पाइथन क्या है और कैसे सीखें? (What is Python in Hindi)

23

पाइथन क्या है? दोस्तों बढ़ती टेक्नोलॉजी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की वजह से लोग आजकल प्रोग्रामिंग और मशीन लर्निंग की तरफ ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं। जिसकी वजह से हर कोई अब प्रोग्रामिंग और कोडिंग करना चाहता है। अगर आप इस बारे में कुछ जानते हैं तो आपको पता ही होगा कि कंप्यूटर साइंस में कई तरह के प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होते हैं! और पाइथन भी उन्हीं में से एक है। 

पाइथन क्या है और कैसे सीखें? (What is Python in Hindi)

अगर आपको नहीं पता कि Python क्या होता है? तो आजके इस पोस्ट में हम जानिंगे की पाइथन क्या है और कैसे सीखें? (What is Python in Hindi) और इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है क्यों किया जाता है? तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं क्योंकि इस आर्टिकल में हम आपको पाइथन के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं।


मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको पाइथन के बारे में ज्यादा रिसर्च करने की जरूरत नहीं पड़ेगी‌। क्योंकि यहां आपको इस आर्टिकल में ही पाइथन के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी। इसीलिए इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें।

पाइथन क्या है? (What is Python in Hindi)

पाइथन एक बहुत ही पॉपुलर interpreted, object-oriented, high-level का programming language हैं। जिसमें कई तरह के semantics देखने को मिलते हैं। इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल सॉफ्टवेयर बनाने, वेबसाइट बनाने, किसी भी काम को automate करने और data analysis करने के लिए किया जाता है। इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को Guido van Rossum के द्वारा 1980 के समय में बनाया गया था और इसे 1991 में लांच किया गया था। ‌


पाइथन लैंग्वेज को लोग इसकी simplicity, flexibility, और versatility की वजह से पसंद करते हैं। इतना ही नहीं इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में आपको c++ की सारी खूबियां मिलती है यही वजह है कि इस लैंग्वेज को सीखना भी बहुत ज्यादा आसान होता है।

अगर आपको प्रोग्रामिंग आती है तो आप पाइथन का इस्तेमाल करके काफी अलग-अलग तरह के Applications बना सकते हैं, website बना सकते हैं या फिर अगर आप चाहे तो आप इसकी मदद से machine learning और data analysis भी कर सकते हैं।

क्योंकि पाइथन interpreted language होता है इसीलिए इस लैंग्वेज को run करने से पहले complied करने की जरूरत नहीं पड़ती हैं। जिसके वजह से पाइथन के प्रोग्रामिंग कोड को लिखना और test करना काफी ज्यादा आसान होता है।


पाइथन एक बहुत ही पावरफुल और versatile लैंग्वेज होने की वजह से इसका इस्तेमाल easy script लिखने के साथ-साथ complicated Applications बनाने में किया जाता है।

Source: (Wikipedia)


पाइथन का उदाहरण (Examples of Python in Hindi) 

पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कितना आसान है और इसे आप कितनी आसानी से समझ सकते है ये बताने के लिए मैंने यहां आपको पाइथन लैंग्वेज में Hello World लिख कर दिखाया है।

पाइथन पर Hello World का मैसेज print करने के लिए आपको कुछ इस तरह का कोड पाइथन में टाइप करना होगा-

print(“Hello, world!”)


ये प्रोग्राम “हैलो, वर्ल्ड!” को output के तौर पर present करने के लिए print() function का उपयोग करता है। ये print() function पायथन का built-in function होता हैं जो एक या अधिक arguments लेता है और उन्हें console पर प्रिंट करता है। 

आप इस प्रोग्राम को एक .py extension (जैसे, hello.py) के साथ फ़ाइल में Save करके भी बाद में आसानी से run कर सकते हैं। क्योंकि तब ये command python hello.py पर दिए गए prompt पर चलेगा। और जब आप इस प्रोग्राम को चलाएंगे तो आपको “Hello world” का message देखने को मिल जाएगा।

