सीडी और डीवीडी क्या है? – What Is CD & DVD In Hindi

2

CD Or DVD Kya Hai? – What Is CD & DVD In Hindi? दोस्तों अगर आप एक Computer User हो तो अपने कभी ना कभी CD या DVD का इस्तेमाल तो ज़रूर किया होगा। लेकिन अगर आप नही जानते की सीडी और डीवीडी क्या होता है? तो आज इस पोस्ट में हम जानिंगे की CD & DVD क्या है? CD और DVD में अंतर? फ़ायदे और उपयोग? कैसे काम करती है? कैसे इस्तेमाल करे? & All about CD & DVD In Hindi?

दोस्तों अब वह जमाना गया जब हम लोग cd, dvd का इस्तेमाल कर tv पर फिल्मी गाने, movie देखा करते थे! आज इंटरनेट के इस दौर में cd, DVD का स्थान स्मार्टफोन ले चुके हैं! क्योंकि आज हम मनोरंजन के तौर पर गाने, फिल्में इत्यादि देखने के लिए अपने स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं! 


परंतु आज भी गांव में कहीं यूजर्स cd/dvd का इस्तेमाल अपने पसंदीदा फिल्में देखने, गाने सुनने के लिए करते हैं! परंतु क्या आप cd तथा dvd के बीच अंतर को पहचानते हैं! दोस्तों एक cd तथा dvd उपयोगकर्ता होने के नाते आपको cd एवं dvd के बारे में जानकारी अवश्य होनी चाहिए!


इसलिए यदि आप cd/dvd के बीच पूरी जानकारी पाना चाहते हैं तो आज का यह लेख आपके लिए ही है! जिसमें आप जानेंगे की cd और dvd क्या होती है? इनके क्या उपयोग एवं फायदे होते हैं तथा यह कैसे काम करती है! अतः सीडी एवं dvd से संबंधित सभी जानकारियां आपको इस लेख में मिल जाएगी।

चलिये दोस्तों बिना समय गवाए सबसे पहले जानते हैं सीडी और डीवीडी क्या है? – What Is CD & DVD In Hindi

यह भी पढ़े: Floppy Disk क्या है? – What Is Floppy Disk In Hindi

सीडी (CD) क्या है? –  What Is CD In Hindi

CD अर्थात Compact Disk एक flat (समतल), गोल आकार की होती है। यह डिजिटल optical disk data स्टोरेज format होता है! जिसे पहली बार वर्ष 1982 में रिलीज किया गया! दोस्त यहाँ आपका यह जानना जरूरी है कि इस फॉर्मेट (cd-da) का विकास वास्तविक रूप से सा साउंड रिकॉर्डिंग audio, video playing एवं store करने के लिए किया गया था! परंतु बाद में cd को cd-rom डाटा स्टोरेज के लिए भी विकसित किया गया।

Cd एक पोर्टेबल स्टोरेज माध्यम होता है! जिसे आसानी से carry कर कहीं भी ले जाए जा सकता है! और भारत में इसके लोकप्रिय होने के कई मुख्य कारण हैं पहला इसे कहीं भी किसी भी दूसरे डिवाइस में run किया जा सकता था!

एक cd में कितना डेटा store किया जा सकता है?

एक standard कॉम्पैक्ट डिस्क जो 650 MB की होती है वह लगभग 72 मिनट के गाने store कर सकती है! जबकि 80 मिनट की cd लगभग 700 mb के डाटा को store करने में सक्षम होती है!

James Russell को cd का आविष्कारक माना जाता है! अगस्त वर्ष 1982 में पहली बार cd को Phillips कंपनी के फैक्ट्री में बनाया गया था! दोस्तों अब आपके मन में भी यह ख्याल आ रहा होगा कि cd पहला स्टोरेज मीडिया था? तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि cd से पहले भी कई प्रकार के स्टोरेज मीडिया उपलब्ध थे! हालाँकि CD आने से ठीक पूर्व सबसे अधिक जिस स्टोरेज मीडिया का इस्तेमाल होता था वह थी 3.5″ floppy diskette.

तो दोस्तों इस प्रकार आप जान चुके होंगे कि cd क्या होती है? अब हम आगे बढ़ते हैं तथा जानते हैं कि Dvd क्या होती है?

