All Linux Commands in Hindi (लिनक्स कमांड)

0

जो लोग कंप्यूटर की फील्ड में है, उन्हें तो यह पता ही है कि, लिनक्स एक शानदार ऑपरेटिंग सिस्टम है। हालांकि दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम से यह थोड़ा सा अलग है। लिनक्स ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम होता है, जिसका इस्तेमाल लैपटॉप में या फिर कंप्यूटर में किया जाता है। अगर आपको भी अपने डिवाइस में लिनक्स का इस्तेमाल करना है, तो आप इंटरनेट से बिल्कुल फ्री में अपने डिवाइस में लिनक्स को डाउनलोड कर सकते हैं। आइए All Linux Commands in Hindi (लिनक्स कमांड) की जानकारी प्राप्त करते हैं।

All Linux Commands in Hindi (लिनक्स कमांड)


लिनक्स को चलाने के लिए हमें लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के कमांड के बारे में जानकारी होनी चाहिए। इसकी जानकारी वैसे तो इंटरनेट पर उपलब्ध है, परंतु वह सभी अंग्रेजी भाषा में है। ऐसे में हिंदीभाषी लोगों के लिए हमने लिनक्स कमांड की जानकारी हिंदी भाषा में दी है, ताकि आपको यह पता रहे कि लिनक्स में कौन से कमांड का क्या इस्तेमाल होता है। 

लिनक्स कमांड क्या है?

लिनक्स कमांड लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम से संबंधित है। लिनक्स कमांड के माध्यम से सभी बेसिक और एडवांस लेवल के कामों को लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम पर किया जाता है।

हम आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि, टर्मिनल सिस्टम के साथ इंटरेक्ट करने के लिए एक कमांड लाइन इंटरफेस की आवश्यकता होती है, जो कि विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में कमांड प्रॉन्प्ट के जैसा ही होता है। लिनक्स में जो भी कमांड होता है, वह केस सेंसेटिव होते हैं। 


यदि विंडोज और मैकिनटोश जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम से लीनक्स की तुलना की जाए, तो लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम एक पावरफुल कमांड लाइन इंटरफेस उपलब्ध करवाता है। लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम का जो टर्मिनल होता है, उसके द्वारा हम बेसिक काम के साथ एडवांस लेवल के काम को कर सकते हैं।

बेसिक काम के अंतर्गत हम फाइल बना सकते हैं, फाइल हटा सकते हैं, फाइल ट्रांसफर कर सकते हैं और इसके अलावा भी अन्य कई काम कर सकते हैं, वही एडवांस लेवल के काम के तहत हम पैकेज स्थापित कर सकते हैं।नेटवर्किंग के काम को कर सकते हैं, सिक्योरिटी के काम को कर सकते हैं और अन्य कई कामों को भी कर सकते हैं।

Linux Commands in Hindi

नीचे आपको हमने टोटल 50 लिनक्स कमांड की जानकारी दी है।


  1. mail Command

कमांड लाइन से ईमेल को सेंड करने के लिए मेल कमांड का इस्तेमाल किया जाता है।

  1. ping Command

दो नोड के बीच कनेक्शन को चेक करने के लिए पिंग कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. host Command

दिए हुए डोमेन नेम के आईपी ऐड्रेस को डिस्पले करने के लिए होस्ट कमांड का इस्तेमाल होता है। यह डीएनएस क्वेरी के लिए डीएनएस लुकअप के तहत परफॉर्म करता है।


  1. ls Command

डायरेक्टरी के कंटेंट की लिस्ट को दिखाने के लिए उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल किया जाता है।

  1. cd Command

वर्तमान में स्क्रीन पर जो डायरेक्टरी है, उसे चेंज करने के लिए सीडी कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. touch Command

खाली फाइल का निर्माण करने के लिए टच कमांड का इस्तेमाल किया जाता है। हम चाहे तो एक खाली फाइल का निर्माण करने के बाद मल्टीपल खाली फाइल को एग्जीक्यूट करके बना सकते हैं।


