JAVA क्या है और कैसे सीखे? (What is JAVA in Hindi)


JAVA क्या है और कैसे सीखे? (What is JAVA in Hindi) java इस्तेमाल कैसे करते है? जैसे कुछ सवाल कंप्युटर की पढ़ाई करने वाले व्यक्ति को मालूम होन चाहिए। आज किसी भी प्रकार की एप्लीकेशन/सॉफ्टवेयर को तैयार करने के लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जाता है, इस बात से तो आप भली-भांति परिचित ही होंगे और आप यह भी जानते होंगे कि प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कई प्रकार की होती है।

JAVA क्या है और कैसे सीखे? (What is JAVA in Hindi)

JAVA भी एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसका बड़े पैमाने पर इस्तेमाल सॉफ्टवेयर क्रिएट करने के साथ ही साथ एप्लीकेशन बनाने में होता है। अगर किसी व्यक्ति के द्वारा जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखने की इच्छा जाहिर की जा रही है तो उसे JAVA क्या है और कैसे सीखे? (What is JAVA in Hindi) इस बारे में जानकारी अवश्य पता होनी चाहिए, जो इस आर्टिकल में आज आपको प्राप्त होगी।


JAVA क्या है? (What is JAVA in Hindi)

JAVA का संक्षिप्त नाम Just Another Virtual Accelerator होता है। ऊपर आप जावा का जो फुल फॉर्म पढ़ रहे हैं वह जावा का आधिकारिक फुल फॉर्म नहीं है परंतु इंटरनेट पर आपको कई जगह पर जावा का फुल फॉर्म यही लिखा हुआ दिखाई देता है।

कंप्यूटर के जनरल परपज लैंग्वेज के तहत जावा फेमस है और डिफरेंट टाइप के सॉफ्टवेयर को क्रिएट करने में तो इसका इस्तेमाल होता ही है साथ ही अलग-अलग प्रकार के एप्लीकेशन को क्रिएट करने में जावा का इस्तेमाल किया जाता है। हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होने की वजह से इसे किसी भी प्लेटफार्म पर आसानी से चलाया जा सकता है क्योंकि यह सभी प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम को भी समर्थन देता है। जावा के कोड लोगों को समझ में आए इसके लिए जावा में सी++ के फंडामेंटल का इस्तेमाल किया जाता है।

ओरिएंटेड कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होने की वजह से जावा लैंग्वेज का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर किया जाता है और यह बिल्कुल सी++ या फिर C लैंग्वेज की तरह ही होती है।

उम्मीद है की अब आप जान गये होगा की JAVA क्या है? तो चलिए अब देखते हैं की Java Language को किसने बनाया? और Java कैसे सीखे?

JAVA प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को किसने बनाया?

James Gosling नाम के व्यक्ति के द्वारा जावा लैंग्वेज की खोज की गई थी। दरअसल साल 1991 में उन्होंने जब सबसे पहले एक प्रोजेक्ट की स्टार्टिंग की थी जिसका नाम उन्होंने ओक दिया था और इसी प्रोजेक्ट के अंतर्गत उन्होंने जावा की खोज की, जिसका पहला पब्लिक Implementation साल 1995 में आया था जोकि Java 1.0 था।

JAVA प्रोग्रामिंग का उद्देश्य?

अगर जावा प्रोग्रामिंग के उद्देश्य के बारे में बात करें तो इसका प्रमुख उद्देश्य Write Once Run Everywhere, जिसका अर्थ यह होता है कि सिर्फ एक ही बार आपको जावा लैंग्वेज को लिखना है और उसके पश्चात आप किसी भी वेब ब्राउज़र में इसे चला सकते हैं यानी की रन कर सकते हैं।

JAVA कैसे सीखे?

