CVV क्या होता है? (What is CVV Number in Hindi)


CVV नंबर क्या होता है? अगर आप नहीं जानते किसी CVV क्या है इसका क्यों इस्तेमाल किया जाता है तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए ही है पिछले आर्टिकल में हमने आपको बताया था कि क्रेडिट कार्ड क्या होता है और क्रेडिट कार्ड की पेमेंट कैसे करते हैं आज के इस आर्टिकल में हम आपको CVV नंबर के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

CVV क्या होता है? (What is CVV Number in Hindi)

दोस्तों आपने भी कभी ना कभी तो ऑनलाइन शॉपिंग की होगी तो शॉपिंग के दौरान जब पेमेंट करने वाले ऑप्शन पर जाते हैं तो आपसे आपकी कार्ड की डिटेल्स मांगी जाती हैं जैसे कि आपके कार्ड का नंबर आपके कार्ड की एक्सपायरी डेट और आपके कार्ड का सीवीवी नंबर अब आपके दिमाग में सवाल तो जरूर ही आया होगा कि आखिर यह CVV क्या होता है आप भी CVV नंबर के बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते हैं, तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।


सीवीवी नंबर का इस्तेमाल आपको बहुत सी जगह पर करना पड़ सकता है जैसे कि यदि आप कोई ऑनलाइन पेमेंट कर रहे हैं या आपको अपने कार्ड की जरूरत है या कोई आपसे आपका सीवीवी नंबर मांग रहा है तो आपको क्या करना है और क्या नहीं या आपको इस आर्टिकल में बताया गया है तो चलिए जानते हैं कि CVV क्या है?

CVV क्या होता है? (What is CVV Number in Hindi)

CVV नंबर का पूरा नाम कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू नंबर होता है आप कभी ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं तो आपको सारे स्टेप्स कंप्लीट करने के लिए पेमेंट वाले ऑप्शन को भी कंप्लीट करना पड़ता है यदि आप ऑनलाइन पेमेंट कर रहे हैं और अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड से पेमेंट कर रहे हैं ऑनलाइन पेमेंट करते समय आपको तीन चीजों की आवश्यकता पड़ती है जोकि होती है कार्ड नंबर, कार्ड की एक्सपायरी डेट और कार्ड का सीवीवी नंबर।


CVV नंबर कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू नंबर CVC नंबर यानी कार्ड वेरिफिकेशन कोड के नाम से भी जाना जाता है CVV कार्ड वेरीफिकेशन वैल्यू नंबर या CVC number कार्ड वेरिफिकेशन कोड नंबर क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड कंपनियों के द्वारा इस्टैबलिश्ड किया जाता है ताकि ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के दौरान कम से कम फ्रॉड हो और ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के दौरान जो फ्रॉड होते हैं उन्हें रोका जा सके।

इसलिए जब भी आप कोई ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपको वहां पर अपना सिर भी नंबर एंटर करना पड़ता है क्या बताने के लिए किया कार्ड आप ही का है और आपको यह चीज परी फाईपी करनी पड़ती है जिससे कि कोई भी अन्य व्यक्ति आपके कार्ड नंबर का गलत इस्तेमाल नहीं कर सकता है।

CVV नंबर या CVC नंबर एक 3 या 4 डिजिट कोड होती है जोकि कार्ड कंफर्मेशन के लिए क्रिप्टोग्राफी प्रोवाइड करती है सीवीवी कोड कार्ड का एक सिक्योरिटी चेक होता है ना कि कार्ड का एक हिस्सा CVV नंबर या CVC नंबर से हमें कार्ड के एक्चुअल होल्डर के बारे में जानकारी प्राप्त होती है इससे हमें यह पता चलता है कि कस्टमर जो कि इस्तेमाल कर रहा है वह कार्ड का असली होल्डर है और कार्ड का सही इस्तेमाल किया जा रहा है।


अलग-अलग कंपनिओं का CVV नंबर या CVC नंबर अलग अलग तरीके हो सकता है परंतु इन सभी का काम एक जैसा ही होता है चाहे फिर वह कार्ड किसी भी कंपनी का हो उदाहरण के तौर पर VISA कंपनी अपने कार्ड के सीवीवी नंबर को CVV2 कहती है और दूसरी और मास्टर कार्ड जैसी कंपनी अपने कार्ड के सीवीवी नंबर को CVC2 कहते हैं।

CVV नंबर का पता कैसे लगाएं?

