो कंप्यूटर का सिस्टम होता है वह मेल सर्वर के तौर पर काम करने के लिए मेल सर्वर सॉफ्टवेयर की डिमांड करता है।

    सर्वर पर हॉस्टेड डोमेन के लिए ईमेल अकाउंट तैयार करने की सुविधा मेल सर्वर सॉफ्टवेयर उपलब्ध करवाता है। मेल सर्वर के द्वारा स्टैंडर्ड ईमेल प्रोटोकॉल का इस्तेमाल किया जाता है और इसी के जरिए ईमेल की प्राप्ति की जाती है और निकासी की जाती है।

    मेल सर्वर के प्रकार?

    आउटगोइंग मेल सर्वर और इनकमिंग मेल सर्वर इन्हीं दो केटेगरी में मेलसर्वर को मुख्य तौर पर डिवाइड किया गया है। आइए आउटगोइंग मेल सर्वर और इनकमिंग मेल सर्वर की जानकारी हासिल करते हैं।

    1: आउटगोइंग मेल सर्वर

    सिंपल मेल ट्रांसफर प्रोटोकोल और आउटगोइंग मेल सर्वर दोनों को आप एक ही समझ सकते हैं। जब रिक्वेस्ट को सेंड किया जाता है तब उसे हैंडल करने का काम सिंपल मेल ट्रांसफर प्रोटोकोल के द्वारा ही किया जाता है और फिर ईमेल सेंड करता है।

    2: इनकमिंग मेल सर्वर

    कस्टमर तक मेल को पहुंचाने में जो सर्वर सहायता करते हैं उन्हें ही इनकमिंग मेल सर्वर का नाम दिया गया है। इनकमिंग मेल सर्वर ना सिर्फ कस्टमर तक मेल को पहुंचाने में सहायक होते हैं बल्कि ये ईमेल को हासिल करने में भी महत्वपूर्ण साबित होते हैं। इसके टोटल 2 प्रकार होते हैं जिनके नाम POP3 और IAMP हैं।

    POP3 सरवर उन ई-मेल को स्टोर करने का काम करते हैं जिसे कंप्यूटर के लोकल हार्ड ड्राइव पर या तो भेजा जाता है या फिर हासिल किया जाता है।

    IAMP का काम लगातार उन कॉपी को स्टोर करना होता है जो सर्वर पर संदेश के तौर पर आते हैं। बता दें कि अधिकतर सरवर के द्वारा मैसेज को सरवर पर ही स्टोर किया जाता है।

    मेल सर्वर की विशेषताएं?

    मेल सर्वर की विशेषताएं निम्नानुसार है।

        • एसएसएल/टीएलएस और एसएमटीपी/ pop3/आईएमएपी, एचटीटीपी तथा प्रोक्सी सर्वर की सुविधाएं मेलसर्वर के द्वारा ही उपलब्ध करवाई जाती है।

        • अपने बिजनेस के लिए सहायक बनाने के लिए मेल सर्वर में बहुत ही इफेक्टिव और प्रभावशाली एंटी स्पैम की सुविधा हमें प्राप्त होती है।

        • इसमें मेल क्लाइंट ऑटोकॉन्फ़िगर सपोर्ट भी होता है साथ ही साथ बहुत ही तेज गति के साथ और पावरफुल मैसेज प्रोसेसिंग भी मेल सर्वर में होती है।

        • बहुत ही सरलता के साथ एडमिनिस्ट्रेटर के द्वारा मेल सर्वर का सेटअप किया जा सकता है और इसके अलावा मेलसर्वर तमाम प्रकार के एंटीवायरस को सपोर्ट करती है।

        • मेलसर्वर की कोस्ट भी अधिक होती है।

      मेल सर्वर के फायदे?