प्रसिद्ध प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होने की वजह से कई लोग जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखना चाहते हैं और इसके लिए वह इंटरनेट पर जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कैसे सीखे, इसके बारे में भी सर्च करते हैं तो आइए आपको जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने के अलग अलग तरीके के बारे में भी जानकारी देते हैं।

1: यूट्यूब 

अगर आप बेहतर ढंग से जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना चाहते हैं तो यूट्यूब से बढ़िया आपके लिए कोई भी साधन नहीं हो सकता है और सबसे मुख्य बात है की यूट्यूब से आप फ्री में जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के वीडियो देख सकते हैं और फ्री में जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीख सकते हैं। अगर आप यूट्यूब पर थोड़ी सी रिसर्च करते हैं तो आपको ऐसे बहुत सारे वीडियो और चैनल मिल जाएंगे जहां से आप जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना स्टार्ट कर सकते हैं।

2: ऑनलाइन वेबसाइट

जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने के लिए आप इंटरनेट खंगाल सकते हैं। दरअसल इंटरनेट पर ऐसी बहुत सारी टेक्निकल वेबसाइट है जहां पर जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सिखाया जाता है। नीचे हमने आपकी सुविधा के लिए कुछ बेस्ट जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सिखाने वाली वेबसाइट की लिस्ट भी दी है। इन वेबसाइट को भी एक बार अवश्य विजिट करें।

  • Tutorial Points
  • Code Academy
  • W3 Schools

3: किताब 

किताब के द्वारा जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखने के लिए आपको अपने घर के आस-पास में मौजूद सबसे बड़े बुक स्टोर या फिर बुक डिपो में चले जाना है और वहां से आपको जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से संबंधित किताब को खरीद लेना है। उसके पश्चात उसमें दिए गए बातों की स्टडी करनी है। ऐसा करके भी आप जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीख सकते हैं।

4: कोचिंग इंस्टीट्यूट 

डिजिटल इंडिया के अंतर्गत ग्रामीण इलाके में भी कोचिंग इंस्टिट्यूट ओपन हो जा रहे हैं। ऐसे में आपको जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सिखाने वाले कोचिंग इंस्टिट्यूट को ज्वाइन करना है और दैनिक तौर पर वहां पर जाकर के जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखने का प्रयास करना है।

JAVA क्या है और कैसे सीखे? यह जानने के बाद चलिए अब देखते हैं जावा से जुड़ी कुछ और जानकारियाँ।

JAVA का इतिहास?

सन माइक्रोसिस्टम नाम की कंपनी में काम करने वाले इंजीनियर जेम्स गोस्लिंग के द्वारा एक ग्रुप बनाया गया था। साल 1991 में उन्होंने यह डिसीजन लिया कि वह कंजूमर डिवाइस के लिए एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को तैयार करने पर काम करेंगे और इसके पश्चात उनके द्वारा अपनी टीम के साथ मिलकर के प्रोजेक्ट पर काम करना स्टार्ट किया गया। 

जिस प्रोजेक्ट पर उनके द्वारा काम किया जा रहा था उसका नाम उन्होंने ग्रीन प्रोजेक्ट रखा था और तब के समय में सी प्लस प्लस को उन्होंने अपनी पहली पसंद के तौर पर रखा था परंतु थोड़े समय बाद उन्हें यह एहसास हुआ कि सी प्लस प्लस उनके प्रोजेक्ट के लिए एक बढ़िया लैंग्वेज नहीं है और इसी के पश्चात उन्होंने एक नई कंप्यूटर लैंग्वेज ओक का आविष्कार किया।


इस प्रकार से जब जावा की स्टार्टिंग हुई तो शुरुआत में इसका नाम ओक रखा गया था क्योंकि जेम्स गोस्लिंग का जो ऑफिस था उसके बाहर ओक का पेड़ मौजूद था और इसीलिए उन्होंने जावा का स्टार्टिंग नाम ओक रखा। हालांकि ओक को पहले के समय में ग्रीन टॉक के नाम से भी जाना जाता था परंतु साल 1995 में ओक नाम को बदला गया और जावा नाम रखा गया और उसके पश्चात साल 1995 में ही जावा का पहला पब्लिक इंप्लीमेंटेशन जावा 1.0 आया और वर्तमान के समय में जावा का लेटेस्ट वर्जन JavaSE 16 है। 