पाइथन का इतिहास (History of Python in Hindi)

हालांकि ये बात अलग है की अभी भी बहुत से लोगों को पाइथन का इस्तेमाल करना नहीं आता है और लोग इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से अनजान भी है पर पाइथन आज का बनाया हुआ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नहीं है बल्कि इसका इतिहास थोड़ा सा पुराना है।

पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को 1991 में Guido Van Rossum ने बनाया था। पाइथन का सबसे पहला रिलीज  Version 0.9.0 था। इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का विकास 1980 में किया गया था।

इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की शुरुआत National, Institute For Mathematical And Computer Science Netherlands में हुआ था। धीरे-धीरे इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल काफी लोग करने लगे और साल 2000 के समय पाइथन एक बहुत ही पॉपुलर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बन गया था।

इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का नाम सुनकर अधिकतर लोग यही सोचते हैं कि इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का नाम पाइथन यानी कि अजगर सांप के नाम के ऊपर रखा गया है लेकिन ऐसा नहीं है। पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का नाम पाइथन, एक ब्रिटिश टीवी शो “Monty’s Python Flying Circus” के नाम पर रखा गया था।

पाइथन के अब तक कई सारे वर्जन निकल चुके हैं, जिसकी लिस्ट हमने नीचे शेयर की है –

  • Python 1.0 (1994)
  • Python 1.2 (1995)
  • Python 1.3 (1995)
  • Python 1.4 (1996)
  • Python 1.5 (1997)
  • Python 1.6 (2000)
  • Python 2.0 (2000)
  • Python 2.1 (2001)
  • Python 2.2 (2001)
  • Python 2.3 (2003)
  • Python 2.4 (2004)
  • Python 2.5 (2006)
  • Python 2.6 (2008)
  • Python 2.7 (2010)
  • Python 3.0 (2008)
  • Python 3.1 (2009)
  • Python 3.2 (2011)
  • Python 3.3 (2012)
  • Python 3.4 (2014)
  • Python 3.5 (2015)
  • Python 3.6 (2016)
  • Python 3.7 (2018)
  • Python 3.8 (2019)
  • Python 3.9 (2020

पाइथन से हम क्या क्या कर सकते हैं?

पाइथन एक फ्लैक्सिबल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होने की वजह से आपको कई तरह की सुविधाएं देता है। इस प्रोग्राम में लैंग्वेज का इस्तेमाल आप कई जगहों पर कर सकते हैं जैसे –

Artificial Intelligence (AI) और Machine Learning

शायद आपको पता ना हो लेकिन पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग में किया जाता है। क्योंकि पाइथन मशीन लर्निंग की सबसे पॉपुलर भाषा है और ज्यादातर लोग इसी भाषा में मशीन लर्निंग सीखते हैं ऐसे में अगर आपको मशीन लर्निंग व रोबोटिक्स के क्षेत्र में कुछ करना है तो आप पाइथन सीख कर ये काम आसानी से कर सकते हैं।

Programming Application

पाइथन लैंग्वेज सीख कर आप इसका इस्तेमाल एप्लीकेशन बनाने के लिए कर सकते हैं। इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की सबसे अच्छी बात ये है कि इसका इस्तेमाल करके किसी भी तरह का Application बनाया जा सकता है।

Desktop Application

ऐसा नहीं है की पाइथन का इस्तेमाल करके आप सिर्फ मोबाइल के एप्लीकेशन ही बना सकते हैं आप चाहे तो इसका इस्तेमाल करके आप कंप्यूटर के लिए सॉफ्टवेयर डिजाइन कर सकते हैं या फिर डेक्सटॉप एप्लीकेशन create कर सकते हैं।

Data Visualization

क्योंकि पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज अपने यूजर्स को फ्लैक्सिबिलिटी देता है इसीलिए इसका इस्तेमाल Data Visualization में भी किया जा सकता है। ‌

Data Analytic

Python प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने के बाद आप डाटा एनालिसिस का काम भी आसानी से कर सकते हैं। वैसे भी आपको पता ही होगा की आजकल data analyst की कितनी ज्यादा डिमांड है तो आप इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीख कर पैसे कमाना शुरू कर सकते हैं।