ऊपर दी गई जानकारी को पढ़कर आपको पता लग गया होगा CVV नंबर क्या है और यह कैसे काम करता है और यह हमारे लिए जरूरी क्यों है परंतु अभी तक आपको यह पता नहीं है कि आपको अपना सीवीवी नंबर कैसे फाइंड करना है और आपको आपका सीवीवी नंबर कहां पर मिलेगा अपना सीवीवी नंबर खोजने के लिए कहीं भी जाने की जरूरत नहीं है यह नंबर आपके कार्ड पर उपलब्ध होता है चाहे आपका कार्ड किसी भी कंपनी का है उसका CVV नंबर आपको उसी कार्ड पर देखने को मिल जाएगा।


यह CVV नंबर या CVC नंबर हमारे डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के पिछले हिस्से की तरफ होता है यह CVV नंबर या CVC नंबर 3 या 4 अंकों का होता है इसे हम आसानी से अपने कार्ड के पिछले हिस्से की तरफ देख सकते हैं।

क्या CVV नंबर ही कार्ड पिन नंबर होता है?

नहीं, एक सीवीवी नंबर और एक कार्ड पिन नंबर में बहुत फर्क होता है अक्सर लोग यह गलती करते हैं कि वह अपने सीवीवी नंबर को ही अपने कार्ड का नंबर मान लेते हैं और यह बहुत बड़ी गलती है CVV नंबर या CVC नंबर का उपयोग हम सिर्फ तभी करते हैं जब  ऑनलाइन ट्रांजैक्शन या ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं सीवीवी नंबर का इस्तेमाल किसी भी रूप में ऑफलाइन modes में नहीं किया जाता है।


परंतु यदि आप अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड से पैसे निकलवाना चाहते हैं तो आपको आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड के पिन नंबर की आवश्यकता पड़ेगी डेबिट या क्रेडिट कार्ड का पिन नंबर अक्सर 4 से 5 अंकों का होता है यह निर्भर करता है कि आपका डेबिट क्रेडिट कार्ड किस बैंक का है रेट कार्ड और डेबिट कार्ड के पिन नंबर एटीएम मशीन में करते हैं।

CVV नंबर के फायदे?

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया है किसी भी नंबर का इस्तेमाल आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शंस में करते हैं यदि आप किसी भी ऑनलाइन वेबसाइट से शॉपिंग कर रहे हैं या कुछ और पेमेंट कर रहे हैं तो वहां पर आपको अपने डेबिट और क्रेडिट कार्ड का सीवीवी नंबर की आवश्यकता पड़ती है सीवीवी नंबर का सबसे बड़ा फायदा यही है कि आपको ऑनलाइन होने वाले धोखाधड़ी से बचाता है आजकल ऑनलाइन वेबसाइट में बहुत से स्कैमर होते हैं क्योंकि आपकी इंफॉर्मेशन उसका गलत इस्तेमाल कर सकते हैं आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड का कोई भी गलत इस्तेमाल ना कर पाए इसके लिए ही सीवीवी नंबर बनाया जाता है।

जैसा कि आपने देखा होगा कि ऑनलाइन शॉपिंग करते समय कभी-कभी वेबसाइट ऊपर आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड की डिटेल्स सेव हो जाती है जैसे कि आपका कार्ड नंबर आपके कार्ड की एक्सपायरी डेट और आपके कार्ड फोल्डर का नाम परंतु आप नहीं आती भी अवश्य देखी होगी कि कभी भी किसी भी वेबसाइट के ऊपर आपका सीवीवी नंबर सेव नहीं होता है आपको जितने भी बात ट्रांजैक्शंस करने होते हैं आपको आपका सीवीवी नंबर हमेशा इनपुट करना पड़ता है यह नंबर किसी भी साइट के ऊपर सेव नहीं होता है।