वर्तमान के समय में जावा लैंग्वेज का मालिक Oracle Corporation है और ऑर्केल कॉरपोरेशन की रिपोर्ट के अनुसार वर्तमान के समय में तकरीबन दुनिया भर में मौजूद 3 अरब से भी अधिक डिवाइस में जावा का इस्तेमाल हो रहा है।

JAVA के संस्करण

जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी बढ़ रही है वैसे-वैसे जावा के नए वर्जन को भी समय-समय पर लॉन्च किया जाता रहता है। आइए जावा के सभी वर्जन की लिस्ट पर एक नजर डालते हैं।

  • JdkAlpha And  Beta:    1995
  • Jdk 1.0:    January 1996
  • Jdk 1.1:    February 1997
  • J2SE 1.2:    December 1998
  • J2SE 1.3:    May 2000
  • J2SE 1.4:    February 2002
  • J2SE 5.0:    September 2004
  • Java SE 6:    December 2006
  • Java SE 7:    July 2011
  • Java SE 8:    March 2014
  • Java SE 9:    August 2017
  • Java SE 10:    March 2018
  • Java SE 11:    September 2018
  • Java SE 12:    March 2019
  • Java SE 13:    September 2019
  • Java SE 14:    March 2020
  • Java SE 15:    September 2020
  • Java SE 16:    March 2021

JAVA के प्रकार? (Types of JAVA in Hindi)

अभी तक आपको यह पता चल गया होगा कि जावा क्या है और जावा के अभी तक कितने वर्जन लॉन्च हो चुके हैं। अब आइए जानते हैं कि जावा के कितने प्रकार हैं। टोटल तीन प्रकार जावा के हैं।

1: Java Standerd Edition (Java 2SE)

हमें इसमें ऐसे तमाम टूल प्राप्त हो जाते हैं जिसकी सहायता से हम डेस्कटॉप एप्लीकेशन को भी तैयार कर सकते हैं साथ ही सरवर एप्लीकेशन को भी बना सकते हैं। जावा स्टैंडर्ड एडिशन में जो भी प्रोग्राम लिखे जाते हैं वह सभी प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम पर आसानी से चल जाते हैं।


2: Java Enterprise Edition (J2EE)

कॉम्पोनेंट मॉडल, इंटरप्राइज क्लास सर्विस के लिए जावा एंटरप्राइज एडिशन बहुत ही सहायक साबित होता है।

3: Java Micro Edition (J2ME)

सेट टॉप बॉक्स के लिए, सॉफ्टवेयर बनाने में गेमिंग एप्लीकेशन तैयार करने में वही मोबाइल के लिए अलग-अलग प्रकार की एप्लीकेशन को बनाने के लिए जावा माइक्रो एडिशन का इस्तेमाल किया जाता है।

JAVA Application के प्रकार?

टोटल चार प्रकार की एप्लीकेशन का निर्माण जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को इस्तेमाल में लेकर कर सकते हैं।

1: वेब एप्लीकेशन 

ऐसी एप्लीकेशन को वेब एप्लीकेशन कहा जाता है जिनका इस्तेमाल हम सरवर को चलाने के लिए कर सकते हैं और बता दें कि अलग-अलग प्रकार की वेब एप्लीकेशन का निर्माण करने के लिए आसानी से जावा का इस्तेमाल किया जा सकता है।