Web Development

आजकल हर दूसरे दिन गूगल पर नई website बनाई जाती है ऐसे में अगर आप को वेबसाइट डेवलपर बना है या फिर अपने लिए ही वेबसाइट बनाना है तो उसके लिए आपको पाइथन प्रोग्रामिंग सीखना पड़ेगा।

Robotics

अगर आपको रोबोटिक्स में रुचि है या फिर अब भविष्य में रोबोट बनाना चाहते हैं या उसी फील्ड में काम करना चाहते हैं तो आप पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीख कर ये काम आसानी से कर सकते हैं।

Artificial Intelligence

आजकल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस काफी तेजी से पॉपुलर हो रहा है और अब वो समय दूर भी नहीं है जब सारी चीजें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के द्वारा ही कंट्रोल की जाएंगी। ऐसे में अगर आपको आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तैयार करने में किसी भी तरह का कोई इंटरेस्ट है तो आप python सीख कर ये चीज भी कर सकते हैं।

Game development

पाइथन सीख लेने के बाद आप इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल करके game भी बना सकते हैं। आजकल आए दिन मार्केट में नए गेम लॉन्च हो रहे हैं ऐसे में अगर आपको गेम डेवलपर बनना है तो आप पाइथन सीखकर ये काम कर सकते हैं।

Aerospace

जैसा की आपको पता ही होगा कि Aerospace में जाने के लिए मशीन लर्निंग की नॉलेज होना बहुत जरूरी होता है और मशीन लर्निंग के लिए पाइथन आना जरूरी है तो आप पाइथन सीखकर Aerospace में भी अपना करियर बना सकते हैं।

पाइथन क्यों सीखना चाहिए?

लोगों के मन में अक्सर इस तरह का सवाल आता है कि उन्हें पाइथन लैंग्वेज को क्यों सीखना चाहिए! अगर आप किसी से भी पूछेंगे की फाइटिंग सीखना क्यों जरूरी है तो वो आपको यही जवाब देगा कि पायथन सीख कर Application और website आसानी से बना सकते हैं लेकिन इसके अलावा भी कई सारे कारण होते हैं जिसके वजह से एक व्यक्ति को पाइथन सीखना चाहिए –

नौकरी पाने के लिए

दोस्तों, वो समय चला गया जब लोगों को कंप्यूटर आने पर नौकरियां मिल जाती थी लेकिन बढ़ती टेक्नोलॉजी के वजह से अब कंप्यूटर आना काफी नहीं है अगर आपको एक अच्छी नौकरी चाहिए या फिर फ्यूचर में आप अपने करियर में jobs stability चाहते हैं।

 तो आपको प्रोग्रामिंग या फिर कोडिंग करना आना जरूरी होता है ऐसे में प्रोग्रामिंग सीखने के लिए python आपके लिए एक अच्छा विकल्प बनकर सामने आता है। इतना ही नहीं अगर आप पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीख लेते हैं तो आपके सामने नौकरी के कई सारी opportunity आने लगती है।

पैसे कमाने का जरिया

शायद आपको ये समझ में न आ रहा हो लेकिन पाइथन प्रोग्रामर की डिमांड आज बहुत ज्यादा है इसीलिए इन लोगों को काफी अच्छी सैलरी दी जाती हैं।

अगर मैं इंडिया की बात करूं तो इंडिया में एक अच्छे पाइथन प्रोग्राम की जो सैलरी होती है वो 30 हजार से ऊपर होती है और आने वाले समय में यह रकम दोगुना भी हो सकती है क्योंकि उस समय पाइथन प्रोग्राम की डिमांड और भी ज्यादा बढ़ जाएगी।

computer science में कुछ करने के लिए‌

कुछ लोगों का सपना होता है कि वो भी साइंस और टेक्नोलॉजी की दुनिया में कुछ करें अगर आपका भी ऐसा ही कोई सपना है तो आप पाइथन लैंग्वेज को सीख कर अपनी शुरुआत कर सकते हैं।