जब भी आप कोई भी ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपके कार्ड की वेरिफिकेशन इसी CVV नंबर के माध्यम से की जाती हैं जब भी आप पेमेंट करते समय किसी के साथ क्यों पर अपना सीवीवी नंबर डालते हैं, तो जो गेटवे होता है उस पर साइट्स के पेमेंट का वह आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड के बैंक को वेरिफिकेशन भेजता है कि यह इंफॉर्मेशन सही है या गलत और इस तरह से आपका सीवीवी नंबर वेरीफाई किया जाता है।

तो आपका सीवीवी नंबर आपको ऑनलाइन होने वाले फोन से बचाने के लिए बनाया जाता है आपको कभी भी अपना डेविड या क्रेडिट कार्ड किसी भी जगह पर रख कर भूल नहीं जाना चाहिए क्योंकि उसके ऊपर आपका सीवीवी नंबर होता है, इस तरह आपके साथ फ्रॉड होने के चांसेस बहुत ज्यादा बढ़ जाते हैं।

सीवीवी नंबर का होना हमारे डेबिट या क्रेडिट कार्ड पर एक और सबसे बड़ा फायदा हमें या देता है कि बाहर के कई देशों में जब भी हम कोई ट्रांजैक्शन करने लगते हैं तो भी पूरी की पूरी ट्रांजैक्शन केवल और केवल सीवीवी नंबर के माध्यम से ही हो जाती है, हमें कुछ भी और अन्य इंफॉर्मेशन डालने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

अगर आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड पर इंटरनेशनल ट्रांजैक्शंस ऑन ने तो आपको किसी भी ओटीपी डालने की आवश्यकता नहीं पड़ती है आपकी भूल ट्रांजैक्शन केवल आपके सीवीवी नंबर के माध्यम से कंप्लीट हो जाती है, तो आज के जमाने में आपको आपके डेबिट ओर क्रेडिट कार्ड का सीवीवी नंबर अवश्य हर समय याद होना चाहिए।

क्या दूसरा CVV नंबर मिल सकता है?

यदि आपका सीवीवी नंबर आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड से मिल चुका है और आपको आपने सीवीवी नंबर याद भी नहीं है तो इस स्थिति में आप अपना सीवीवी नंबर किसी भी तरीके से वापस नहीं पा सकते हैं इस स्थिति में बैंक भी हम कोई मदद नहीं कर सकता है, आपका सीवीवी नंबर वापस पाने में क्योंकि आपका सीवीवी नंबर एक बहुत ही यूनीक नंबर होता है जिसमें अगर वह आपसे खो जाता है या आपको नहीं आना है तो कोई भी आपकी सहायता नहीं कर सकता है।

यदि आपका सीवीवी नंबर खो जाता है या आपके कार्ड से मिट जाता है तो आपके पास सिर्फ एक ही विकल्प बचता है, अपने कार्ड को अपने बैंक से रिप्लेस करवा लेने का आपको आपके बैंक में जाना पड़ेगा और यह समस्या बतानी पड़ेगी फिर आपका बैंक आपको एक नया क्रेडिट या डेबिट कार्ड issue कर देगा जिसके ऊपर आप का एक नया सीवीवी नंबर होगा किसी भी सीवीवी या सीबीसी नंबर को रिकवर करने के लिए कोई भी अन्य ऑप्शन नहीं होता है।

आपके पास सिर्फ एक ही विकल्प बचता है जो कि होता है अपने कार्ड को रिप्लेस करवा लेना तो आपको कभी भी अपने कार्ड का सीवीवी नंबर बोलना नहीं चाहिए यदि आपका कार्ड पुराना हो रहा है, तो आपको अपना सीवीवी नंबर काहे पर लिख लेना चाहिए ताकि वह आपको हमेशा याद रहे।

क्या CVV के बिना ऑनलाइन ट्रांजैक्शन की जा सकती है?

