डीवीडी क्या है? इसके प्रकार एवं फुल फॉर्म (What is DVD in Hindi)

0

डीवीडी (DVD) क्या है?

डीवीडी को डिजिटल वर्सेटाइल डिस्क भी कहा जाता है। यह एक स्टोरेज डिवाइस होता है जिसका इस्तेमाल हाई क्वालिटी की फोटो, वीडियो और ऑडियो को स्टोर करने के लिए किया जाता है। इसका आकर गोल होता है एवं डीवीडी की एक साइड की परत चमकीली होती है, जो कि एलुमिनियम की बनी हुई होती है।


इसमें मौजूद डाटा को पढ़ने के लिए तथा रिजल्ट प्राप्त करने के लिए हमारे पास डीवीडी प्लेयर अथवा कंप्यूटर या फिर लैपटॉप होना चाहिए क्योंकि उसी में मौजूद ड्राइव में जब हम डीवीडी को इंस्टॉल करते हैं तो डीवीडी में मौजूद डाटा हमें कंप्यूटर अथवा डिवाइस की स्क्रीन पर दिखाई देता है।

डीवीडी में डाटा को स्टोर करने के लिए लेयर का इस्तेमाल किया जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कंपैक्ट डिस्क अर्थात सीडी की कंपैरिजन में डीवीडी में अधिक मात्रा में डाटा को सुरक्षित करके रखा जा सकता है।


डीवीडी प्लेयर क्या होता है? 

यह एक प्रकार का उपकरण होता है जिसमें हमारे द्वारा डिजिटल वीडियो डिस्क को अंदर डाला जाता है और इसमें मौजूद डाटा को फिर इस डिवाइस के द्वारा पढ़ने का काम किया जाता है और इस डिवाइस के साथ जो सिस्टम जुड़ा हुआ होता है उस पर रिजल्ट दिखाई देते हैं।

जैसे कि अगर आपने डीवीडी प्लेयर में कोई डिजिटल वीडियो डिस्क डाली और आपने अपने डीवीडी प्लेयर को टीवी के साथ कनेक्ट किया हुआ है तो डीवीडी के अंदर मौजूद डाटा आपको टीवी की स्क्रीन पर दिखाई देगा। इसे ऑनलाइन और ऑफलाइन खरीदा जा सकता है। सामान्य तौर पर इसकी कीमत 1000 से लेकर के 4000 के आसपास में होती है।


डीवीडी कैसे काम करती है?

डीवीडी में डाटा मौजूद होता है जो की वीडियो, फोटो, ऑडियो या एप्लीकेशन भी हो सकती है। जब हमारे द्वारा सिस्टम में डीवीडी को इंस्टॉल किया जाता है तो सिस्टम के द्वारा डीवीडी की लेयर को पढ़ा जाना स्टार्ट किया जाता है। 

जब सिस्टम के द्वारा डीवीडी के डाटा को पढ़ लिया जाता है तो उससे संबंधित जो भी रिजल्ट होते हैं वह हमारे सिस्टम की स्क्रीन पर दिखाई देते हैं। इस प्रकार से डीवीडी काम करती है।


डीवीडी की स्टोरेज क्षमता कितनी होती है?

डीवीडी में डाटा को स्टोर करने के लिए लेअर का इस्तेमाल किया जाता है। यह प्लास्टिक के द्वारा निर्मित हुई होती है जिसकी मोटाई 1.2 एमएम के आसपास में होती है। स्टोरेज कैपेसिटी के आधार पर डीवीडी को मुख्य तौर पर चार प्रकार में डिवाइड किया गया है जिस की जानकारी निम्नानुसार है।


1: Single Side Single Layer

इस प्रकार के डीवीडी में आप तकरीबन 4.7 जीबी तक के डाटा को स्टोर कर सकते हैं, क्योंकि इस प्रकार के डीवीडी की स्टोरेज कैपेसिटी 4.7 जीबी के आसपास होती है।

2: Single Side Double Layer

सिंगल साइड डबल लेयर डीवीडी में डाटा को स्टोर करने की कैपेसिटी 8.7 जीबी तक की होती है।

3: डबल साइड सिंगल लेयर

डबल साइड सिंगल लेयर डीवीडी की स्टोरेज कैपेसिटी 9.5 जीबी होती है।

4: Double Side Double Layer

डबल साइड डबल लेयर डीवीडी की स्टोरेज कैपेसिटी 17.08 जीबी तक की होती है।

डीवीडी के प्रकार (Types of DVD in Hindi)

