निफ्टी क्या है? – What is NIFTY in Hindi

0

दोस्तों अगर आप शेयर बाज़ार में निवेश करते हो या करना चाहते हो तो आपने Sensex और NIFTY का नाम तो ज़रूर सुना होगा, अगर आप इनके बारे में डिटेल में जानना चाहते हो तो सेंसेक्स के बारे में हमने पहेले से ही बताया हुआ है, लेकिन आज इस पोस्ट में हम निफ्टी के बारे में जानिंगे की आख़िर निफ्टी क्या है? (What is NIFTY in Hindi) कैसे काम करता है? इसके फ़ायदे? All about NIFTY in Hindi?

दोस्तों अगर आप स्टॉक मार्केट में एक नये investor हैं या आप स्टॉक मार्केट में इनवेस्ट करने से पहले इसकी जानकारी पाना चाहते हैं तो यकीन मानिए आप बिल्कुल सही जगह आये हैं आज के इस आर्टिकल में हम स्टॉक मार्केट से जुड़ी एक टॉपिक पर बात करने वाले हैं।


और ये टॉपिक हैं Nifty! आम तौर पर लोग इसे Nifty 50 भी कहते हैं। यह स्टॉक मार्केट का एक महत्वपूर्ण अंग हैं इसे समझे बिना स्टॉक मार्केट में invest करना आप को एक बड़ा लॉस करवा सकता हैं इसीलिए स्टॉक मार्केट में एंट्री करने के लिए या बड़े investment करने से पहले एक बार निफ़्टी के बारे में जान लीजिए।

कभी भी जब स्टॉक मार्केट की बात होती हैं तो ये सुनने को मिलता हैं कि आज निफ़्टी का दर ऊपर था या आज निफ़्टी का दर नीचे था। पर आप को ये बाते समझ नहीं आती होगी, निफ़्टी आप के दिमाग के ऊपर से जाता होगा।

इसीलिए आज हम आप के लिए यह आर्टिकल लेकर आये हैं जिसमे हम आप को Nifty 50 की पूरी जानकारी देंगे तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़कर अपने investment risk को कम करके अपने investment को और स्ट्रांग बनाइये।

तो चलिए जानते हैं, आखिर निफ्टी क्या है? और किस तरह यह स्टॉक मार्केट को प्रभावित करता हैं।

निफ्टी क्या है? – What is NIFTY in Hindi

जब भी हम शेयर को बेचने या खरीदने की बात करते हैं तो इसके लिए हमे हमेशा stock exchange के पास जाना होता हैं हमारे देश में दो stock exchange हैं पहला  BSE इसे Bombay Stock Exchange के नाम से भी जाना जाता हैं और दूसरा NSE इसे National Stock Exchange के नाम से जाना जाता हैं।

सभी Stock Exchange का अपना एक सूचकांक होता हैं जिसके जरिये stock market के उतार चढ़ाव को measure किया जाता हैं इन दोनों stock exchange के अलग अलग सूचकांक होते हैं- BSE (Bombay Stock Exchange) का सूचकांक S&P BSE Sensex हैं और NSE (National Stock Exchange) का सूचकांक Nifty हैं।

Nifty यह शब्द अपने आप में इस प्रसन्न को जन्म देता हैं, कि यह शब्द बना कैसे है?

Nifty शब्द National Stock Exchange में National का पहला अक्षर N और Fifty में F अक्षर को छोड़ बाकि अक्षर ifty से मिलकर बना है यह National stock exchange में एक इंडिकेटर यानि सूचकांक के तरह काम करता हैं निफ़्टी के जरिए लोग स्टॉक मार्केट के हालात का पता लगाते हैं और उसी के अनुसार शेयर में पैसे लगाते हैं।

स्टॉक मार्केट में Nifty की शुरुआत नवंबर 1944 में हुई थी और निफ्टी के स्टॉक मार्केट इंडेक्स के रूप में आ जाने से स्टॉक मार्केट को स्टडी करने में बड़ी सहायता मिली।