क्योंकि एक तो इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना काफी आसान होता है और दूसरा इस लैंग्वेज को सीख लेने के बाद आप बाकी की कंप्यूटर लैंग्वेज को भी आसानी से समझ सकते हैं।

तो यही सब वो कारण होते हैं जिसकी वजह से व्यक्ति पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखता है। ‌ अगर आपको भी पाइथन में इंटरेस्ट है तो आप पाइथन सी सकते हैं।

पाइथन के लाभ

पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है कई सारे फायदे होते हैं जिसके बारे में हमें आपको नीचे बताया हैं –

Easy to Read, Learn, Write

पाइथन एक high-level programming language है जिसमें English में syntax का इस्तेमाल किया जाता है इसलिए इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को पढ़ना और लिखना आसान होता है। इतना ही नहीं सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में पाइथन को समझना सबसे ज्यादा आसान होता है इसीलिए हर प्रोग्रामर या फिर कोडर पाइथन से ही प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखना शुरू करता है। क्योंकि इसमें कम code run करके ज्यादा output निकाल सकते हैं।

Interpreted और object oriented

जैसा की हमने आपको ऊपर बताया पाइथन Interpreted प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसकी वजह से वो सभी कोड line by line execute करता हैं।‌ code लिखते समय अगर किसी तरह की कोई गलती हो जाती है तो आप code में पीछे जाकर उसे ठीक कर सकते हैं। इसके अलावा ये प्रोग्रामिंग लैंग्वेज object oriented paradigms को भी सपोर्ट करता है।

Free and Open-Source

पाइथन को OSI के द्वारा open-source license मिला हुआ है जिसके वजह से इसे फ्री में इस्तेमाल और distribute किया जा सकता है। पाइथन की इसी खासियत का ज्यादातर इस्तेमाल ऑर्गेनाइजेशन के द्वारा किया जाता है।

Productivity बढ़ाना

पाइथन एक बहुत ही आसान सा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होता है जिसके वजह से जो प्रोग्रामर होते हैं उनको प्रोग्राम लिखने में ज्यादा दिमाग नहीं लगाना पड़ता है और वो ज्यादा समय तक प्रॉब्लम्स में फंसे बिना इस पर काम कर पाते हैं।

Flexible

पाइथन की एक और खासियत ये हैं कि ये प्रोग्रामिंग लैंग्वेज प्रोग्रामर को अलग-अलग तरह की चीजें ट्राई करने का मौका देता है। पाइथन का इस्तेमाल करके  प्रोग्रामर अलग-अलग तरह के एप्लीकेशन बना सकता है।

Portability

C/C++ के ज्यादातर सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में आपको अलग-अलग प्लेटफार्म पर program run करने के लिए code change करना पड़ता है। लेकिन ऐसा पाइथन के साथ नहीं होता है। पाइथन में एक बार कोई कोड लिख देने के बाद आप उस प्रोग्राम को फिर किसी भी प्लेटफार्म पर run कर सकते हैं।

Dynamically Typed

जब तक आप पाइथन में कोई कोड रन नहीं करते हैं तब तक इसे variable के बारे में कुछ पता नहीं होता है। ये code डालने के बाद उसके मुताबिक data present करता है। यही कारण है कि प्रोग्रामर को पाइथन का इस्तेमाल करते समय variables और उनके data types के बारे में ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं पड़ती है।

पाइथन का नुकसान

वैसे तो ऊपर हमने आपको पाइथन के कई सारे फायदे बता दिए हैं जिसे पढ़ने के बाद आपको लग रहा होगा कि पाइथन सबसे अच्छा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है और इसके आगे तो कोई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज टिक ही नहीं सकता है लेकिन ऐसा नहीं है इसमें भी कुछ खामियां हैं जिसके बारे में हमने आपको नीचे बताया है –

Slow Speed

जैसा की हमने आपको ऊपर बताया पाइथन एक interpreted language और dynamically-typed language है जिसकी वजह से इसमें जो कोड लिखे जाते हैं वो line by line execute होते हैं लेकिन इस तरह से execute होने की वजह से ये प्रोग्राम थोड़ा slow हो जाता है।

