नेटवर्क क्या है और इसके प्रकार – What Is Network In Hindi

2

Network Kya Hai? – What Is Network In Hindi? दोस्तों अपने mobile phone और computer में network का इस्तेमाल तो हम सभी करते हैं, लेकिन क्या आपको पता है की आख़िर network होता क्या है? अगर नही! तो आज इस पोस्ट में हम network के बारे में डिटेल से जानिंगे की आख़िर नेटवर्क क्या है? कितने प्रकार का होता है? कैसे काम करता है? कब बना और किसने बनाया? फ़ायदे और उपयोग क्या हैं? & All about network in hindi?

दोस्त आप एक मोबाइल यूजर या फिर एक कंप्यूटर यूजर हैं आपने नेटवर्क का नाम तो जरूर सुना होगा! परंतु कभी आपने सोचा है कि आखिर इस नेटवर्क का मतलब क्या होता है?


आपने अक्सर सुना होगा कंप्यूटर नेटवर्क का एक जाल है परंतु असल में यह नेटवर्क होता क्या है? इसके कितने प्रकार होते हैं नेटवर्क का इतिहास क्या है? यदि आप इन सभी चीजों के बारे में विस्तारपूर्वक जानना चाहते हैं तो आज की इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक अवश्य पढ़ें!

दोस्तों हमारे दैनिक जीवन में नेटवर्क शब्द हम कई बार सुनते हैं! और एक स्मार्ट यूजर होने के नाते आपको नेटवर्क के बारे में पता होना चाहिए ताकि आप भविष्य में किसी दूसरे व्यक्ति को भी नेटवर्क के बारे में जानकारी दे सके!

उम्मीद है यह पोस्ट आपको पसंद आएगी तथा इस post को पढ़ने के बाद आपको नेटवर्क से संबंधित कहीं सारी जानकारियां पता चल जाएगी! चलिए दोस्तों सबसे पहले जानते हैं कि नेटवर्क क्या है – What Is Network In Hindi 

यह भी पढ़े: सिम कार्ड क्या है? – What Is Sim & E Sim In Hindi

नेटवर्क क्या है – What Is Network In Hindi

कंप्यूटर नेटवर्क को सरल शब्दों में समझें तो जब कहीं सारे अर्थात दो या दो से अधिक कंप्यूटर परस्पर जुड़ जाते हैं ताकि सूचनाओं का आदान-प्रदान हो सके तो वह नेटवर्क कहलाता है. यह सभी कंप्यूटर आपस में केबल/वायरलेस जुड़े हो सकते हैं! आपस में जुड़े यह कंप्यूटर फाइल्स का आदान-प्रदान, इलेक्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन आदि अन्य रिसोर्सेज को शेयर करते हैं!

नेटवर्क कंप्यूटर, सर्वर, मेनफ्रेम, नेटवर्क डिवाइस या एक दूसरे से जुड़े हुए अन्य उपकरणों का एक संग्रह है जो आपस में डाटा शेयर करने की अनुमति प्रदान करता है। नेटवर्क का एक उत्कृष्ट उदाहरण इंटरनेट है, जो पूरे विश्व में लाखों लोगों को जोड़ता है.

उम्मीद है अब आपको नेटवर्क की परिभाषा पता चल गयी होगी, और आप जान गये होगे की आख़िर नेटवर्क क्या है? तो चलिए अब देखते है की नेटवर्क कितने प्रकार का होता है?

यह भी पढ़े: IP एड्रेस क्या है? – What Is IP Address In Hindi

नेटवर्क के प्रकार – Types of Network in Hindi

Local Area Network

दोस्तों जैसा कि नाम से ही ज्ञात होता है वह नेटवर्क जो छोटे एरिया के लिए होते हैं अर्थात इस तरह के नेटवर्क एक भौगोलिक सीमा तक ही सीमित होते हैं जैसे कि स्कूल, बिल्डिंग, घरों में lan का इस्तेमाल किया जा सकता है!

तथा नेटवर्क से जुड़े इन कंप्यूटरों को आमतौर पर server, वर्कस्टेशन के रूप में वर्गीकृत किया जाता है! आमतौर पर यह server मानव द्वारा इस्तेमाल नहीं किये जाते बल्कि यह उस नेटवर्क से जुड़े कंप्यूटर को सेवाएं प्रदान करने के साथ-साथ उपयोगकर्ताओं के लिए निरंत चलते रहते हैं!

Servers द्वारा प्रदान की गई सेवाओं में प्रिंटिंग एंड फैक्सिंग, सॉफ्टवेयर होस्टिंग, फाइल स्टोरेज, मैसेजिंग, डाटा स्टोरेज एंड retrival तथा नेटवर्क के resources के लिए complete एक्सेस कंट्रोल होता है

एक सिंगल LAN कंप्यूटर server केबल या वायरलेस माध्यम से कनेक्ट हो सकते हैं! तथा एक wired नेटवर्क वायरलेस एक्सेस WAP (वायरलेस एक्सेस पॉइंट) द्वारा संभव होता है wap उपकरण कंप्यूटर एवं नेटवर्क के बीच पुल प्रदान करते हैं!