Nifty option chain के जरिये हमे Across indexes, stocks, currency contracts की जांच करने में सहायता मिलती हैं Nifty का Lot size हमेशा बदलते रहता हैं पर अभी  Nifty का Lot size 75 हैं।v29 मार्च 2020 में Nifty midcap index 100 को NSE स्टॉक मार्केट में लॉन्च किया गया। यह NSE यानि National Stock Exchange में listed share का 9.9℅ capitalisation represent करता हैं।

इसका उद्देश्य stock market के movement (उतार/चढ़ाव) को सही से मॉनिटर करना हैं साथ ही साथ stock market index के रूप में Benchmark set करना पड़ता हैं।

Nifty को Nifty 50 क्यू कहा जाता है?

Nifty 50 क्यों कहा जाता हैं या Nifty 50 कहने के पीछे आखिर कारण क्या है?

Nifty, NSE का सूचकांक हैं जिससे वह हमारे देश के टॉप 50 कंपनी के शेयर पर नजर रखता हैं ये उन्ही कंपनी के शेयर पर नजर रखता हैं जो SEBI के अन्तर्गत लिस्टेड होते हैं निफ़्टी इन कंपनी के शेयर के दाम पर नजर रखता हैं और इसकी खबर लोगो को देता हैं ये 50 कंपनी stock market की सबसे बड़ी कंपनियाँ हैं और ये कंपनी stock market को काफी प्रभावित भी करते हैं।

Nifty में टॉप 50 कंपनी के शेयर के price की गणना की जाती हैं इसीलिए टॉप 50 लिस्टेड कंपनी के नम्बर के आधार पर निफ़्टी को Nifty 50 कहा जाता हैं।

निफ्टी कैसे काम करता है?

आप ने ये तो जान लिया कि निफ़्टी क्या हैं और इसे nifty 50 क्यों कहते पर अब ये जानना जरूरी हैं कि यह उन 50 listed कंपनी के शेयर की गणना करके stock market को कैसे affect करता हैं।

वैसे तो National Stock Exchange (NSE) में 1600 से भी ज्यादा कंपनी मौजूद हैं पर इन सभी कंपनी में Nifty अलग अलग सेक्टर के टॉप 50 रजिस्टर्ड कंपनी के शेयर पर ही नजर रखते हैं व इन कंपनी के शेयर के दामों को इंडेक्स करते हैं निफ़्टी उन्ही कंपनी के शेयर पर इंडेक्स करती हैं जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी व मजबूत होती हैं ये बाकी कंपनी के शेयर को इंडेक्स नहीं करते।


निफ़्टी में इंडेक्स किये जाने वाले कंपनियाँ मुख्यतः Bank, Real estate, Media, Information technology, Auto, Financial Services, Pharma, Metal, FMCG, Energy इत्यादि सेक्टर से ही आती हैं।

Nifty इस बात पर ज्यादा फोकस करती  हैं कि कंपनी मार्केट में कैसा परफॉर्म करते हैं अगर ये लिस्टेड कंपनी मार्केट में अच्छा परफॉर्म करते हैं तब अच्छे परफॉरमेंस के कारण इन कंपनी की net worth व प्रॉफिट में वृद्धि होती हैं जिससे इन कंपनी के शेयर के दाम भी बढ़ जाते है इन कंपनी के शेयर के price बढ़ने पर निफ़्टी में तेजी आ जाती हैं।

और वही जब इन कंपनियों में से कोई कंपनी मार्केट में खराब परफॉर्म करती हैं तब इन कंपनी के दाम तेजी से घटती हैं जिससे निफ़्टी की गति भी धीमी हो जाती हैं। ये 50 कंपनियां stock market की सबसे मजबूत कंपनी होती हैं इसी कारण इन कंपनियों के परफॉरमेंस या यूँ कहे कि इनकी चाल पूरे stock market को प्रभावित करते हैं।

Nifty 50 Company Ke Shares Ka Calculation Kaise Krta Hai?