  1. cat Command

लिनक्स सिस्टम में सीएटी कमांड मल्टीपरपज यूटिलिटी होता है। इसका इस्तेमाल चाहे तो फाइल बनाने के लिए भी किया जा सकता है या फिर फाइल के कंटेंट को दिखाने के लिए भी किया जा सकता है। इसके अलावा किसी एक फाइल के कंटेंट को किसी दूसरी फाइल में कॉपी करने के लिए भी कैट कमांड का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा भी बहुत सारे काम इसी कमांड के माध्यम से किए जाते हैं।

  1. rm Command

किसी फाइल को अगर रिमूव करने की आवश्यकता होती है, तो आरएम कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. cp Command

सीपी कमांड का इस्तेमाल फाइल को कॉपी करने के लिए या फिर डायरेक्टरी को कॉपी करने के लिए होता है।

  1. mv Command

किसी एक लोकेशन से किसी दूसरी लोकेशन में फाइल को मुव करने के लिए अथवा डायरेक्टरी को मूव करने के लिए उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल किया जा सकता है।

  1. rename Command

अगर आपको किसी फाइल के नाम में बदलाव करना है तो आप रिनेम कमांड का इस्तेमाल करते हैं। रिनेम कमांड फाइल के बड़े ग्रुप को रिनेम करने के लिए बहुत ही ज्यादा सहायक साबित होता है।

  1. head Command

फाइल के कंटेंट को दिखाने के लिए हेड कमांड का इस्तेमाल होता है। यह कमांड आपको फाइल की पहले की जो 10 लाइन है उसे दिखाने का काम करता है।

  1. tail Command

यह कमांड हेड कमांड से मिलता-जुलता हुआ कमांड है। इन दोनों ही कमांड के बीच में यह डिफरेंस है कि उपरोक्त कमांड फाइल कंटेंट की आखिरी की जो 10 लाइन है उसे दिखाता है और हेड कमांड फाइल कंटेंट के जो पहले की 10 लाइन है उसे दिखाता है। टेल कमांड एरर मैसेज को पढ़ने में बहुत ही सहायक साबित होता है।

  1. tac Command

अगर आपको किसी फाइल कंटेंट को रिवर्स ऑर्डर में देखना है तो आपको उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल करने की आवश्यकता होती है। यह कमांडर फाइल कंटेंट को नीचे से ऊपर दिखाने का काम करता है।

  1. more command

यह कमांड सीएटी कमांड के जैसा ही है क्योंकि इसका इस्तेमाल ठीक उसी प्रकार से फाइल कंटेंट को दिखाने के लिए किया जाता है जिस प्रकार से सीएटी कमांड दिखाता है। हालाकि इनके बीच में सिर्फ यही डिफरेंस है कि बड़ी साइज की फाइल के मामले में मोर कमांड स्क्रीन फुल आउटपुट दिखाता है। मोर कमांड में इंटर बटन, स्पेस बार जैसी बटन शामिल होती है।

  1. less Command

यह कमांड मोर कमांडो के जैसा ही है। इसमें कुछ एक्स्ट्रा फीचर जैसे कि एडजेस्टमेंट इन विद एंड हाइट ऑफ द टर्मिनल शामिल होते हैं।

  1. su Command

उपरोक्त कमांड दूसरे यूजर को एडमिनिस्ट्रेटिव एक्सेस प्रदान करता है। दूसरी भाषा में कहें तो यह लिनक्स सेल को दूसरे यूजर को एक्सेस करने की परमिशन देता है।

  1. id Command

यूजर आईडी और ग्रुप आईडी दिखाने के लिए आईडी कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. useradd Command

लिनक्स सरवर में से किसी यूज़र को हटाने के लिए या फिर यूज़र को ऐड करने के लिए यूजर एड कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. passwd Command

यूजर के पासवर्ड को चेंज करने के लिए या फिर यूजर के पासवर्ड को क्रिएट करने के लिए पासवर्ड कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. groupadd Command

नए यूजर ग्रुप का निर्माण करने के लिए उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल किया जाता है।

  1. cat Command

कैट कमांड का इस्तेमाल फिल्टर के तौर पर भी किया जा सकता है। फिल्टर करने के लिए इसमें पाइप अवेलेबल होती है।