Not Memory Efficient

प्रोग्रामर को ज्यादा सुविधा देने के लिए पाइथन ज्यादा से ज्यादा डाटा को खुद याद रखता है लेकिन यही चीज प्रोग्रामर के लिए मुसीबत बन जाती हैं।

जब वो किसी एप्लीकेशन के ऊपर काम करता है क्योंकि उस समय किसी एक पुराने code को ठीक करने के लिए प्रोग्रामर को काफी सारे data को ठीक करना पड़ता है। जो कि करना काफी मुश्किल और काफी समय लगाने वाला काम होता है।

Mobile Computing में कमजोर होना

पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ज्यादातर server-side programming का इस्तेमाल करता है जिसकी वजह से इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल करके कंप्यूटर में कोई भी एप्लीकेशन बनाना आसान होता है।

लेकिन इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल करके मोबाइल में किसी तरह का App develop नहीं किया जा सकता है क्योंकि इसमें Mobile Computing में काफी परेशानी होती है।

Runtime errors

क्योंकि पाइथन एक dynamically typed language होता है जिसकी वजह से इसमें मौजूद data type का variable कभी भी चेंज हो सकता है। जिसके वजह से पाइथन में अक्सर Runtime errors देखने को मिलते हैं।

पाइथन कैसे सीखें?

लोगों को लगता है की प्रोग्रामिंग या फिर कोडिंग सीखना बहुत ज्यादा मुश्किल होता है और प्रोग्रामिंग सीखने के लिए बहुत ज्यादा पैसे लगते हैं खासकर पाइथन जैसे नए प्रोग्राम को सीखने के लिए और भी ज्यादा पैसे खर्च करने पड़ते हैं पर ये सारी बातें गलत हैं।

क्योंकि general public licence (GPL) की वजह से पाइथन को फ्री में उपलब्ध कर दिया गया है ऐसे में अगर कोई व्यक्ति सच में पाइथन सीखना चाहता है तो उसे पैसों को लेकर ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है वो इन तरीकों से पाइथन आसानी से सीख सकता है।

1. YouTube

अगर आप पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना चाहते हैं लेकिन आपके पास पैसे नहीं है तो आप यूट्यूब के जरिए फाइटर सीख सकते हैं क्योंकि यूट्यूब पर आपको पाइथन के ऊपर एक नहीं बल्कि कई सारे tutorial videos मिल जाएंगे।

 तो आप उसका इस्तेमाल करके यूट्यूब से पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना शुरू कर सकते हैं नीचे मैंने आपकी मदद के लिए कुछ यूट्यूब चैनल के नाम भी दे दिए हैं। जैसे आप आसानी से इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीख सकते हैं।

2. Google

जिस तरह से मैंने आपको पाइथन के बारे में इतनी जानकारी दी है ठीक उसी तरह से और भी कई सारी वेबसाइट है जो आपको पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में पूरी जानकारी देते हैं और कुछ ऐसी भी वेबसाइट है जो आपको पाइथन सिखाते हैं। तो आप इस तरह की वेबसाइट के tutorial articles और experiment को पढ़कर भी पाइथन सीख सकते हैं।

3. Paid course

कुछ लोग ऐसे होते हैं जो फ्री में चीजें नहीं सीख पाते हैं, क्योंकि उन्हें किसी ऐसे की जरूरत होती है जो पकड़ पकड़ कर उन्हें एक एक बात सिखाएं।

जो कि आपको free source में नहीं मिलता है ऐसे में अगर आपको भी किसी mentor के निगरानी में पाइथन सीखना है तो आप Paid course लेकर पाइथन सीखना शुरू कर सकते हैं।