जैसा कि हमने आप को बताया कि निफ़्टी 50 कंपनी के शेयर पर नजर रखता हैं चलिये जानते हैं कि इन शेयर के price change होने पर निफ़्टी का कैलकुलेशन कैसे किया जाता हैं ?

Nifty का calculation भी सेंसेक्स के तरह market capitalisation व free float market के आधार पर किया जाता है। जिस तरह सेंसेक्स का कैलकुलेशन किया जाता हैं ठीक उसी तरह निफ़्टी का भी कैलकुलेशन किया जाता हैं सेंसेक्स के कैलकुलेशन में उपयोग किये जाने वाले तरीकों व पद्धितियों का प्रयोग निफ़्टी में भी होता हैं पर निफ़्टी में इन तरीकों व पद्धितियों के terms & condition अलग होते हैं।

Market Capitalisation और Free Float Market किसे कहते हैं?

किसी भी कंपनी के शेयर की कीमत को market capitalisation कहते हैं। किसी भी कंपनी के शेयर का वह खुला हिस्सा जो हर वक्त stock market में खरीदने के लिए तैयार हो, उसे market capitalisation कहते हैं market capitalisation का दूसरा नाम open market हैं जहाँ इन कंपनी के शेयर को आसानी से खरीदा बेचा जा सकता हैं।

Calculation of Nifty in Hindi

Nifty के calculation में base year यानि आधार वर्ष और base value यानि आधार मूल्य का उपयोग किया जाता हैं। जैसे किसी एक वर्ष को आधार मानते हैं 1994 और उस वर्ष का शेयर का मूल्य 1000 हैं इन दोनों को आधार मानकर ही निफ़्टी की कैलकुलेशन की जाती हैं।

और जैसा कि हमने आप को पहले बताया कि निफ़्टी का कैलकुलेशन टॉप 50 लिस्टेड कंपनी के आधार पर होता हैं और ये कंपनी 12 अलग अलग sector से चुने जाते हैं।


Nifty का Economy पर क्या Effect पड़ता है?

हमारे इस सब हैडिंग को पढ़ कर आप ये सोच रहे होंगे कि Nifty economy यानि अर्थव्यवस्था को कैसे प्रभावित करता हैं जबकि ये तो stock market का अंग हैं। तो हम कहेंगे कि हाँ आप बिल्कुल सही सोच रहे हैं Nifty तो stock market के उतार चढ़ाव को बताता हैं तो यह अर्थव्यवस्था को कैसे प्रभावित करता हैं आगे के पॉइंट्स में जानते हैं।

Nifty देश के 12 अलग अलग सेक्टर के टॉप 50 कंपनी के शेयर के कीमत का मूल्यांकन करता हैं अगर इन कंपनी में से कोई कंपनी market में अच्छा परफॉर्म करती हैं तो उस कंपनी को अच्छा लाभ मिलता हैं व कंपनी को लाभ होने पर देश के अर्थव्यवस्था में सुधार आता हैं क्योंकि ये कंपनी अपने प्रॉफिट में से कुछ हिस्सा सरकार को tax के रूप में देती हैं और जितना ज्यादा tax मिलेगा उससे भारत का अर्थव्यवस्था कही न कही मजबूत जरूर बनेगा।

इस तरह stock market डायरेक्टली हमारे देश के अर्थव्यवस्था को प्रभावित करता हैं।

निफ्टी के फ़ायदे? – Advantages Of NIFTY In Hindi

इतने दूर तक पढ़ने के बाद आप समझ ही गये होंगे कि Nifty stock market के लिये क्यों जरूरी हैं पर चलिये अब देखते हैं कि Nifty से हमारे देश व हमारे अर्थव्यवस्था व stock market को मिलने वाले फायदे क्या क्या हैं ?