2: स्टैंडअलोन एप्लीकेशन 

हमें किसी भी प्रकार के ब्राउज़र की आवश्यकता स्टैंडअलोन एप्लीकेशन को चलाने के लिए नहीं पड़ती है क्योंकि किसी भी कंप्यूटर पर इसे आसानी के साथ चलाया जा सकता है। यह डेस्कटॉप और मोबाइल एप्लीकेशन होते हैं जिसका इस्तेमाल काफी बड़े पैमाने पर किया जाता है। मीडिया प्लेयर, एमएस ऑफिस और ब्राउज़र यह सभी स्टैंडअलोन एप्लीकेशन के प्रमुख उदाहरण है।

3: मोबाइल एप्लीकेशन 

स्मार्ट फोन के अंदर मोबाइल एप्लीकेशन को चलाने के लिए जावा मोबाइल एप्लीकेशन प्लेटफॉर्म को बनाया गया है और आपको हम यह भी बता दें कि तमाम प्रकार की मोबाइल एप्लीकेशन को चलाने के लिए जावा को यूज में लिया जाता है।

4: एंटरप्राइज एप्लीकेशन 

एंटरप्राइज एप्लीकेशन को बनाने के लिए भी जावा का इस्तेमाल किया जाता है। एंटरप्राइज एप्लीकेशन में बैंकिंग सॉफ्टवेयर और अकाउंटिंग एप्लीकेशन शामिल है।

JAVA प्रोग्रामिंग की विशेषताएं?

अपने अंदर मौजूद खासियतो की वजह से ही जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल अधिकतर किया जाता है। आइए जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की कुछ विशेषताओं के बारे में भी जानकारी हासिल कर लेते हैं।

विभिन्न टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट के अनुसार जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को दूसरी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की तुलना में सुरक्षित लैंग्वेज माना गया है और इसी वजह से एप्लीकेशन को जब किसी वायरस के द्वारा अटैक किया जाता है तब जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज एप्लीकेशन को उस अटैक से बचाने का काम करती है।

जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के जो कोड होते हैं, उन्हें आसानी से देखा जा सकता है साथ ही पढ़ा जा सकता है और Compile भी किया जा सकता है क्योंकि जो बाकी लैंग्वेज है वह बहुत ही सिंपल लैंग्वेज है।

जावा की गिनती ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में भी होती है क्योंकि इसमें जो भी चीज होती है उसे ऑब्जेक्ट के तौर पर देखा जाता है। जावा को आर्किटेक्चरल नेचर भी कहा जाता है क्योंकि जब कंप्लाईयर के द्वारा Bytecode को जनरेट किया जाता है तो वह किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम में चल जाता है।

आसानी के साथ किसी भी प्लेटफार्म पर जावा को चलाया जा सकता है। जावा की सहायता से ऐसे प्रोग्राम को तैयार किया जाता है तो मल्टीटास्क कर सके। इसका अर्थ यह होता है कि एक ही एप्लीकेशन में अलग-अलग प्रकार के टास्क को अंजाम दिया जा सकता है।

JAVA के उपयोग?

विभिन्न प्रकार के कामों को करने के लिए जावा लैंग्वेज को इस्तेमाल में लिया जाता है। आइए जानते हैं जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के प्रमुख उपयोग क्या है।

  • सबसे ज्यादा जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल वेब एप्लीकेशन को तैयार करने में किया जाता है।
  • जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के द्वारा आसानी के साथ डेस्कटॉप एप्लीकेशन को भी क्रिएट किया जा सकता है।
  • चाहे किसी भी प्रकार की मोबाइल एप्लीकेशन को तैयार करना हो उसके लिए भी जावा एप्लीकेशन को इस्तेमाल में ले सकते हैं।
  • सिर्फ एप्लीकेशन ही नहीं जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के द्वारा सॉफ्टवेयर भी क्रिएट कर सकते हैं।
  • बिजनेस के लिए अगर फाइनेंसियल एप्लीकेशन बनाने की बारी आए तो जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • साइंटिफिक एप्लीकेशन भी जावा के द्वारा रेडी कर सकते हैं।

JAVA के घटक? 