डीवीडी (DVD) क्या है? – What Is DVD In Hindi

DVd अर्थात Digital Versatile Disc यह optical मीडिया का एक प्रकार है जिसका इस्तेमाल डिजिटल डाटा को store करने के लिए किया जाता है। इसका आकार अर्थात देखने में तो यह cd जैसी ही लगती है! परंतु इसकी स्टोरेज Cd की तुलना में काफी अधिक होती है!

दोस्तों जैसा कि आप अभी जान चुके हैं कि cd लगभग 700 एमबी का डाटा स्टोर करती है! जबकि डीवीडी 4.7 GB डाटा store कर सकती है! जिसका मतलब है कि आसानी से एक अच्छी क्वालिटी की एक मूवी dvd के जरिये देख सकते हैं!  इसलिए कुछ साल पहले तक जब इंटरनेट तथा कंप्यूटर सेवा सरलतापूर्वक उपलब्ध नहीं थी! तब लोगों द्वारा डीवीडी का इस्तेमाल घर-घर में फिल्म देखने के लिए सबसे अधिक किया जाता था.

dvd को वर्ष 1995 में विकसित किया गया था! यह किसी भी प्रकार के डिजिटल डाटा को स्टोर कर सकता है! इसलिए डीवीडी का इस्तेमाल अधिकतर कंप्यूटर सॉफ्टवेयर्स को स्टोर करने, videos तथा अन्य फाइल्स को स्टोर करने के लिए किया जाता है। ताकि उस डेटा का इस्तेमाल भविष्य में करने के साथ ही दूसरे कंप्यूटर के साथ सांझा करने के लिए किया जा सके!

दोस्तों हम संक्षेप में कहें तो cd/डीवीडी दोनों ही एक स्टोरेज डिवाइस होती हैं तथा सीडी एंड डीवीडी दोनों कंप्यूटर की secondary मेमोरी के अंतर्गत पाई जाती हैं! दोस्तों आपका जानना जरूरी है कि डीवीडी अलग-अलग layers में काम करती है! तथा प्रत्येक layer में इसकी स्टोरेज क्षमता बढ़ती चली जाती है! 

  • Dvd single side layer में 4.7gb  डाटा स्टोर कर सकती है
  • Single side double layer में यह क्षमता 8.5 gb होती है!
  • Double layer Single Side में 9.4 GB डेटा स्टोर कर पाती है!
  • Double layer double side में dvd 17.08 डेटा स्टोर कर सकती है!

आइए हम cd एवं dvd के बीच के अंतर को जान लेते हैं! 

CD Ki Full Form Kya Hai?

Compact Disk

DVD Ki Full Form Kya Hoti Hai?

Digital Versatile Disc

सीडी और डीवीडी में अंतर – Difference Between CD And DVD In Hindi

सीडी एक कॉन्पैक्ट डिस्क होती है जबकि dvd Digital Versatile Disk होती है!

Storage Capacity

Cd का स्टोरेज साइज 700 MB होता है जबकि DVD  का स्टोरेज साइज कम-से-कम 4.7 gb होता है!

Key Difference 

विशेषकर cd को ऑडियोज़ प्रोग्राम फाइल्स को स्टोर करने के लिए बनाया गया है! जबकि दूसरी तरफ dvd को वीडियो movies आदि बड़े साइज के डाटा को स्टोर करने के लिए बनाया गया है! 

Use

डीवीडी के आने से पूर्व cd का इस्तेमाल काफी बड़े पैमाने पर किया जाता था! क्योंकि cd में जो डाटा होता था उसे कई बार उपयोग किया जा सकता है! और यही कारण था कि यह “कैसेट, Vhs taps की तुलना में काफी लोकप्रिय हो गया था! उस समय cd सॉफ्टवेयर तथा कंप्यूटर प्रोग्राम्स के लिए मुख्य मीडिया के रूप में उपलब्ध था! 

परंतु वर्ष 1995 में dvd को लांच किया। cd की तुलना में dvd की स्टोरेज क्षमता काफी अधिक थी! तथा movie, वीडियोस store करने के लिए dvd एक मुख्य साधन बन गया!