यदि आप कोई भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने की कोशिश कर रहे हैं और आपके पास आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड का सीवीवी नंबर नहीं है, तो आप कभी भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शंस नहीं कर पाएंगे बिना सीवीवी नंबर के ऑनलाइन ट्रांजैक्शंस को पूरा करना एक तरह से असंभव बात है, क्योंकि जब भी आप कोई भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने की कोशिश करेंगे तो हर जगह पर आपसे कुछ डिटेल्स मांगी जाएंगी।

जैसे कि आपके कार्ड नंबर आपका नाम आपके कार्ड की एक्सपायरी डेट और सबसे महत्वपूर्ण आपके कार्ड का सीवीवी नंबर क्योंकि सीवीवी नंबर ही एकमात्र ऐसा जरिया होता है जिसके सहायता से आपके कार्ड की वेरिफिकेशन की जाती है, कि आप ही आपके कार्ड को इस्तेमाल कर रहे हैं कोई और व्यक्ति नहीं तो यदि आप भी कोई भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने की सोच रहे हैं तो आपको आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड का सीवीवी नंबर अवश्य याद होना ही चाहिए।

नया CVV नंबर कैसे पाएं?

यदि आपको आपका सीवीवी नंबर याद नहीं रहा है और आपका सीवीवी नंबर आपके क्रेडिट या डेबिट कार्ड से भी मिट चुका है तो इस समस्या का समाधान करने के लिए आपको नए क्रेडिट या डेबिट कार्ड के लिए अप्लाई करना पड़ेगा डेबिट या क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करने के लिए आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों माध्यम से अप्लाई कर सकते हैं।

यदि आप ऑफलाइन माध्यम से अप्लाई करना चाहते हैं तो आपको उस कार्ड के बैंक में जाना पड़ेगा और वहां पर बैंक वाले आपको क्रेडिट या डेबिट कार्ड का फॉर्म भरने को देंगे आपको सिर्फ वह फॉर्म फिल अप करके बैंक वालों को देना होता है।

यह करने के बाद आपको आपका डेबिट क्रेडिट कार्ड बैंक की तरफ से उसी समय दे दिया जाता है और वहां डेबिट या क्रेडिट कार्ड 24 घंटों के अंदर अंदर एक्टिव हो जाता है या कहीं बैंकों में यह प्रोसेस 1 से 2 दिन में कंप्लीट की जाती है।

क्रेडिट या डेबिट कार्ड के लिए ऑनलाइन अप्लाई कैसे करें

1. सबसे पहले अपने फोन का क्रोम ब्राउज़र ओपन कर ले अब आपको सर्च बार में ऑनलाइन एसबीआई सर्च करना है।

2. अभी कुछ इस तरह के पेज पर आ जाएंगे अब आपको सबसे पहले वाले वेबसाइट पर क्लिक करना है।

3. क्लिक करने के बाद आप एसबीआई की ऑफिशल वेबसाइट पर आ जाएंगे।

4. थोड़ा सा मिस कॉल करने के बाद आपको पर्सनल बैंकिंग दिखाई देगी यहां पर आपको एक लॉगिन वाला बटन दिखाई दे रहा होगा आपको लॉगिन वाले बटन पर क्लिक करना है।

5. लॉगिन पर क्लिक करने के बाद आपको इस तरह के पेज पर आ जाएंगेअब आपको ऊपर दिए गए कंटिन्यू लॉगइन बटन पर क्लिक करना है।

6. कंटिन्यू टो लॉगइन पर क्लिक करने के बाद आपको इस तरह के पेज पर आ जाएंगे यहां पर आपको आपका एसबीआई का यूजर नेम और पासवर्ड डालकर लॉगइन कर लेना है।अब आपको लॉगइन बटन पर क्लिक कर देना है।