  1. cut Command

किसी स्पेसिफिक फाइल के कॉलम को सिलेक्ट करने के लिए कट कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. grep Command

लिनक्स सिस्टम में उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है, जो कि एक फिल्टर है। उपरोक्त कमांड का पूरा नाम ग्लोबल रेगुलर एक्सप्रेशन प्रिंट होता है। यह फाइल का जो कंटेंट होता है उसे सर्च करने में बहुत ही सहायक साबित होता है।

  1. comm Command

दो फाइल की तुलना करने के लिए उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल किया जाता है। बाय डिफॉल्ट उपरोक्त कमांड 3 कॉलम को दिखाने का काम करता है। इसमें पहले वाले कॉलम में नॉन मैचिंग आइटम होते हैं, दूसरे वाले कॉलम में दूसरी फाइल के नॉन मैचिंग आइटम होते हैं और तीसरे वाले कॉलम में दोनों ही फाईल के आइटम अवेलेबल होते हैं।

  1. sed command

sed command कमांड को स्ट्रीम एडिटर के तौर पर भी जाना जाता है। इसका इस्तेमाल रेगुलर एक्सप्रेशन की सहायता से फाइल को एडिट करने के लिए किया जाता है। हालांकि यह परमानेंट फाइल को एडिट नहीं करता है। इसके माध्यम से जो फाइल एडिट की जाती है वह सिर्फ डिस्प्ले पर ही दिखाई पड़ती है और जो एक्चुअल फाइल है उस पर कोई भी प्रभाव नहीं डालती है।

  1. tee command

टी कमांड फाइल में स्टैंडर्ड आउटपुट डालता है और इसके साथ ही उसे फाइल में भी लिखने का काम करता है।

  1. tr Command

फाइल कंटेंट को ट्रांसलेट करने के लिए उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल होता है। जैसे कि लोवरकेस से अपरकेस।

  1. uniq Command

इस कमांड का इस्तेमाल शॉर्टलिस्ट को फॉर्म करने के लिए किया जाता है, जहां पर हर शब्द एक ही बार दिखाई पड़ता है।

  1. wc Command

किसी फाइल में कितनी लाइन मौजूद है, कितने शब्द मौजूद है, इसकी गिनती करने के लिए डब्लू सी कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. od Command

हेक्साडेसिमल, आकटल जैसे कैरेक्टर में फाइल के कंटेंट को दिखाने के लिए ओडी कमांड इस्तेमाल में लिया जाता है।

  1. sort Command

फाइल को अल्फाबेटिकल ऑर्डर में शार्ट करने के लिए शार्ट कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. gzip Command

फाइल साइज को truncate करने के लिए उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल होता है। यह एक कंप्रेसरसिंग टूल है।

  1. gunzip Command

फाइल को डीकंप्रेस करने के लिए गनशिप कमांड का इस्तेमाल होता है। इसे आप gzip कमांड का रिवर्स ऑपरेशन भी समझ सकते हैं।

  1. find Command

किसी डायरेक्टरी में स्पेसिफिक फाइल को सर्च करने के लिए फाइंड कमांड का इस्तेमाल होता है। यह कमांड अलग-अलग ऑप्शन को सपोर्ट करता है। जैसे कि बाई नेम के माध्यम से फाइल को ढूंढना अथवा आकार के माध्यम से या फिर तारीख के माध्यम से फाइल को सर्च करना।

  1. locate Command

लोकेट कमांड का इस्तेमाल फाइल को फाइल के नाम से सर्च करने के लिए किया जाता है। यह कुछ हद तक फाइंड कमांड से मिलता जुलता हुआ है। लोकेट कमांड डेटाबेस में फाइल को सर्च करता है, वही फाइंड कमांड फाइल सिस्टम में फाइल को सर्च करता है। फाइंड कमांड की तुलना में लॉकेट कमांड ज्यादा तेज होता है। यहां पर बताना चाहते हैं कि, यदि आपको लोकेट कमांड के माध्यम से फाइल को ढूंढना है, तो इसके लिए आपको हमेशा अपने डेटाबेस को अपडेट करके रखना चाहिए।

  1. date Command

डेट कमांड का इस्तेमाल तारीख, टाइम, टाइम जोन और अन्य चीजों को डिस्प्ले करने के लिए किया जाता है।