Ethernet तथा wifi lan कनेक्शन को इनेबल करने के दो प्राइमरी तरीके हैं! Ethernet एक विनिर्देश है जो कंप्यूटर को एक- दूसरे से संचार करने में मदद करता है!

जबकि दूसरी और wifi कंप्यूटर को लोकल एरिया नेटवर्क से कनेक्ट करने के लिए रेडियो तरंगों का उपयोग करता है! इथरनेट तथा वाईफाई की स्पीड अधिक होने के कारण मुख्यतः इन उपकरणों का इस्तेमाल किया जाता है!

यह भी पढ़े: ईमेल (Email) क्या है? – What Is Email In Hindi

LAN Network के फ़ायदे?

दोस्तों अब हम लोकल एरिया नेटवर्क के फायदों को जान लेते हैं!

आपने lan को ऑफिस तथा कैफ़े आदि अन्य आदि स्थानों पर देखा होगा! जहां एक इंटरनेट कनेक्शन को सभी कंप्यूटर के बीच बांट दिया जाता है!

यह Lan टेक्नोलॉजी का एक प्रकार है जिसमें main इंटरनेट केबल किसी सर्वर से कनेक्ट होती है तथा नेटवर्क से जुड़े सभी कंप्यूटर्स में इंटरनेट पहुंचाती है!

Data Security

लोकल एरिया नेटवर्क में किसी सर्वर पर डाटा रखना सुरक्षित है यदि आप किसी डाटा को एडिट या डिलीट करना चाहते हैं!

आप सिर्फ एक कंप्यूटर पर आसानी से डेटा में परिवर्तन कर सकते हैं और बाकी के अन्य कंप्यूटर्स में भी वह डाटा आटोमेटिक अपडेट हो जाएगा!


इसके अलावा आप किसी विशेष यूजर को ही डाटा को एक्सेस करने की अनुमति दे सकते हैं! जिससे डेटा की सिक्योरिटी बनी रहती है

Share Software Programme

लोकल एरिया नेटवर्क के जरिए सॉफ्टवेयर्स को ट्रांसफर अर्थात शेयर किया जा सकता है! आप सिंगल लाइसेंस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर सकते हैं तथा उस सॉफ्टवेयर को उस नेटवर्क में कोई अन्य यूज़र भी इस्तेमाल कर सकता है!

यह तकनीक फायदेमंद है इसलिए है क्योंकि प्रत्येक single-user के लिए सॉफ्टवेयर को खरीदना महंगा होता है! लेकिन इस तरह नेटवर्क के बीच सॉफ्टवेयर प्रोग्राम को शेयर करना सरल तथा सस्ता होता है!

दोस्तों यहाँ कुछ उदहारण दिए गए हैं जिससे आप समझ सकते हैं कि किन-किन स्थानों पर लोकल एरिया नेटवर्क का इस्तेमाल किया जासकता है!

  • home Network
  • office network
  • personal Network
  • public network

Wide Area Network

वाइड एरिया नेटवर्क एक दूरसंचार नेटवर्क है! जिसका इस्तेमाल आमतौर पर विस्तृत भौगोलिक क्षेत्र जैसे कि विभिन्न शहरों और राज्यों यहां तक कि देश में कंप्यूटर्स को किसी नेटवर्क से जोड़ने के लिए किया जाता है!

wan का इस्तेमाल आमतौर पर विभिन्न संस्थाओं तथा कॉरपोरेशंस द्वारा डेटा के आदान प्रदान की सुविधा हेतु किया जाता है! वर्तमान समय में इंडस्ट्री के अलावा बड़े कॉरपोरेशन (निगम) अनेक जगहों में WAN का इस्तेमाल करते हैं!

अधिकांश WAN दो या दो से अधिक लोकल नेटवर्क एरिया को लिंक करते हैं संक्षेप में कहें तो इंटरनेट एक काफी बड़ा wan (वाइड एरिया नेटवर्क) है!!

अब हम Wide area network के फायदों के बारे में जान लेते हैं!

WAN Network के फ़ायदे? 

यह बड़े भौगौलिक क्षेत्र को cover करता है

WAN हजार किलोमीटर या उससे भी अधिक भौगोलिक क्षेत्र को कवर कर सकता है! मान लीजिए यदि आपका office ( कार्यालय) किसी दूसरे शहर या देश में है तो भी आप अपने ऑफिस की branch (शाखाओं) को WAN से जोड़ सकते हैं!

वाइड एरिया नेटवर्क के होते हुए आपकी कंपनी को ईमेल, फाइल, बैकअप तथा server को खरीदने की आवश्यकता नहीं पड़ती! क्योंकि कार्यालय की सभी branch हेड ऑफिस server के माध्यम से डाटा को शेयर करती हैं अतः आप बैकअप सपोर्ट तथा अन्य उपयोगी डाटा हेड ऑफिस से प्राप्त कर सकते हैं!