Functionality

आप dvd प्लेयर में cd का भी इस्तेमाल कर सकते हैं परंतु cd player में आप केवल cd का इस्तेमाल कर सकते हैं 

Educational institute 

CD पोर्टेबल स्टोरेज डिवाइस होती हैं यही कारण है कि स्कूल एवं कॉलेज में आज भी cd’s का इस्तेमाल शिक्षा के लिए होता है! उदाहरण के लिए प्रोफेशर तथा लेक्चरर द्वारा कही गई महत्वपूर्ण बातों को रिकॉर्ड कर cd के रूप में स्टूडेंट्स को वितरण किया जाता है!

तथा इस प्रकार cd अनेक शिक्षण संस्थानों में उपयोग की जाने वाली storage डिवाइस है! जिससे छात्रों को असाइनमेंट पूरा करने तथा notes का अध्ययन करने में सुविधा होती है! इसके आलावा cd का इस्तेमाल एडवरटाइजिंग workplace तथा सॉफ्टवेर ट्रांसफर आदि उद्देश्यों के लिए भी अक्सर किया जाता है.

सीडी और डीवीडी के फ़ायदे – Benefits Of Using CD & DVD In Hindi

Cheap

दोस्तों जैसा कि आप जान चुके हैं cd तथा dvd दोनों same मैटेरियल से मिलकर बने होते हैं! तथा इनकी स्टोरेज क्षमता अलग-अलग होती है!

लेकिन इन दोनों का इस्तेमाल करने का मुख्य फायदा यह है कि inexpensive होते हैं अर्थात अन्य storage माध्यम की तुलना में सस्ते होते हैं! और आमतौर पर प्रत्येक इंसान के लिए खरीदकर इनका इस्तेमाल करना संभव होता है!

Stores Large Amount of Data 

Cd तथा dvd दोनों विभिन्न प्रकार के डाटा को स्टोर करने का कार्य करते हैं! हालांकि cd की स्टोरेज क्षमता कम होती है! और जब मूवीस, वीडियो आदि बड़ी मात्रा में डाटा को स्टोर करना हो तो dvd का इस्तेमाल होता है।

इस प्रकार से cd तथा डीवीडी का इस्तेमाल बड़ी मात्रा के डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है!

Easy for Handling 

दोस्तों cd हो या डीवीडी दोनों ही पोर्टेबल होते हैं जिस वजह से इन्हें आसानी से किसी भी बैग में या हाथों के जरिए कहीं ले जाया जा सकता है! और इनका उपयोग उपयुक्त डिवाइस में किया जा सकता है! 

Longevity

दोस्तों CD & DVD दोनों का ही रखरखाव बेहतर तरीके से किया जाए तो इनके खराब होने की संभावनाएं काफी कम हो जाती है! जिस वजह से इनमें सालों-साल डाटा स्टोर रहता है तथा इनका उपयोग कभी-भी किया जा सकता है। अतः कई सालों तक ना खराब होने की वजह से भी लोग इनका इस्तेमाल करना पसंद करते हैं!

तो दोस्तों यह कुछ कारण थे जिस वजह से लोग cd तथा dvd का उपयोग करना फायदेमंद मानते हैं! दोस्तों अब अंत में यह सवाल आता है कि आप अपने कंप्यूटर में cd और dvd कैसे चला सकते हैं? 

सीडी और डीवीडी कैसे चलायें?

सबसे पहले आपको देखना होगा कि आपके कंप्यूटर में कौन सा disk ड्राइव मौजूद है! पर्सनल कंप्यूटर में दो drive देखी जाती है! पहला डीवीडी reader होता है जो कि top में पाया जाता है! जबकि दूसरा combined DVD/CD reader/writer होता है जो उसके नीचे होता है! लेकिन लैपटॉप की बात करें तो इसमें कीबोर्ड के साइड में combined DVD/CD reader/writer पाया जाता है।

तो दोस्तो डिस्क ड्राइव कहां पर स्थित है यह देखने के बाद अब आपको डिस्क drive को ओपन करना होगा! वहां पर एक button होगा उसे प्रेस कीजिये! यदि प्रेस करने पर tray पूरी तरह नहीं खुलती है तो इसे आपको अपने हाथों से आराम से बाहर की ओर खींचना होगा! 