  1. cal Command

वर्तमान में जो महीना चल रहा है, उसके कैलेंडर को दिखाने के लिए उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल होता है। इस कमांड का इस्तेमाल करने पर वर्तमान में चल रहा महीना आपको हाईलेटेड तारीख के साथ दिखाई पड़ता है।

  1. sleep Command

उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल टर्मिनल को टाइम की स्पेसिफाइड अमाउंट के साथ होल्ड करने के लिए होता है।

  1. time Command

टाइम कमांड का इस्तेमाल टाइम को डिस्प्ले करने के लिए होता है ताकि कमांड एग्जीक्यूट हो सके।

  1. zcat Command

जो फाइल कंप्रेस हो चुकी है, उसे दिखाने के लिए उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. df Command

फाइल सिस्टम में जो डिस्क स्पेस इस्तेमाल किया गया है उसे दिखाने के लिए डीएफ कमांड का इस्तेमाल होता है। यह इस्तेमाल किए गए ब्लॉक के नंबर के तहत आउटपुट दिखाता है। इसके अलावा उपलब्ध ब्लॉक और माउंटेड डायरेक्टरी को भी यह दिखाने का काम करता है।

  1. mount Command

एक्सटर्नल डिवाइस फाइल सिस्टम को सिस्टम की फाइल सिस्टम से कनेक्ट करने के लिए माउंट कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. exit Command

वर्तमान में जो सेल मौजूद है उसमें से एग्जिट करने के लिए एग्जिट कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. clear Command

लिनक्स क्लियर कमांड का इस्तेमाल टर्मिनल स्क्रीन को क्लियर करने के लिए होता है।

  1. ip Command

लिनक्स आईपी कमांड आईपीकॉन्फ़िग कमांड का अपडेटेड वर्जन है। लिनक्स आईपी कमांड का इस्तेमाल आईपी ऐड्रेस को असाइन करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा इंटरफेस को इंटेलाइज करने के लिए तथा इंटरफ़ेस को डिसएबल करने के लिए भी आईपी कमांड का इस्तेमाल किया जा सकता है।

  1. ssh Command

एसएसएल प्रोटोकोल के माध्यम से रिमोट कनेक्शन को क्रिएट करने के लिए लिनक्स एसएसएच कमांड का इस्तेमाल होता है।

  1. pwd Command

लिनक्स के इस कमांड का इस्तेमाल वर्तमान में जिस डायरेक्टरी पर काम किया जा रहा है, उसकी लोकेशन को दिखाने के लिए किया जाता है।

  1. mkdir Command

यदि आपको किसी भी डायरेक्टरी में नई डायरेक्टरी का निर्माण करना है, तो आपको उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल करना चाहिए।

  1. rmdir Command

अगर हमें लिनक्स में किसी डायरेक्टरी को डिलीट करने की आवश्यकता होती है तो हमें उपरोक्त कमांड का इस्तेमाल करना पड़ता है।

लिनक्स कमांड पीडीएफ डाउनलोड कैसे करें?

यदि आप लिनक्स कमांड पीडीएफ फॉर्मेट में डाउनलोड करना चाहते हैं, तो इसके लिए सबसे पहले आपको इस लिंक पर क्लिक करना है। यह लिंक आपको एक थर्ड पार्टी वेबसाइट पर ले कर के चला जाएगा। थर्ड पार्टी वेबसाइट पर पहुंचने के बाद आपको डाउनलोड लिनक्स वाला ऑप्शन काले रंग के बॉक्स में मिलेगा, आपको इसी ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।

अब आपकी स्क्रीन पर एक अगला पेज ओपन होता है, जिसमें ऊपर आपको नीचे की तरफ झुका हुआ तीर वाला आइकन दिखाई पड़ता है, उसी पर आपको क्लिक कर देना होता है। ऐसा करते ही आपके डिवाइस में लिनक्स कमांड पीडीएफ फाइल डाउनलोड होना चालू हो जाती है।

जब डाउनलोडिंग की प्रक्रिया 100 परसेंट पूरी हो जाती है, तो पीडीएफ फाइल सक्सेसफुल डाउनलोड हो जाती है। अब आप डाउनलोड वाले फोल्डर में जा करके देख सकते हैं, वहां पर आपको लिनक्स कमांड की पीडीएफ फाइल मिल जाएगी, जिसे अब आप ओपन कर सकते हैं और लिनक्स कमांड की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

क्या लिनक्स कमांड सीखने से हैकिंग में आसान होगा?