7. लॉगिन पर क्लिक करने के बाद आप एसबीआई कि नेट बैंकिंग में लॉगिन हो जाएंगे और आपको कुछ इस तरह का इंटरफेस दिखाई देगा अब आप e-सर्विस वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

8.e-सर्विस पर क्लिक करने के बाद आपको बहुत सारे ऑप्शन दिखाई देंगे आपको एटीएम कार्ड सर्विस वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

9. अब आपको रिक्वेस्ट एटीएम कार्ड और डेबिट कार्ड वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

10. क्लिक करने के बाद आप कुछ इस तरह के पेज पर आ जाएंगे यहां पर आपको आपका अकाउंट नंबर सिलेक्ट कर लेना है।

11. अकाउंट नंबर सिलेक्ट करने के बाद नीचे आपको क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड वाला ऑप्शन दिखाई देगा यहां से आपको कोई भी काट सिलेक्ट कर लेना है अब आपको आपका नाम इनपुट करना है।

12. इसके बाद आपको सिलेक्ट द कार्ड वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।अब आपको जैसा भी क्रेडिट या डेबिट कार्ड चाहिए उस तरह से सिलेक्ट कर लेना है।

13. अब आपको टर्म्स एंड कंडीशन वाले बटन पर क्लिक कर देना है।

 अब आपको सबमिट बटन पर क्लिक कर देना है।

14. सबमिट पर क्लिक करने के बाद आप कुछ इस तरह के पेज पर आ जाएंगे यहां पर आपके कार्ड की सारी डिटेल्स आपको शो की जाएंगे जैसे कि आपका अकाउंट नंबर क्या है और आपके कार्ड पर कौन सा नाम होगा और आपका कार्ड किस टाइप का है।अब आपको रजिस्टर्ड एड्रेस पर क्लिक कर देना है।

15. इसके बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक कर देना है।

16. सबमिट बटन पर क्लिक करने के बाद आप कुछ इस तरह के पेज पर आ जाएंगे जहां पर आपको दो ऑप्शन मिलेंगे आपको कोई भी एक ऑप्शन सेलेक्ट कर लेना है।

17. इसके बाद आप कुछ इस तरह के पेज पर आ जाएंगे यहां पर आपको आपकी एसबीआई प्रोफाइल का पासवर्ड इनपुट करना है।पासवर्ड इनपुट कर देने के बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना है।

18. इसके बाद आपको कुछ इस तरह का इंटरफेस दिखाई देगा।

आपका एप्लीकेशन क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड के लिए सक्सेसफुली अप्लाई हो चुका है, आपका क्रेडिट या डेबिट कार्ड आपके घर तक 6 से 7 दिनों के अंदर अंदर पहुंच जाएगा।

19. एटीएम कार्ड के लिए अप्लाई होने के बाद आपको आपका एटीएम कार्ड जब मिल जाएगा उसके बाद आपको आपका एटीएम कार्ड एक्टिवेट करना पड़ेगा अपने एटीएम कार्ड को एक्टिव करने के लिए आपको दोबारा से ईसर्विसेज वाले आपको ऑप्शन पर क्लिक करना पड़ेगा।

20. अब आप कुछ इस तरह के इंटरफेस पर आ जाएंगे यहां पर अब आपको न्यू एटीएम कार्ड एक्टिवेशन पर क्लिक करना है।

21. क्लिक करने के बाद आप कुछ इस तरह के पेज पर आ जाओगे यहां पर आपको आपका एटीएम कार्ड नंबर भरना है।

22. अब आपको एक्टिवेट बटन पर क्लिक कर देना है इस तरह से आपका एटीएम कार्ड एक्टिवेट हो जाएगा।

ऑनलाइन फ्रॉड से कैसे बचें?