अगर किसी व्यक्ति के द्वारा जावा लैंग्वेज को सीखने की इच्छा जाहिर की जाती है तो उस व्यक्ति को जावा के घटक के बारे में भी अवश्य ही जानकारी रखनी चाहिए ताकि वह आसानी से जावा लैंग्वेज को सीख सके। जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के मुख्य घटक नीचे बताए अनुसार हैं।

1: Java Development Kit (Jdk)

व्यक्ति को अगर प्रोग्राम को क्रिएट करना है तो उसके लिए उसे टूल की आवश्यकता होगी और वह टूल उसे जेडीके के द्वारा प्रोवाइड करवाया जाएगा क्योंकि जेडीके एक टूल पैकेज है और इसका इस्तेमाल सिर्फ जावा डेवलपर ही कर सकता है।

2: Java Runtime Environment (JRE)

यह सॉफ्टवेयर का एक सेट होता है और इसके द्वारा Java एप्लीकेशन डेवलपमेंट में व्यक्ति को काफी सहायता प्राप्त होती है। बता दें कि यह Jdk का ही हिस्सा होता है। जावा रनटाइम एनवायरमेंट से सभी टूल हासिल होते हैं जिनके द्वारा प्रोग्राम को चलाया जा सकता है।

3: Java Virtual Machine (JVM)

जावा रनटाइम एनवायरमेंट का जो Bytecode होता है, उसे मशीन लैंग्वेज में कन्वर्ट करने का काम जावा वर्चुअल मशीन करनी है।

JAVA काम कैसे करता है?

अगर कोई व्यक्ति जावा सीखना चाहता है तो उसे पहले यह भी पता करना चाहिए कि आखिर जावा के काम करने का तरीका क्या है अथवा जावा कैसे काम करता है।

जब हमारे द्वारा जावा के किसी भी प्रोग्राम को कंपाइल किया जाता है तो जो प्रोग्राम होता है वह इंटरमीडिएट लैंग्वेज में कन्वर्ट होता है और उसके बाद जो कोड होता है वह आसानी से किसी भी प्रोसेसर में चल जाता है या फिर ऑपरेटिंग सिस्टम में भी चल जाता है। 

बता दें कि जो इंटरमीडिएट लैंग्वेज में कन्वर्ट होता है उसे जावा Bytecode कहा जाता है। इसके बाद में Bytecode प्रोग्राम को रन करने के लिए इंटरप्रेट करता है और फिर जो जावा सोर्स कोड होता है वह जावाक कंपाइलर की सहायता से Bytecode में Complied होता है और मशीन लैंग्वेज में कन्वर्ट हो जाता है।

तो दोस्तों उम्मीद है की अब आपको जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से जुड़ी पूरी जानकारी मिल चुकी होगी और आप जान गये होगा की JAVA क्या है और कैसे सीखे? (What is JAVA in Hindi) 

FAQ: 

जावा का क्या मतलब है?

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज

जावा कितने प्रकार के होते हैं?

3

जावा के कितने वर्जन होते हैं?

18

जावा कौन सी लैंग्वेज है?

जनरल परपज प्रोग्रामिंग लैंग्वेज

जावा का आविष्कार किसने किया?

जेम्स गोस्लिंग

इस लेख मे हमने आपको java Kya Hai के बारे मे बताया, जिससे आप इस computer language के बारे मे अच्छे से समझ पाए होंगे और JAVA क्या है और कैसे सीखे? (What is JAVA in Hindi) जान पाए होंगे। JAVA computer language के ऊपर विस्तार से जानकारी इस लेख मे दी गई है।

Hope अब आपको JAVA Kya Hai समझ आ गया होगा, और आप जान गये होगे की JAVA क्या है और कैसे सीखे? (What is JAVA in Hindi) गया जाता है।


अगर आपके पास कोई सवाल है, तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते हो. और अगर आपको यह पोस्ट हेल्पफुल लगा हो तो इसको सोशल मीडिया पर अपने अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here