जी हां! अगर आपके द्वारा लिनक्स कमांड को सीख लिया जाता है, तो इसके बाद अगर आप हैकिंग का प्रैक्टिकल करते हैं, तो यह कमांड आपके लिए हैकिंग करने में बहुत ही सहायक साबित हो सकते हैं, क्योंकि ऐसे बहुत सारे लिनक्स के कमांड हैं, जिसका इस्तेमाल करके सिस्टम हैकिंग करना आसान हो जाता है। हालांकि सिर्फ लिनक्स कमांड सीख लेने से ही आप सिस्टम हैक नहीं कर सकते हैं, बल्कि इसके लिए आपको हैकिंग करना आना भी चाहिए। हैकिंग करने के लिए जो भी हैकिंग तकनीक होती है, उनके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए।

लिनक्स की विशेषताएं

पोर्टेबल होने की वजह से लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम एक ही साथ में अलग-अलग हार्डवेयर पर काम करने की कैपेसिटी रखता है। लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम होता है। एक टाइम पर यह विभिन्न यूजर, मेमोरी, रेंडम एक्सेस मेमोरी और एप्लीकेशन को एक्सेस करने में सक्षम होता है। आप इसमें एक साथ में ही विभिन्न प्रोग्राम को चला सकते हैं, क्योंकि यह मल्टीप्रोग्रामिंग भी होता है तथा यह फ्री होता है, क्योंकि यह ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम प्लेटफॉर्म है।

FAQ:

लिनक्स को कब बनाया गया था?

Linus Torvalds के द्वारा साल 1991 में लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम को डिवेलप किया गया था। बताना चाहते हैं कि, इस ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाने वाले व्यक्ति फ्री ओपन सोर्स फाउंडेशन के डेवलपर भी थे।

5 लिनक्स कमांड के नाम हिंदी में लिखें?

pwd, cd, cat, is, mkdir

लिनक्स यूजर मोड के दो प्रकार क्या हैं विस्तार से बताएं?

लिनक्स यूजर मोड के दो प्रकार हैं, नॉर्मल मोड और करनैल मोड।

लिनक्स में पिंग कमांड का उपयोग कैसे करें?

Ctr + Alt + T बटन दबा कर के आप उबंटू और लीनक्स के अधिकतर वर्जन पर पिंग कमांड का इस्तेमाल कर सकते हैं अथवा आप चाहें तो एप्लीकेशन लिस्ट में टर्मिनल एप्लीकेशन के आइकन पर भी डबल क्लिक कर सकते हैं।

लिनक्स में फाइल जनरेट करने के लिए कौन सी कमांड है?

CAT कमांड का इस्तेमाल लिनक्स में फाइल बनाने के लिए किया जाता है।

यह भी पढ़े:

Hope की आपको All Linux Commands in Hindi (लिनक्स कमांड), का यह पोस्ट पसंद आया होगा तथा आपके लिए हेल्पफुल भी रहा होगा।

यदि इस पोस्ट से सम्बंधित आपके मन में कोई सुझाव या विचार है तो निचे कमेन्ट में बताये तःथा पोस्ट पसंद आने पर अपने दोस्तों के साथ साझा अवश्य करे।

Previous articleलिब्रे ऑफिस क्या है? (What is LibreOffice in Hindi)
Next articleDOS और DDOS अटैक क्या है? (DOS & DDOS Attack in Hindi)
Tanishq
नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम तनिष्क है और मैंने B.Sc (Computer Science) से Graduation किया है और में एक Certified Ethical Hacker हूँ। मुझे टेक्नोलॉजी और हैकिंग में काफ़ी रुचि है और में इस ब्लॉग पर Ethical Hacking, Cyber Security और Kali Linux से जुड़े आर्टिकल लिखता हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here