डिजिटल वीडियो डिस्क को इस्तेमाल करने के आधार पर तीन प्रकार में डिवाइड किया गया है जो कि निम्नानुसार है।

  • DVD – ROM
  • DVD – R
  • DVD – RW

1: DVD – ROM (DVD Read only Memory)

इसे डीवीडी रीड ओनली मेमोरी कहा जाता है और इस प्रकार से इसके नाम से ही यह बात स्पष्ट हो जाती है कि डीवीडी रीड ओनली मेमोरी में हमारे द्वारा सिर्फ डाटा को पढ़ा जा सकता है। आपके द्वारा इसमें किसी भी नए डाटा को शामिल नहीं किया जा सकता है। 

यानी कि आप नए डाटा को इसमें स्टोर नहीं कर सकते हैं, बल्कि जो डाटा पहले से ही यहां पर उपलब्ध है सिर्फ उसे ही रीड कर सकते हैं।

2: DVD – R (DVD Recordable)

डीवीडी रिकॉर्डेबल का मतलब होता है एक ऐसी डीवीडी जिसमें सिर्फ डाटा को रिकॉर्ड किया जा सकता है। आप इस प्रकार की डीवीडी में किसी भी प्रकार के डाटा को संरक्षित कर सकते हैं और बाद में जब चाहे तब उसे पढ़ सकते हैं।

3: DVD – RW (Re-Writable)

डाटा को पढ़ने के लिए साथ ही डाटा को रीड करने के लिए इस प्रकार की डीवीडी का इस्तेमाल होता है। इसमें हम अपनी इच्छा के अनुसार जितनी चाहे उतनी बार डाटा को लिख सकते हैं और उसे पढ़ भी सकते हैं।

    डीवीडी के फायदे?

    डीवीडी के विभिन्न प्रकार के फायदे है, जिनमें से कुछ प्रमुख फायदे की जानकारी नीचे आपके सामने उपलब्ध करवाई जा रही है।

    • अगर सीडी और डीवीडी की तुलना की जाए तो सीडी के मुकाबले में डीवीडी में आप अधिक मात्रा में डाटा को स्टोर करने का काम कर सकते हैं, क्योंकि डीवीडी के स्टोरेज की कैपेसिटी अधिक होती है।
    • डीवीडी में डाटा को स्टोर करना ज्यादा झंझट का काम नहीं होता है।
    • आप अपने पास मौजूद किसी भी हाई क्वालिटी के वीडियो को आसानी से डीवीडी में स्टोर कर सकते हैं बशर्ते उसकी साइज डीवीडी की स्टोरेज कैपेसिटी के अंतर्गत हो।
    • डीवीडी का वजन काफी हल्का होता है और यह पोर्टेबल स्टोरेज डिवाइस होता है। इसीलिए आप किसी भी स्थान पर इसे आसानी से लेकर जा सकते हैं।
    • डीवीडी की विशेषताओं में एक विशेषता यह भी है कि इसकी कीमत मार्केट में ज्यादा नहीं है।
    • मार्केट में आसानी से आपको ₹60 से लेकर के ₹150 के आसपास में डीवीडी उपलब्ध हो जाती है।

      यह भी पढ़े: कॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या है और इसके प्रकार?

      अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न;

      डीवीडी का फुल फॉर्म क्या है?

      डिजिटल वीडियो डिस्क

      डीवीडी का अन्य नाम क्या है?

      डिजिटल वर्सेटाइल डिस्क

      डीवीडी कैसा डिवाइस है?

      पोर्टेबल स्टोरेज डिवाइस

      सीडी और डीवीडी में कौन अधिक स्टोरेज कैपेसिटी रखता है?

      डीवीडी

      उम्मीद है की आपको आर्टिकल पसंद आया होगा और आपको आपके सवालो के जबाब जरूर मिले होंगे अगर आपको आर्टिकल पसंद आया हो तो सोशल मीडिया और अपने दोस्तों में जरूर शेयर करें।

      Previous articleरोबोट क्या है? इसके प्रकार और कैसे कम करता है? (Robot in Hindi)
      Next articleकॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या है और इसके प्रकार? (What is CD in Hindi)
      Ankur Singh
      हेलो दोस्तों, मेरा नाम अंकुर सिंह है और में New Delhi से हूँ। मैंने B.Tech (Computer Science) से ग्रेजुएशन किया है। और में इस ब्लॉग पर टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर, मोबाइल और इंटरनेट से जुड़े लेख लिखता हूँ।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here