NO COST EMI क्या है? – What is No Cost EMI in Hindi


आपको चाहे जूते खरीदने हो या फिर आपको एलसीडी टीवी खरीदनी हो अथवा आपको फ्रिज खरीदनी हो या फिर घर से संबंधित किसी आवश्यक चीज को खरीदना हो, आपको दुकान जाने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है क्योंकि फ्लिपकार्ट, अमेजॉन जैसी शॉपिंग वेबसाइट आपको घर बैठे ही तमाम प्रकार के सामान को खरीदने का मौका देती है और सामान पर अलग-अलग प्रकार के शानदार ऑफर भी देती है, उसी ऑफर में नो कॉस्ट ईएमआई का ऑफर भी होता है, जिसके बारे में आपने तब देखा भी होगा जब आप किसी शॉपिंग वेबसाइट पर शॉपिंग करते होंगे। दोस्तों आजके इस पोस्ट में हम जानिंगे की आख़िर NO COST EMI क्या है? – What is No Cost EMI in Hindi?

NO COST EMI क्या है? - What is No Cost EMI in Hindi

वहां पर नीचे आपको नो कॉस्ट ईएमआई का ऑप्शन प्राप्त होता है परंतु उसके बारे में जानकारी ना होने की वजह से आप इस ऑप्शन का इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं। इसलिए आज हमने स्पेशल तौर पर नो कॉस्ट ईएमआई के बारे में पूरी जानकारी देने के लिए आर्टिकल लिखा हुआ है, ताकि आपको यह पता चल जाए कि नो कॉस्ट ईएमआई क्या होती है? इसका मतलब क्या होता है?


NO COST EMI क्या है?

अगर आपने कहीं ईएमआई पर कोई प्रोडक्ट खरीदा होगा तो उस पर आपको प्रोसेसिंग फीस भी देनी पड़ी होगी, साथ ही कुछ परसेंट ब्याज भी देना पड़ा होगा, जिसे ईएमआई कहा जाता है, जिसका हिंदी में मतलब होता है किस्त।


वही बात करें अगर नो कॉस्ट ईएमआई की, तो जब आप कोई सामान नो कॉस्ट ईएमआई पर खरीदते हैं तो उसमें सिर्फ आपको सामान की कीमत ही देनी पड़ती है और सामान की किस्त के अलावा आपको ना तो प्रोसेसिंग फीस देनी पड़ती है ना ही दूसरे किसी भी प्रकार के चार्ज देने पड़ते हैं। इसलिए इसे नो कॉस्ट ईएमआई कहा जाता है।

किसी भी प्रकार के सामान को किस्त पर खरीदने के लिए आपके पास क्रेडिट कार्ड होना आवश्यक है। आपको हम बता दें कि ऑनलाइन शॉपिंग करने वाली जितनी भी वेबसाइट है।

अगर वहां से आप शॉपिंग करते हैं, तो कुछ शॉपिंग वेबसाइट आपको कुछ प्रोडक्ट पर नो कॉस्ट ईएमआई ऑफर करती है, क्योंकि उन्होंने कुछ बैंक के साथ पार्टनरशिप की है और उन्हीं बैंक के साथ पार्टनरशिप करने के बाद वह नो कॉस्ट ईएमआई पर सामान खरीदने का ऑफर करती है।

देखा जाए तो HDFC BANK और AXIS BANK क्रेडिट कार्ड पर इस प्रकार के ऑफर सबसे अधिक मिलते हैं। हमारे भारत देश में अमेजॉन और फ्लिपकार्ट यह दो ऐसी शॉपिंग वेबसाइट है जिस पर सबसे ज्यादा नो कॉस्ट ईएमआई पर सामान खरीदने का मौका प्राप्त होता है।