जब कोई ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं तो वहां पर आपका CVV नंबर अवश्य मांगा जाता है CVV नंबर एक 3 से 4 अंको का नंबर होता है यदि आप किसी ऑनलाइन फ्रॉड से बचना रहते हैं या आपको लगता है कि भविष्य में आपके कार्ड से कोई भी ऐसी ट्रांजैक्शन हो सकती है।

जो कि आपने नहीं किया है और आपके पैसों का गलत इस्तेमाल हो सकता है या आपके पैसे चुराए जा सकते हैं तो इस परिस्थिति में इन समस्याओं से बचने के लिए सबसे सही उपाय या होता है कि आप अपने कार्ड का सीवीवी नंबर मिटा दें।

CVV नंबर सिर्फ तीन से चार अंको का एक नंबर होता है और उसको याद करना इतनी मुश्किल बात नहीं है यदि आप अपना सीबीसी नंबर याद कर लेते हैं और उसे अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड से मिटा देते हैं तो आप ऑनलाइन होने वाले धोखाधड़ी से बढ़ सकते हैं।

क्योंकि यदि आप किसी परिस्थिति में अपना कार्ड कहीं पर भूल भी जाते हैं आपने अपना डेबिट या क्रेडिट कार्ड ऐसी जगह पर रख दिया है कि अब वह आपको मिल नहीं रहा और भविष्य में वह किसी और के पास आ सकता है।

यदि ऐसा हुआ भी तब भी उस कार्ड के ऊपर आपका सीवीवी नंबर नहीं होगा और वह कोई भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन नहीं कर पाएगा परंतु आपका सीवीवी नंबर आपके पास पहले से ही होगा क्योंकि आपने उसे याद करके रखा हुआ है इस तरह से आप ऑनलाइन फ्रॉड से बच सकते हैं। 

तो दोस्तों आशा करते हैं की अब आपको CVV कोड और CVV नंबर से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी मिल चुकी होगी, और आप जान गये होगे की CVV क्या होता है? (What is CVV Number in Hindi)

FAQ

CVV क्या है ?

CVV number क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड कंपनियों के द्वारा इस्टैबलिश्ड किया जाता है ताकि ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के दौरान कम से कम फ्रॉड हो और ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के दौरान जो फ्रॉड होते हैं उन्हें रोका जा सके

CVV का फुल फॉर्म क्या होता है ?

CVV नंबर का पूरा नाम कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू नंबर होता है

क्या नया सीवीवी नंबर मिल सकता है?

नहीं,यह संभव नहीं है

सीवीवी नंबर खो जाने पर क्या करें?

यदि आपका सीवीवी नंबर खो गया है या अब के कार्ड से मिट चुका है तो अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं

डेबिट या क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कैसे करें?

आर्टिकल में बताया गया है

तो आज का यह आर्टिकल यहीं पर समाप्त होता है आज हमने आपको बहुत से महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में बताया है उम्मीद है कि यह जानकारियां आपके लिए काम आएंगी CVV नंबर एक बहुत ही महत्वपूर्ण नंबर होता है और इसे हमें हमेशा संभाल कर रखना चाहिए अपना CVV नंबर हमें किसी को भी नहीं देना चाहिए क्योंकि यदि अगर आप ऐसा करते हैं तो वह इंसान इसका गलत फायदा भी उठा सकता है तो अपना सीवीवी नंबर हमेशा अपने पास ही रखें।

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको बताया है कि CVV क्या होता है? (What is CVV Number in Hindi) CVV नंबर या CVC नंबर आपके लिए क्यों जरूरी है? CVV नंबर या CVC नंबर के क्या फायदे हैं? यदि आपका CVV नंबर खो गया है तो क्या करें? नए कार्ड के लिए कैसे अप्लाई करें? आशा है कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और आपको कुछ महत्वपूर्ण जानकारी मिली होगी इसके लिए आप इस आर्टिकल पर आए थे।

यदि आपको जानकारी पसंद आई हो तो जो सोशल मीडिया में अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले और यदि आपका कोई सवाल है तो आप उसे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें बता सकते हैं और अगर आपका कोई सुझाव है तभी आप उसे कमेंट करके बता सकते हैं ताकि हम अपने आने वाले आर्टिकल में सुधार कर सके और आपको अच्छी से अच्छी जानकारी दे सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here