      बहुत सारे ऐसे फायदे हैं जो मेलसर्वर की वजह से ही हमें प्राप्त होते हैं। उनमें से कुछ मुख्य फायदे की जानकारी नीचे आपके सामने प्रस्तुत की गई है।

          • अगर किसी व्यक्ति को अपने बिजनेस को और भी अधिक सुविधाजनक बनाना है तो वह मेल सर्वर का इस्तेमाल कर सकता है।

          • इसकी खासियत यह है कि व्यक्ति उसके द्वारा सिर्फ ऑथराइज्ड लोगों को ही ईमेल सेंड कर सकता है या फिर ऑथराइज व्यक्ति से इमेल प्राप्त कर सकता है।

          • ईमेल में जो स्पैम ईमेल आता है, उसे इनबॉक्स में भेजने से पहले ही ईमेल सरवर के द्वारा फिल्टर कर दिया जाता है।

          • अलग-अलग प्रकार के डाटा को ईमेल सर्वर के द्वारा स्टोर करके सुरक्षित रखा जा सकता है।

        मेल सर्वर के नुकसान?

        जहां एक तरफ मेल सर्वर के कुछ एडवांटेज है तो वहीं दूसरी तरफ मेलसर्वर के कुछ डिसएडवांटेज भी है। नीचे आपको मेल सर्वर की हानि की जानकारी दी गई है।

            • ईमेल सर्वर बड़े पैमाने पर विस्तारित है। इसीलिए इसका मैनेजमेंट करने के लिए टेक्निकल एक्सपर्ट की आवश्यकता पड़ती रहती है।


            • जो लोग छोटा बिजनेस करते हैं उनके लिए ईमेल सर्विस बहुत ही अधिक प्रभावशाली साबित होती है।

          मेल सर्वर काम कैसे करता है?

          मेल सरवर विभिन्न प्रकार की प्रक्रिया से होकर के पास होता है। आपने किसी व्यक्ति को जब ईमेल भेजा तो आपके क्लाइंट का सर्वर आपके डोमेन के एसएमटीपी सर्वर के साथ कनेक्ट हो जाता है और इस प्रकार से आपका जो क्लाइंट है वह एसएमटीपी सर्वर के साथ कम्युनिकेट कर पाता है।

          अब जिस व्यक्ति को ईमेल मिला हुआ है उसका एसएमटीपी सर्वर आए हुए ईमेल एड्रेस की प्रोसेसिंग करता है और ऐसा होने पर सामने वाले व्यक्ति को ईमेल की प्राप्ति हो जाती है।

          मेरा मेल सर्वर पता क्या है?

          आपके मेल सर्वर ऐड्रेस की इनफार्मेशन साथ ही साथ दूसरी इंफॉर्मेशन आपका जो ईमेल प्रोवाइडर है उसके द्वारा प्रदान की जाती है। इस प्रकार की इंफॉर्मेशन सामान्य तौर पर आपको ईमेल प्रोवाइडर के सपोर्ट पेज पर जाने के पश्चात मिल जाती है।

          या फिर आप ईमेल प्रोवाइडर से रिक्वेस्ट करते हैं तो उनके द्वारा आपके ईमेल पर दस्तावेज भेजे जाते हैं। देखा जाए तो मेलसर्वर की इंफॉर्मेशन सामान्य तौर पर वेबसाइट के सीपैनल मे कनफिगर होती है या फिर उसके ही समान इंटरफेस में कंफीग्र्ड होती है।

          FAQ:

            मेल सर्वर का मतलब क्या होता है?

            ईमेल सर्वर

            SMTP का क्या अर्थ है?

            सिंपल मेल ट्रांसफर प्रोटोकोल

            मेल सर्वर का अन्य नाम क्या है?

            मेल ट्रांसफर एजेंट

            इस लेख मे हमने आपको बताया की Mail Server क्या है? (What is Mail Server in Hindi) आप कैसे इसका इस्तेमाल करते है और इसके फायदे और नुकसान के बारे मे पूरी विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई है।

              Hope अब आपको Mail Server क्या है? (What is Mail Server in Hindi) समझ आ गया होगा, और आप जान गये होगे की Mail Server का इस्तेमाल कैसे कर सकते है, साथ ही इसके सभी विशेषताओं को भी आप समझे होंगे।


              अगर आपके पास कोई सवाल है, तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकत हो. और अगर आपको यह पोस्ट हेल्पफुल लगा हो तो इसको सोशल मीडिया पर अपने अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हो.

              LEAVE A REPLY

              Please enter your comment!
              Please enter your name here