उदाहरण के तौर पर अगर किसी प्रोडक्ट की कीमत ₹12000 के आसपास है और उस प्रोडक्ट पर आपको नो कॉस्ट ईएमआई का ऑफर प्राप्त हो रहा है, तो आप टोटल ₹12000 को तीन से चार किस्त में भर सकते हैं। अगर आप ₹12000 को तीन किस्त में भरेंगे तो इसके लिए आपको महीने में ₹4000 देने पड़ेंगे और अगर आप ₹12000 को चार किस्तों में भरेंगे तो इसके लिए आपको महीने में ₹3000 भरने पड़ेंगे।

जब नॉर्मल ईएमआई की बात होती है तो हर महीने आप जो ईएमआई भरते हैं, उसमें आपको थोड़ा सा ब्याज भी डालना पड़ता है। एग्जांपल के तौर पर अगर आपने ₹12000 का कोई सामान खरीदा है, तो नॉर्मल ईएमआई में वह सामान तकरीबन ₹13000 लेकर के ₹14000 के आसपास में पड़ेगा।

इस प्रकार नॉर्मल ईएमआई पर लिए गए सामान में सामान की कीमत के अलावा प्रोसेसिंग फीस और ब्याज भी शामिल होता है। इसीलिए जितने का अपने सामान लिया होता है, उससे आपको थोड़ा सा अधिक रुपए भरने पड़ते हैं।

अगर आप कोई सामान नो कॉस्ट ईएमआई पर ₹12000 में लेते हैं तो आपको उसके सिर्फ ₹12000 ही भरने पड़ेंगे और अगर आप कोई प्रोडक्ट नॉर्मल ईएमआई पर लेते हैं तो आपको ब्याज और प्रोसेसिंग फीस सहित उस सामान की ईएमआई भरनी पड़ेगी। इस प्रकार ₹12000 का सामान आपको ₹13000 से लेकर के ₹14000 के आसपास में पड़ता है।

NO COST EMI का मतलब क्या है?

नो कॉस्ट ईएमआई के अंतर्गत जब आप कोई प्रोडक्ट खरीदते हैं, तो आपको सिर्फ सामान की कीमत को ही महीने में किस्तों के तौर पर भरना पड़ता है।

आपको सामान की कीमत के अलावा ना तो कोई ब्याज भरना पड़ता है ना ही किसी भी प्रकार की प्रोसेसिंग फीस देनी पड़ती है। यानी कि अगर आपने कोई सामान 18000 का लिया है और उसकी कीमत को भरने के लिए आपको 6 महीने तक किस्त भरने के लिए कहा गया है तो आप को हर महीने ₹3000 भरने पड़ेंगे। इस प्रकार 6 महीने में ₹18000 आप भर देंगे जिससे सामान आपका फ्री हो जाएगा और सामने वाले को उसके पैसे भी मिल जाएंगे।

EMI क्या है?

नॉर्मल ईएमआई नो कॉस्ट ईएमआई से थोड़ा सा अलग होती है। नो कॉस्ट ईएमआई में आपको सिर्फ प्रोडक्ट की कीमत को ही किस्तों के तौर पर भरना पड़ता है परंतु नॉर्मल ईएमआई पर अगर आप कोई सामान खरीदते हैं, तो आपको प्रोडक्ट की कीमत तो भरनी हीं पड़ती है, साथ ही आपको प्रोसेसिंग फीस और ब्याज भी भरना पड़ता है।

उदाहरण के तौर पर अगर आपने नॉर्मल ईएमआई पर किसी प्रोडक्ट को खरीदा है और उसकी कीमत 15000 के आसपास है तो आपको प्रोसेसिंग फीस भी देनी पड़ेगी साथ ही ब्याज भी देना पड़ेगा। इस प्रकार आप 15000 तो भरेंगे ही, साथ ही ₹1000 से लेकर के ₹2000 तक एक्स्ट्रा भरेंगे।

अगर ब्याज की दर ज्यादा होगी तो आपको और भी पैसे भरने पड़ेंगे। नो कॉस्ट ईएमआई आपको अधिकतर ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट पर मिलती है और नॉर्मल ईएमआई के जरिए सामान खरीदने की सुविधा आपको ऑनलाइन भी मिलती है और ऑफलाइन भी मिलती है।

NO COST EMI कैसे काम करती है?