उसके बाद आपको डिस्क को कंप्यूटर के disk drive में डालना होगा! याद रहे यह disk आसानी से ड्राइव पर फिट हो! इतना करते ही वह ड्राइव अंदर की ओर चली जाएगी! या आप उसे push कर सकते हैं। इतना करते ही आपके कंप्यूटर में डेस्कटॉप पर एक ऑप्शन आएग जिससे पता लग जाएगा कि आप की disk सफलतापूर्वक कंप्यूटर में insert हो चुकी है! 

अब आपसे पूछा जाएगा कि आप इस डिस्क का क्या करना चाहते हैं! अतः आप डाटा को open भी कर सकते हैं।

Disadvantage of CD in Hindi

Low Storage

स्टोरेज के मामले में Hard disk की तुलना यदि हम CD से करें तो स्टोरेज काफी कम हमें इसके अंदर देखने को मिलता है! इसकी Storage क्षमता लिमिटेड होने के कारण इसका आज के दौर में इस्तेमाल भी काफी कम होता है!


Slow To Access

इसके अलावा दूसरा सबसे बड़ा नुकसान इसका यह है कि  Access करने पर slow speed प्रदान करती है! यदि आप CD की तुलना हार्ड डिस्क से करें तो आप पाएंगे कि इसकी स्पीड slow है इसलिए इसमें जो डाटा होता है उसकी accessing speed काफी slow होती है।

Easy To Snap And Scratch

इसके अलावा यदि आपने कभी CD का इस्तेमाल किया होगा तो आप जानते होंगे इसमें आसानी से स्क्रैच आने या डैमेज होने की संभावनाएं काफी बढ़ जाती है! अतः इसमें काफी केयर की जरूरत होती है अन्यथा जो भी आपका important data इसमें स्टोर है वह डिलीट हो सकता है!

अतः यह इसका एक मुख्य नुकसान है! कि इसे आसानी से  स्क्रेच किया जा सकता है जिससे इसके खराब होने की संभावनाएं हार्ड डिस्क या किसी भी अन्य स्टोरेज डिवाइस की तुलना में काफी अधिक होती हैं! तो दोस्तों  इस प्रकार आपने CD के नुकसान के बारे में जाना अब हम CD के बारे में और महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल निम्नलिखित बिंदुओं की सहायता से समझते करते हैं!

Properties of A Compact Disk (CD) in Hindi

• Storage Type

Compact Disk स्टोरेज डिवाइस का एक प्रकार है इसे ऑप्टिकल स्टोरेज भी कहा जाता है।

• Data Access

Compact disk को डायरेक्ट एक्सेस किया जा सकता है!

• Cost of Storage

storage के cost की बात करें तो हार्ड डिस्क की तुलना में हालांकि यह सस्ती होती है, परंतु यदि हम प्रति byte के हिसाब से देखें तो इसकी Cost हार्ड डिस्क, मैग्नेटिक tapes क्या फ्लैश मेमोरी से भी अधिक होती है!!

• Capacity

उसकी स्टोरेज कैपेसिटी लिमिटेड होती है जो कि 650mb है।

• Speed

स्पीड के मामले में compact disk मैग्नेटिक टेप की तुलना में अधिक फास्ट होती है! हालांकि हार्ड डिस्क एवं फ्लैश मेमोरी की तुलना में इसकी स्पीड काफी कम होती है.

• Portability

Compact Disk पोर्टेबल होती है, इसे आप आसानी से अपने जेब में या फिर किसी बैग में carry कर कहीं भी ले जा सकते हैं! इसलिए आज से कुछ समय पहले तक ऑफिस, स्कूल, कंपनियों में compact डिस्क का इस्तेमाल काफी अधिक होता था।

• Durability

Durability के मामले में compact डिस्क बेहतर कहीं जा सकती है!  क्योंकि इसका सही तरीके से रखरखाव ना किया जाए तो फिर आसानी से इसमें स्क्रैच आ सकते हैं! और आपने जो डाटा स्टोर किया गया है उसे आपको एक्सेस करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है!

इसके अलावा इस को heat से भी बचा कर रखना होता है अधिक हिट होने पर भी इसके डैमेज होने की संभावना बढ़ जाती है

• Reliability

यदि विश्वसनीयता की बात करें तो CD पर आप बिल्कुल भरोसा कर सकते हैं! यदि इसका रखरखाव  सही तरह से हो लेकिन कई बार यह डाटा को रीड करने में सक्षम नहीं होता। साथ ही इसके लिए किसी Cd, DVD ड्राइवर की आवश्यकता होती है या फिर कंप्यूटर ताकि डाटा को read किया जा सके!