Share Software & Resources

इसके अलावा जिस तरह हम लोकल एरिया नेटवर्क में सॉफ्टवेयर्स/ एप्लीकेशन शेयर करते हैं!

उसी तरह हम wide एरिया नेटवर्क में सॉफ्टवेयर को शेयर करने के अलावा RAM, हार्ड ड्राइव आदि resources (संसाधनों) को अन्य यूज़र्स के साथ शेयर कर सकते हैं! जैसा कि हम जानते हैं वेब होस्टिंग में हम कहीं वेबसाइटों के बीच कंप्यूटर के resources को साझा करते हैं

इसके अलावा WAN में आप नॉरमल ब्रॉडबैंड कनेक्शन की तुलना में हाई बैंडविथ प्राप्त कर सकते हैं! जिसका फायदा यह है कि आप हाई डाटा ट्रांसफर रेट प्राप्त करते हैं जिससे कंपनी की उत्पादकता (प्रोडक्टिविटी) में वृद्धि होती है!

तो दोस्तों Lan, Wan के अलावा Man भी एक मुख्य कंप्यूटर नेटवर्क है! आइए इसके बारे में भी हम जान लेते हैं!

Metropolitan Area Network

MAN अर्थात Metropolitan area network यह LAN के मुकाबले अधिक क्षेत्र को कवर करता है! परंतु Wan की तुलना में इसकी भौतिक सीमा कम होती है!

यह दो या दो से अधिक कंप्यूटर्स को आपस में जोड़ता है जो अलग-अलग क्षेत्र या शहर में स्थित होते हैं!

यह बड़े भौगोलिक क्षेत्र को कवर करता है तथा isp (इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर के रूप में) काम करता है! man नेटवर्क हाई स्पीड कनेक्टिविटी प्रदान करता तथा यह उन यूजर्स के लिए बनाया गया है जिन्हें उच्च गति कनेक्टिविटी चाहिए!

Man की स्पीड को Mbps (megabytes per second) के संदर्भ में देखा जाता है! परंतु मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क को डिजाइन करना तथा बनाए रखना कठिन होता है!

यह अधिक महंगा होता है तथ आमतौर पर किसी संस्था या एक से अधिक संस्थाओं का इस network पर स्वामित्व होता है!

man के जरिए डाटा ट्रांसमिशन के लिए उपयोग किए जाने वाले उपकरण मॉडम/wire हैं! तथा Man का सबसे अच्छा उदाहरण यह केबल कंपनी नेटवर्क का एक हिस्सा है जो किसी ग्राहक को या पूरे शहर में केबल टीवी नेटवर्क को उच्च गति की Dsl लाइन प्रदान करता है!

तो दोस्तों यह थे कंप्यूटर नेटवर्क के कुछ मुख्य प्रकार! और अब हम नेटवर्क के इतिहास के बारे में जानते हैं!

यह भी पढ़े: बाई-फाई क्या है – What Is WiFi In Hindi

नेटवर्क का इतिहास – History of Network in Hindi

सबसे पहले कंप्यूटर नेटवर्क में से एक Apranet है जिसे Leonard Kleinrock द्वारा 1961 में प्रस्तावित किया गया! तथा उसके बाद कंप्यूटर नेटवर्क के महत्वपूर्ण term पैकेट शब्द का उपयोग Donald Davies द्वारा किया गया था!

किसी नेटवर्क पर जुड़े कंप्यूटर्स के बीच भेजे गए डाटा का वर्णन करने के लिए पैकेट का इस्तेमाल होता था !

तथा apranet पहला ऐसा कंप्यूटर नेटवर्क था जिसने पैकेट स्विचिंग का इस्तेमाल किया था! Apranet का विकास वर्ष 1966 में शुरू हो गया था तथा इसमें पहले दो nodes UCLA तथा SRI आपस में कनेक्ट हो चुके थे!

परंतु आधिकारिक रूप से apranet को वर्ष 1969 में शुरू किया गया!

तथा यहां आपका यह जानना जरूरी है कि इंटरनेट जो आज विश्व भर में फैला हुआ है उसकी शुरुआत 29 october वर्ष 1969 में ucla तथा sri के बीच पहली डाटा ट्रांसमिशन के साथ हुई!

उसके बाद कंप्यूटरों के परस्पर जुड़ने की वजह से दुनिया का पहला ई-मेल Ray Tomlinson द्वारा वर्ष 1971 में भेजा गया तथा इस प्रकार कंप्यूटर के विकास काल के दौरान अनेक उपकरणों तथा तकनीकों की खोज हुई तथा आज हम नेटवर्क के इस्तेमाल से ही विश्व से जुड़े हुए हैं!


यह भी पढ़े:

तो दोस्तों उम्मीद है की अब आपको कंप्यूटर नेटवर्क से जुड़ी पूरी जानकारी मिल चुकी होगी, और अब आप जान गये होगे की नेटवर्क क्या है? कितने प्रकार का होता है? कैसे काम करता है? कब बना और किसने बनाया? फ़ायदे और उपयोग क्या हैं? & All about network in hindi?

अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.


2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here