इंडिया में लोग सबसे ज्यादा शॉपिंग करने के लिए फ्लिपकार्ट और अमेजॉन जैसी शॉपिंग वेबसाइट का इस्तेमाल करते हैं। इन दोनों वेबसाइट पर रोजाना लाखों प्रोडक्ट खरीदे जाते हैं।

जब इन दोनों वेबसाइट की स्टार्टिंग हुई थी तब इनके द्वारा नो कॉस्ट ईएमआई का ऑप्शन नहीं लाया गया था परंतु बाद में अमेजॉन ने एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, आरबीएल बैंक तथा आईसीआईसीआई बैंक के साथ मिलकर के नो कॉस्ट ईएमआई का ऑप्शन कस्टमर के लिए प्रस्तुत किया, जिससे कस्टमर नो कॉस्ट ईएमआई पर जब प्रोडक्ट इन वेबसाइट से खरीदता है, तो कंपनी उसमें कुछ पैसा बैंक को भी देती है।


इस प्रकार से बैंक भी पैसा कमाती है साथ ही साथ कंपनी भी पैसा कमाती है। बता दें कि जब से नो कॉस्ट ईएमआई का ऑप्शन ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट पर आया है, तब से ही ऑनलाइन शॉपिंग करने वाले लोगों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होती जा रही है और वर्तमान के समय में जैसा कि आप जानते हैं कि अधिकतर लोगों के पास डेबिट कार्ड या फिर क्रेडिट कार्ड उपलब्ध होता है।

ऐसे में वह भी नो कॉस्ट ईएमआई का भरपूर फायदा उठा रहे हैं। इससे ग्राहक को भी फायदा हो रहा है और उन्हें बिना कोई ब्याज दिए हुए अथवा बिना कोई प्रोसेसिंग फीस दिए हुए अपने मनपसंद सामान को प्राप्त करने का मौका घर बैठे ही मिल रहा है।

NO COST EMI का फायदा क्या है?

इसका सबसे मुख्य बेनिफिट तो यही है कि कस्टमर को एक साथ प्रोडक्ट की पूरी कीमत को नहीं भरना पड़ता है। वह आसानी से प्रोडक्ट की पूरी कीमत को भरने के लिए ईएमआई का सहारा ले सकता है और हर महीने एक निश्चित रकम किस्त के तौर पर भर सकता है। इस प्रकार उसे घर बैठे सामान भी प्राप्त हो जाता है साथ ही उसके ऊपर ज्यादा लोड भी नहीं आता है।

इसके अलावा कोई कस्टमर अगर ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से नो कॉस्ट ईएमआई पर प्रोडक्ट को खरीदता है, तो उसे ना तो प्रोसेसिंग फीस देनी पड़ती है ना ही प्रोडक्ट की कीमत पर कोई एक्स्ट्रा ब्याज देना पड़ता है। अगर उसने ₹15000 का सामान लिया है तो उसे किस्त के तौर पर ₹15000 ही भरने पड़ते हैं।

नो कॉस्ट ईएमआई पर लिए गए सामान की कीमत को भरने के लिए 3 महीने से लेकर के 6 महीने का समय दिया जाता है। इस प्रकार व्यक्ति आसानी से सामान को खरीद सकता है और उसकी किस्त को महीनों में भर सकता है।

NO COST EMI का नुकसान क्या है?