Nifty stock market का एक महत्वपूर्ण अंग हैं और National Stock Exchange का तो यह अटूट हिस्सा हैं Nifty से हमारे देश के stock market व अर्थव्यवस्था को निम्नलिखित प्रकार के फायदे मिलते हैं –

  • Nifty के जरिए पूरे stock market की जानकारी बस कुछ ही पल में मिल जाती हैं।
  • Nifty के जरिए stock market में invest करना काफी आसान हो जाता हैं।
  • Nifty को सही से समझ कर अपने investment risk को बहुत हद तक कम किया जा सकता हैं।
  • Nifty के वजह से हमे National Stock Exchange को समझने में काफी आसानी होती हैं।
  • Nifty के जरिए देश के अर्थव्यवस्था को समझना आसान हो जाता हैं।जब निफ़्टी के टॉप 50 लिस्टेड कंपनी बाजार में अच्छा परफॉर्म करती हैं तब निफ़्टी ऊपर उठता हैं और जब निफ़्टी ऊपर उठता हैं तो देश के अर्थव्यवस्था में काफी सुधार आता हैं।
    Nifty के जरिए लोग बाजार में होने वाली तेजी और मंदी का पता लगाकर  भविष्य में होने वाले भारी नुकसान से बच सकते हैं।
  • Nifty के ऊपर उठने का मतलब 50 लिस्टेड कंपनी में से किसी कंपनी के शेयर की कीमत बढ़ना जिससे यह पता लगाया जा सकता हैं कि आने वाले वक्त में ये कंपनी अच्छा परफॉर्म करेंगी।

जैसा कि हमने आप को ऊपर बताया कि निफ़्टी stock market का एक सूचकांक हैं और ये भी बताया कि निफ़्टी के तरह सेंसेक्स भी stock मार्केट का सूचकांक हैं तो चलिये देखते हैं इन दोनों इंडेक्स या यूँ कहे सूचकांक में क्या अंतर हैं साथ ही ये भी देखते हैं कि इन दोनों में से stock मार्केट का सबसे अच्छा इंडेक्स कौन हैं?

Nifty और Sensex में अंतर – Difference Between Sensex and Nifty in Hindi

वैसे तो Nifty और Sensex दोनों ही stock market का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं इन दोनों में से किसी एक के बिना stock market अच्छे से run नहीं कर सकता इन दोनों इंडेक्स में जहाँ बहुत सी similarity हैं वही इन दोनों इंडेक्स के बीच अंतर देखने को भी मिलता हैं।

  • जहाँ एक तरफ sensex BSE यानि Bombay Stock Exchange का सूचकांक हैं वही दूसरी तरफ NSE यानि National stock Exchange का सूचकांक हैं।
  • जहाँ एक तरफ Sensex साल 1995 में stock market में लॉन्च हुआ था वही Nifty साल 1994 में stock market में लॉन्च हुआ था।
  • Nifty National Stock Exchange के टॉप 50 लिस्टेड कंपनी के कीमत पर नजर रखता हैं वही sensex Bombay Stock Exchange के टॉप 30 लिस्टेड कंपनी के शेयर की कीमत पर नजर रखता हैं।
  • Bombay Stock Exchange में 5000 से भी ज्यादा कंपनी रजिस्टर्ड हैं और वही National stock Exchange में 1600 से ज्यादा कंपनी लिस्टेड हैं।
  • Nifty में टॉप 50 लिस्टेड कंपनी के शेयर की कीमत को measure करते हैं इसी कारण market capitalisation या free float market में nifty को sensex के मुकाबले ज्यादा शक्तिशाली व प्रभावशाली index माना जाता हैं।

दोस्तों मुझे आशा हैं कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप को समझ आ गया होगा कि निफ्टी क्या है? व निफ़्टी से जुड़ी पूरी जानकारी आप को मिल गई होगी अब आप और भी अच्छे तरह से stock market में investment कर पायेंगे व अपने investment risk को कम कर सकेंगे बिना किसी पर निर्भर हुए।

उम्मीद है की अब आपको निफ्टी से जुड़ी पूरी जानकारी मिल चुकी होगी, और आप जान गये होगे की निफ्टी क्या है? (What is NIFTY in Hindi) कैसे काम करता है? इसके फ़ायदे? All about NIFTY in Hindi?

यह भी पढ़े:

Hope की आपको निफ्टी क्या है? – What is NIFTY in Hindi? का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here