Properties of DVD in Hindi

Post Per Storage

यदि हम per gigabyte स्टोरेज कैपेसिटी की बात करें तो DVD में per GB की कीमत कम होती है! यदि इसकी तुलना हम फ्लैश drive  और यहां तक कि कुछ हार्ड डिस्क से करें! यदि हम Blank dvd का एक सेट खरीदते हैं तो इसकी प्रति GB स्टोरेज low कॉस्ट में पढ़ती है!

Rewriting

re writing के purpose से यदि आप DVD का इस्तेमाल करना चाहते हैं! तो बता दें कुछ ऐसे ही DVD होती हैं जो एक बार write करने के बाद re write करने योग्य हो जाती हैं।

Example के लिए कुछ DVD’s हैं ( DVD-RW, DVD+RW and DVD-RAM)

Portability

CD की तरह ही डीवीडी का भी पोर्टेबल होना एक मुख्य गुण है! यदि आपके पास एक डीवीडी है तो आप उसे आसानी से कैरी कर सकते लेकिन कई सारी DVD का सेट है तो आपको उन्हें बैग में रखना पड़ेगा! परंतु फिर भी इन्हें आप जरूरत पड़ने पर एक जगह से दूसरी जगह ले जा सकते हैं डाटा स्टोर करने के लिए डीवीडी अच्छा स्टोरेज माध्यम है!

Vulnerability

CD की तुलना DVD से की जाए तो एक तरफ जहां CD में आसानी से स्क्रैच आने और इसके डैमेज होने के chances होते हैं! वही DVD की भी यदि care ना की जाए तो इसके डैमेज होने और इंपॉर्टेंट डाटा lost होने के काफी chances बढ़ जाते हैं।

Store Movies

यदि आप movies को स्टोर करने के purpose से DVD को देखें तो जहां एक individual dvd में आप एक या दो मूवीस को store कर सकते हैं! लेकिन यदि आपको कई सारी movies store करनी है तो  इसके लिए हार्ड डिस्क का इस्तेमाल करना बेहतर होगा!

जिसमें आप सैकड़ों मूवीज आसानी से store कर सकते हैं! तो साथियों अब आप CD, DVD के बीच differnce और इनके विशेषताओं एवं इनके फीचर्स के बारे में जान चुके हैं! अब हम उनके इतिहास के बारे में भी जान लेते हैं! दुनिया में पहली बार  डिजिटल CD डिवाइस को James Russell ने बनाया था। CD का आविष्कार 1960 दशक के अंतिम वर्षों में हो चुका था और फिर धीरे-धीरे डिजिटल उपकरणों के आने के बाद उनमें डीवीडी का इस्तेमाल होने लगा।

DVD को किसने बनाया?

डीवीडी जो हम में से कई लोगों के बचपन में मनोरंजन का एक शानदार फॉर्मेट था! असल में इसका आविष्कार वर्ष 1995 में हुआ था और 1996 में इसे लांच किया गया आपके लिए जानना दिलचस्प होगा कि डीवीडी को एक नहीं दो नहीं बल्कि 10 कंपनियों ने मिलकर विकसित किया इन कंपनियों में Sony, Philips, Pioneer, Toshiba, Time Warner, Mitsushita, Mitsubishi, Thomson, Hitachi and JVC. शामिल हैं। इसके बाद अगले ही वर्ष 1997 में पहला DVD प्लेयर सोनी कंपनी द्वारा पेसिफिक डिजिटल कंपनी के साथ मिलकर 1997 में बनाया और तब से ही डीवीडी प्लेयर का इस्तेमाल विभिन्न देशों में किया जाने लगा।

दोस्तों आज के लेख में बस इतना ही उम्मीद है! इस लेख को पढ़ने के बाद आप जान गये होंगे की CD & DVD क्या है? CD और DVD में अंतर? फ़ायदे और उपयोग? कैसे काम करती है? कैसे इस्तेमाल करे? & All about CD & DVD In Hindi?

यह भी पढ़े:

Hope की आपको सीडी और डीवीडी क्या है? – What Is CD & DVD In Hindi? का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


अगर आपके पास इस पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करे. और अगर पोस्ट पसंद आया हो तो सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दे.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here