यह आपको सिर्फ लिमिटेड प्रोडक्ट पर ही प्राप्त होती है। इसके अलावा कुछ कंपनी ऐसी होती हैं जो प्रोडक्ट की कीमत में पहले से ही ब्याज को जोड़ लेती है। अधिकतर नो कॉस्ट ईएमआई का ऑप्शन आपको क्रेडिट कार्ड पर ही प्राप्त होता है।

इसलिए काफी लोग नो कॉस्ट ईएमआई पर सामान नहीं ले पाते हैं। इसमें आपको कोई भी डिस्काउंट नहीं मिलता है। नो कॉस्ट ईएमआई पर सामान खरीदने के बाद आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट को ब्लॉक कर दिया जाता है।

नो कॉस्ट ईएमआई से संबंधित महत्वपूर्ण बातें 

बता दें कि अगर आप नो कॉस्ट ईएमआई का फायदा प्राप्त करना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास किसी भी बैंक का क्रेडिट कार्ड होना जरूरी है। सामान्य तौर पर नो कॉस्ट ईएमआई एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और आरबीएल बैंक पर अधिक मिलती है।

नो कॉस्ट ईएमआई के जरिए आप कुछ चुनिंदा प्रोडक्ट ही खरीद सकते हैं। जैसे कि स्मार्टफोन, टेलीविजन, वाशिंग मशीन, फ्रिज इत्यादि। नो कॉस्ट ईएमआई के अंतर्गत आपको सिर्फ प्रोडक्ट की कीमत को ही भरना पड़ता है और ना तो कोई ब्याज देना पड़ता है ना ही कोई प्रोसेसिंग फीस देनी पड़ती है। इसलिए आप बेझिझक नो कॉस्ट ईएमआई का फायदा प्राप्त कर सकते हैं।

नो कॉस्ट ईएमआई पर ब्याज नहीं देना पड़ता है। इसलिए कुछ लोग बेफिजूल की चीजें भी खरीद लेते हैं। ऐसा करने से आपको बचना चाहिए। नो कॉस्ट ईएमआई का ऑप्शन अधिकतर ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट पर ही मिलता है। ऑफलाइन आपको सामान्य ईएमआई का ऑप्शन मिलता है।

NO COST EMI पर प्रोडक्ट कैसे खरीदे?

जैसा कि आप जानते हैं कि अधिकतर नो कॉस्ट ईएमआई पर प्रोडक्ट खरीदने का ऑप्शन ऑनलाइन ही मिलता है। इसीलिए आपको नो कॉस्ट ईएमआई पर प्रोडक्ट को खरीदने के लिए ऑनलाइन किसी भी शॉपिंग वेबसाइट पर जाना है और जिस प्रोडक्ट को आप खरीदना चाहते हैं, उसे सर्च करना है और उसके नीचे देखना है कि वह प्रोडक्ट नो कॉस्ट ईएमआई पर मिलता है अथवा नहीं।

अगर वह प्रोडक्ट नो कॉस्ट ईएमआई पर मिलता है, तो आपको पेमेंट करने के सिस्टम में नो कॉस्ट ईएमआई का सिलेक्शन करना है और अपने क्रेडिट कार्ड के जरिए उसकी पेमेंट कर देनी है। इसके बाद आपका सामान आपके घर पर निश्चित दिन में डिलीवर हो जाएगा और फिर हर महीने आपको प्रोडक्ट की ईएमआई को अपने क्रेडिट कार्ड में डालना पड़ेगा।

इस आर्टिकल में आपने जाना कि “नो कॉस्ट ईएमआई क्या होता है” और “नॉरमल ईएमआई क्या होता है” इसके अलावा आपने आर्टिकल में इस बात को भी जाना कि “नो कॉस्ट ईएमआई का मतलब क्या होता है” और “नो कॉस्ट ईएमआई कैसे काम करती है” इसके अलावा आपने यह भी जाना कि “नो कॉस्ट ईएमआई का फायदा क्या है।

उम्मीद है की EMI Par Phone Kaise Le? Kisto Par Mobile/Laptop Kaise Le? इस बारे में आपको पूरी जानकारी मिल गयी होगी।


अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here