4. Python Institute

अब तो इंडिया में भी बहुत सारे ऐसे इंस्टिट्यूट ओपन हो चुके हैं जहां पर आप को programming और coding सिखाया जाता हैं। ऐसे में अगर आपको पाइथन में सच में रूचि है और आप इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना चाहते हैं तो आप इस तरह के किसी Python Institute में अपना दाखिला ले सकते हैं और अच्छे से पाइथन सीखना शुरू कर सकते हैं।

पाइथन सीखने के लिए बेस्ट वेबसाइट

जरूरी नहीं है कि आप किसी इंस्टिट्यूट में जाकर ही पाइथन सकते हैं आप चाहे तो गूगल पर मौजूद वेबसाइट से भी पाइथन सीख सकते हैं –

  • Udemy
  • CodeCademy
  • Educative
  • Coursera
  • Microsoft [edX]

Python सीखने के लिए बेस्ट YouTube Channel

अगर आप पाइथन सिखाने वाले चैनल के बारे में सर्च करेंगे तो यूट्यूब पर आपको कई सारे चैनल्स मिल जाएंगे। नीचे मैंने आपको कुछ यूट्यूब चैनल का नाम mention किया है तो आप उसे फॉलो करके यूट्यूब से 5 दिन सीख सकते हैं –

  • Apna college
  • Sentdex
  • Real Python
  • Corey Schafer
  • Programming with Mosh
  • freeCodeCamp
  • PyData
  • Anaconda Inc
  • Chris Hawkes

FAQ

पाइथन की खोज किसने की?

फाइटिंग की खोज 1991 में Guido Van Rossum ने की थी।

पायथन कोर्स की अवधि कितनी है?

पाइथन सीखने में आपको कितना समय लगेगा ये पूरी तरह से आपके ऊपर निर्भर करता है। लेकिन एवरेज बात करें तो एक पाइथन कोर्स 5 से 10 सप्ताह का होता है।

पाइथन सीखने की फीस कितनी है?

पाइथन सीखने में ₹1000 से लेकर ₹100000 तक की फीस लग सकती है या फिर अगर आप चाहें तो यूट्यूब से आप फ्री में भी पाइथन सीख सकते हैं।

क्या हम यूट्यूब से पायथन सीख सकते हैं?

जी बिल्कुल, आप बड़े आराम से यूट्यूब से पाइथन सीख सकते हैं क्योंकि यूट्यूब पर पाइथन सिखाने वाले बहुत से चैनल मौजूद हैं।

पाइथन की इतनी डिमांड क्यों है?

पाइथन के इतने डिमांड में होने की सबसे बड़ी वजह ये है की इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल काफी सारी चीजों में किया जा सकता है इसके अलावा इसे सीखना काफी आसान होता है।

मैं कितनी जल्दी पाइथन सीख सकता हूं?

अगर आपको जल्दी से जल्दी पाइथन सीखना है और आप पाइथन सीखने में ध्यान देते हैं तो आप 2 से 6 महीने के अंदर ही पाइथन सीख सकते हैं।

दोस्तों इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप जान गए होंगे कि पाइथन क्या है? इस आर्टिकल में मैंने आपको पाइथन के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है जो मुझे लगता है कि पाइथन को समझने के लिए आपको पता होनी चाहिए।

यह भी पढ़े:

पाइथन के बारे में इतना जानने के बाद अब आप चाहे कर सकते हैं कि आपको पाइथन सीखना है या नहीं। और अगर आप पाइथन सीखने के बारे में सोच रहे हैं तो अब ऊपर बताए गए तरीके से पाइथन सीख सकते हैं।

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे उन लोगों के साथ जरूर शेयर कीजिए जो पाइथन के बारे में जानना चाहते हैं।

23 COMMENTS

  1. Sir Maine apki guest requirements ko read Kar liya Hain , lekin guest post ke liye kisi bhi प्रकार का option nahi Hain , main kaise likh sakta hu apke website ke liye guest post

  2. article bohot hi pasand aya mujhe article nahi ea aapne book hi lilhdiya mera ek question tha ki mein python sikhunga to kiya mera koi kam aega kiya.

  3. भाई आपने बहुत ही अच्छी जानकारी दी हैं . आपने बहुत ही अच्छे से समझाया हैं .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here